पुलवामा हमले की पाकिस्तान ने निंदा तक नहीं कीः जेटली

अरूण जेटली

इमेज स्रोत, Reuters

पुलवामा हमले को लेकर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान ख़ान के दावों को ख़ारिज करते हुए भारत के वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आरोप लगाया कि पाकिस्तान ने तो हमले की निंदा तक नहीं की है.

सबूत देने के मसले पर अरुण जेटली ने कहा, " जब अपराध करवाने वाला जब ये स्वीकार कर रहा है तो फिर ये अप्रत्यक्ष इंटेलिजेंस देने का क्या मतलब है. "

उन्होंने कहा," पाकिस्तान की धरती का प्रयोग इस आतंक के लिए किया गया है, जो पहले भी किया जाता रहा है. इसलिए पाकिस्तान का जो स्टैंड है उसकी पूरे विश्व में कोई विश्वसनीयता नहीं है."

इससे पहले इमरान ख़ान की बातों पर भारत के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि जिस तरह से इमरान ख़ान ने हमले के पीछे पाकिस्तान की भूमिका से इनकार किया है, उसमें अचरज जैसी बात नहीं है.

भारतीय विदेश मंत्रालय के मुताबिक पाकिस्तान हमेशा आतंकी हमले में किसी संलिप्ता से इनकार करता रहा है. मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने जैश-ए-मोहम्मद के दावे की भी उपेक्षा की है.

भारत के मुताबिक जैश-ए-मोहम्मद और उसके नेता मसूद अज़हर का ठिकाना पाकिस्तान में है और ये बात किसी से छुपी नहीं है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने इस मामले पर भारत को सबूत देने को कहा ताकि जांच में मदद कर सके.

भारतीय विदेश मंत्रालय के मुताबिक ये एक कमजोर बहाना है, क्योंकि 26 नवंबर, 2011 के मुंबई हमले के सबूत पाकिस्तान को देने के बाद भी दस साल बाद भी मामले में कोई प्रगति नहीं हुई है.

इमेज स्रोत, EPA

चुनाव से जोड़ना दुखद बात

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा कि पाकिस्तान को नया पाकिस्तान कहा है.

भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में पूछा है कि नया पाकिस्तान कैसा पाकिस्तान है जिसमें मौजूदा सरकार के मंत्री हफ़ीज सईद जैसी आतंकी के साथ सार्वजनिक तौर पर प्लेटफ़ार्म शेयर करते हैं.

हालांकि भारत ने बातचीत के पहल के बारे में कहा कि भारत हमेशा विस्तृत द्विपक्षीय बातचीत के लिए तैयार है.

इमेज स्रोत, Getty Images

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने पुलवामा हमले को भारत के आने वाले चुनाव से जोड़कर भी देखा था, जिसको भारतीय विदेश मंत्रालय ने बेहद दुखद बताया है.

भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बरगलाना बंद करे और पुलवामा हमले के दोषियों पर ऐसी कार्रवाई करे जो विश्वसनीय हो और लोगों को नज़र भी आए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)