पुलवामा हमले के बाद अक्षय कुमार ने पाकिस्तान का समर्थन किया? क्या है सच

  • 20 फरवरी 2019
अक्षय कुमार इमेज कॉपीरइट Getty Images

अभिनेता अक्षय कुमार की एक वीडियो क्लिप काफी वायरल हो रही है, जिसमें वो कथित रूप से कह रहे हैं कि चरमपंथ पाकिस्तान में नहीं बल्कि भारत में है.

इस वीडियो के वायरल होने के बाद #BoycottAkshayKumar हैशटैग चलाया जा रहा है.

ट्वीटर पर कई लोग इस वीडियो को शेयर कर रहे हैं और अक्षय कुमार को राष्ट्र विरोधी बता रहे हैं. वो लोगों से अक्षय कुमार का बहिष्कार करने की अपील भी कर रहे हैं.

इन ट्वीट्स में दावा किया जा रहा है कि कुमार ने कहा, "पाकिस्तान चरमपंथी देश नहीं है, बल्कि भारत में चरमपंथी तत्व हैं."

इस वायरल वीडियो में अक्षय कुमार कह रहे हैं कि "भारत में भी चरमपंथ है."

पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के "दुनिया न्यूज़" चैनल ने भी एक ऐसी ही स्टोरी छापी थी, जिसमें दावा किया गया था कि अक्षय कुमार ने चरमपंथी देशों में पाकिस्तान का नाम होने से इनकार किया है और कहा है कि चरमपंथ पूरी दुनिया में फैला है.

इमेज कॉपीरइट dunyanews.tv

हमारी जांच में सामने आया कि इस वीडियो का पुलवामा हमले से कोई लेना-देना नहीं है.

वीडियो की सच्चाई

ये वीडियो 2015 का है. उस वक्त अक्षय कुमार अपनी फिल्म "बेबी" का प्रमोशन कर रहे थे. प्रमोशन के दौरान ही उन्होंने चरमपंथ के बारे में ये बयान दिया था.

असली वीडियो में अक्षय कुमार ने कहा है, "चरमपंथ किसी देश में नहीं होता. उसके कुछ एलिमेंट होते हैं. चरमपंथ भारत में भी है, अमरीका में भी और ऑस्ट्रेलिया, पेरिस और पेशावर में भी. चरमपंथ कुछ लोग फैलाते हैं और कोई भी देश उसका समर्थन नहीं करता."

फिलहाल अक्षय कुमार ने लोगों से अपील की है कि वो पुलवामा हमले में मारे गए सैनिकों के परिवार वालों के लिए राहत कोष "भारत के वीर" में योगदान दें.

कुमार ने इस फर्ज़ी वीडियो पर अबतक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार