पुलवामा CRPF हमला: प्रेस कॉन्फ़्रेंस में हंस नहीं रही थीं प्रियंका गांधी

  • 15 फरवरी 2019
प्रियंका गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोशल मीडिया पर कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का एक 'स्लो-मोशन वीडियो' शेयर किया जा रहा है जिसके साथ लिखा है, "पुलवामा हमले के बाद प्रेस कॉन्फ़्रेंस में हंसती हुईं प्रियंका वाड्रा."

इस वीडियो को शेयर कर रहे लोगों ने यह ज़ाहिर करने की कोशिश की है कि ऐसे मुद्दों को लेकर प्रियंका गांधी गंभीर और संवेदनशील नहीं है.

हमने पाया कि उत्तर प्रदेश के लखनऊ में स्थित कांग्रेस पार्टी मुख्यालय पर गुरुवार देर शाम हुई प्रेस कॉन्फ़्रेंस के वीडियो को थोड़ा धीमा कर दिया गया है और इसे बिल्कुल ग़लत संदर्भ देकर शेयर किया जा रहा है.

कांग्रेस पार्टी द्वारा पहले से तय की गई प्रियंका गांधी की इस 'पहली प्रेस कॉन्फ़्रेंस' का पूरा वीडियो देखकर साफ़ हो जाता है कि ये दावा ग़लत है.

ट्विटर पर @iAnkurSingh नाम के यूज़र ने भी इसी तरह का एक वीडियो पोस्ट किया है.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Video Grab
इमेज कॉपीरइट What's App Grab

उनके इस ट्वीट को अब व्हॉट्सऐप पर शेयर किया जा रहा है और उनके द्वारा पोस्ट किए गए वीडियो को क़रीब 50 हज़ार बार देखा जा चुका है.

गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ़ के जवानों पर हुए चरमपंथी हमले की ख़बर आने के क़रीब चार घंटे बाद प्रियंका गांधी ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस की शुरुआत इस संदेश के साथ की थी:

"जैसा कि आपको मालूम है, ये कार्यक्रम राजनीतिक चर्चा के लिए रखा गया था. लेकिन पुलवामा में जो आतंकवादी हमला हुआ है, उसमें हमारे जवान शहीद हुए हैं. इसलिए हम ये उचित नहीं समझते कि हम अभी राजनीतिक चर्चा करें."

प्रियंका गांधी ने इसके बाद कहा, "हम सबको बहुत दुख हुआ है. शहीदों के परिजन हौसला बनाए रखें. हम कंधे से कंधा मिलाकर उनके साथ खड़े हैं."

इसके बाद पार्टी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और राज बब्बर के साथ प्रियंका गांधी ने कुछ देर का मौन रखा और 4 मिनट में ही वो प्रेस कॉन्फ़्रेंस स्थल से निकल गई थीं.

कई मीडिया रिपोर्ट्स में लिखा गया है कि प्रियंका गांधी ने पुलवामा हमले में जवानों की मौत की ख़बर के बाद अपनी प्रेस कॉन्फ़्रेंस रद्द की.

लेकिन पुलवामा हमले को लेकर जब देश में जगह-जगह मातम मनाया जा रहा है, कुछ सोशल मीडिया यूज़र इसमें राजनीति तलाश रहे हैं.

पढ़ें 'फ़ैक्ट चेक' की अन्य कहानियाँ:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार