पुलवामा हमले का मज़ाक़ उड़ाने वाला AMU छात्र निलंबित, पुलिस जाँच शुरू

  • 15 फरवरी 2019
बीबीसी इमेज कॉपीरइट SM Viral Tweet Grab

उत्तर प्रदेश स्थित अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जिस छात्र ने पुलवामा चरमपंथी हमले के बाद ट्वीट किया था: 'How is the Jaish, Great Sir', उसे यूनिवर्सिटी प्रशासन ने निलंबित कर दिया है.

साथ ही इस छात्र के ख़िलाफ़ मिली शिकायतों के आधार पर स्थानीय पुलिस ने मामले की जाँच शुरू कर दी है.

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में पढ़ रहे इस छात्र ने 14 फ़रवरी की शाम भारत प्रशासित कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ़ के क़ाफ़िले पर हुए चरमपंथी हमले के बाद एक विवादित ट्वीट किया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस विवादित ट्वीट को सोशल मीडिया पर लाखों बार शेयर किया जा चुका है और अधिकांश लोगों ने इस ट्वीट के बारे में लिखा है कि ये 'संवेदनहीनता' से भरा हुआ है और इसे पढ़कर लगता है कि छात्र के मन में तथाकथित चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के लिए सहानुभूति है.

जैश-ए-मोहम्मद वही चरमपंथी संगठन है जिसने गुरुवार शाम को पुलवामा में केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल के क़ाफ़िले पर आत्मघाती हमला करने की ज़िम्मेदारी ली थी.

इस हमले में अब तक 45 से ज़्यादा जवानों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जाँच शुरू, कार्रवाई करने का दावा

एएमयू के प्रवक्ता डॉक्टर शाफ़े क़िदवई ने बीबीसी को बताया, "जिनके ट्वीट को सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है वो एएमयू के ही स्टूडेंट हैं और यूनिवर्सिटी प्रशासन ने उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है. छात्र के इस ट्वीट के बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन उनके व्यवहार की जाँच कर रहा है."

डॉक्टर क़िदवई ने कहा, "ऐसे संवेदनशील मामलों पर यूनिवर्सिटी की 'ज़ीरो टोलरेंस' की नीति है. हम किसी भी छात्र का ऐसा रवैया बर्दाश्त नहीं करेंगे."

वहीं अलीगढ़ पुलिस का कहना है कि उन्होंने इस मामले में एफ़आईआर दर्ज करके जाँच शुरू कर दी है.

अलीगढ़ के अपर पुलिस अधीक्षक नीरज जादौन ने बीबीसी को बताया, "हमें विवादित ट्वीट के बारे में कई शिकायतें मिली थीं. हमने इसके ख़िलाफ़ केस दर्ज कर लिया है. जाँच शुरू हो चुकी है. फ़िलहाल हम उस छात्र की सही पहचान करने में जुटे हैं. पहचान पूरी होने के बाद इस मामले में कार्रवाई ज़रूरी की जाएगी."

जिस छात्र ने ये ट्वीट किया था उसका ट्विटर अकाउंट बंद हो चुका है. हालांकि ये स्पष्ट नहीं है कि ट्विटर अकाउंट छात्र ने ख़ुद बंद किया या लोगों की शिकायत पर ट्विटर ने ये कार्रवाई की है.

वायरल डायलॉग

भारतीय फ़ौज पर आधारित हिन्दी फ़िल्म उरी का एक मशहूर डायलॉग है: 'How is the Josh?, High Sir.'

फ़िल्म रिलीज़ होने के बाद ये 'जोशीला' डायलॉग काफ़ी वायरल हुआ था और कई ऐसे वीडियो सोशल मीडिया पर आए थे जिनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बीजेपी के कई बड़े नेताओं को यह डायलॉग बोलते देखा गया था.

इस फ़िल्मी डायलॉग के तर्ज़ पर ही एएमयू के छात्र ने वो विवादित ट्वीट किया था जिसे लेकर सोशल मीडिया पर लोगों का ग़ुस्सा फूट पड़ा.

हालांकि ये अकेला ऐसा ट्वीट नहीं है जिसे सोशल मीडिया पर 'देश विरोधी' बताकर शेयर किया जा रहा है.

न्यूज़ चैनल 'एनडीटीवी' की एक पत्रकार का फ़ेसबुक पोस्ट भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस पोस्ट में उन्होंने #HowstheJaish के साथ पीएम मोदी की आलोचना की थी.

इमेज कॉपीरइट SM Viral FB Post

अपनी पत्रकार के इस फ़ेसबुक पोस्ट की एनडीटीवी ने कड़ी आलोचना की है और उन्हें तत्काल प्रभाव से दो हफ़्ते के लिए सस्पेंड कर दिया है.

एक ट्वीट में एनडीटीवी ने लिखा है कि संस्थान की जाँच कमेटी बताएगी कि इस मामले में क्या एक्शन लिया जाएगा.

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इन विवादित ट्वीट्स की 'संवेदनहीनता' को एक ख़ास धार्मिक वर्ग से जोड़ने की भी कोशिश की है.

पढ़ें 'फ़ैक्ट चेक' की अन्य कहानियाँ:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार