भारत ने अगर हमला किया तो पाकिस्तान सोचेगा नहीं, जवाब देगा- इमरान ख़ान

  • 19 फरवरी 2019
इमरान ख़ान, प्रधानमंत्री पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट AFP/GettyImages

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने पुलवामा हमले को लेकर पाकिस्तान पर लगाए जा रहे आरोपों पर सख़्त एतराज़ जताया है और कहा है कि अगर पाकिस्तान पर हमला होता है तो पाकिस्तान भी इसका जवाब देगा.

इमरान ख़ान ने 14 फ़रवरी को भारत प्रशासित कश्मीर के पुलवामा ज़िले में सीआरपीएफ़ काफ़िले पर हमले में 40 जवानों के मारे जाने की घटना पर पहली बार कोई प्रतिक्रिया दी है.

इस हमले की ज़िम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी. भारत ने इस हमले के लिए सीधे तौर पर पाकिस्तान को ज़िम्मेदार ठहराया था.

मगर इमरान ख़ान ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा, ''पहले तो आपने बिना सबूत के इल्ज़ाम लगा दिया. पाकिस्तान के लिए सऊदी के क्राउन प्रिंस का दौरा इतना अहम था और हम ये कराते? जब पाकिस्तान स्थायित्व की तरफ़ बढ़ रहा तो हम ऐसा क्यों करेंगे?''

पाकिस्तानी पीएम ने कहा, ''पाकिस्तान को इससे क्या फ़ायदा है? अगर हर बार आपको यही करना है तो आप बार-बार यही करते रहेंगे. मैं बार-बार कह रहा हूं कि ये नया पाकिस्तान है. पाकिस्तान तो ख़ुद ही दहशतगर्दों से परेशान रहा है.''

पाकिस्तानी पीएम ने कश्मीर मसले पर भारत को बातचीत के लिए आमंत्रित किया. उन्होंने कहा, ''मैं आपको ऑफ़र कर रहा हूं कि आप आइए और जांच कीजिए. अगर कोई पाकिस्तान की ज़मीन का इस्तेमाल कर रहा है तो हमारे लिए दुश्मन है.''

इमरान ख़ान ने कहा, ''दहशतगर्दी पूरे इलाक़े की समस्या है. हमारा सौ अरब डॉलर इस दहशतगर्दी में बर्बाद हुआ है. हिन्दुस्तान में एक नई सोच आनी चाहिए. आख़िर वो क्या वजह है कि कश्मीरियों में मौत का ख़ौफ़ भी ख़त्म हो गया है.''

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

पाकिस्तान पर हमला हुआ तो वो भी जवाब देगा

इमरान ने कहा कि भारत की कार्रवाई करने की सूरत में उनके पास जवाब देने के अलावा कोई विकल्प नहीं होगा.

ख़ान ने कहा, ''बातचीत से ही मसले का हल होगा और क्या हिन्दुस्तान को इसके बार में नहीं सोचना चाहिए? भारत के मीडिया में और राजनीति में सुनने को मिल रहा है कि पाकिस्तान से बदला लेना चाहिए इसलिए हमला कर दे. अगर आप समझते हैं कि पाकिस्तान पर हमला करेंगे तो पाकिस्तान सोचेगा? सोचेगा नहीं, पाकिस्तान जवाब देगा.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लेकिन उन्होंने ये भी माना है, "लेकिन उसके बाद चीज़ें कहां जाएंगी? हम सब जानते हैं कि युद्ध शुरू करना आसान है लेकिन उसे ख़त्म करना किसी के हाथ में नहीं होगा. ये चीज़ें कहां जाएंगी, ये केवल अल्लाह जानता है. "

इमरान ने अपनी बातों के साथ ये भी उम्मीद जताई है कि बेहतर समझ अपना काम करेगी.

उन्होंने कहा, "हमलोग बुद्धिमता दिखाएंगे और बातचीत के ज़रिए समस्या सुलझाएंगे, जैसा कि अफ़ग़ानिस्तान के साथ हुआ है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार