भारत आए सऊदी प्रिंस को एयरपोर्ट लेने पहुंचे मोदी

  • 20 फरवरी 2019
इमेज कॉपीरइट MEAIndia

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान दो दिवसीय दौरे पर भारत पहुंच गए हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एयरपोर्ट पहुंचकर उनका स्वागत किया है.

प्रिंस सलमान इस दौरे से ठीक पहले दो दिन के पाकिस्तान दौरे पर भी गए थे.

पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़े तनाव का असर प्रिंस सलमान के इस पहले द्विपक्षीय भारत दौरे पर भी पड़ सकता है.

क्राउन प्रिंस दुनिया की सबसे तेज़ी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल भारत को अपना तेल अधिक मात्रा में बेचना चाहते हैं.

बुधवार को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रिंस सलमान के बीच वार्ता होगी तो उसमें पुलवामा हमले पर भी विस्तृत चर्चा हो सकती है.

सोमवार को इस्लामाबाद में सऊदी विदेश मंत्री आदेल अल ज़ुबैर ने कहा था, "हमारा मक़सद दोनों देशों, पड़ोसी देशों के बीच तनाव को कम करना है और ये देखना है कि क्या शांति से मतभेद ख़त्म करने का कोई रास्ता हो सकता है."

इमेज कॉपीरइट Saudi Embassy
Image caption भारत और सऊदी अरब के रिश्ते काफ़ी पुराने और मज़बूत हैं

पुलवामा हमले से पहले सऊदी राजकुमार की यात्रा का मुख्य एजेंडा भारत को तेल की बिक्री और आर्थिक निवेश ही था.

लेकिन अब बदले माहौल में राजनीतिक चर्चाएं भी होंगी.

भारत इस समय अपने कुल तेल आयात का बीस प्रतिशत सऊदी अरब से करता है. भारत सबसे ज़्यादा तेल इराक़ से ख़रीदता है.

इससे पहले जब सऊदी प्रिंस रविवार को पाकिस्तान पहुंचे थे तो वहां उनका ज़ोरदार स्वागत हुआ था.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पाकिस्तान की यात्रा के बाद भारत आए हैं

पाकिस्तान की वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने उन्हें हवा में सलामी दी थी और प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ख़ुद कार चलाकर उन्हें एयरपोर्ट से अपने घर तक लेकर गए थे.

सऊदी प्रिंस ने पाकिस्तान के साथ अपने रिश्तों को बेहद क़रीबी बताते हुए कहा था कि सऊदी अरब भविष्य में भी पाकिस्तान का मज़बूत सहयोगी बना रहना चाहेगा.

उन्होंने पाकिस्तान के साथ बीस अरब डॉलर के निवेश समझौते भी किए थे. इसे अभूतपूर्व आर्थिक निवेश माना जा रहा है.

यही नहीं प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की गुज़ारिश पर उन्होंने सऊदी जेलों में बंद पाकिस्तानी नागरिकों को रिहा करने का आदेश भी दिया.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान में तनाव बढ़ा हुआ है

अब जब वो भारत आएं हैं तो भारत और पाकिस्तान के रिश्तों के तनाव का असर उनकी इस व्यापारिक यात्रा पर हो सकता है.

सऊदी अरब के लिए दोनों ही देशों से रिश्ते अहम हैं. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बुधवार को होने वाली वार्ता के बाद आने वाले साझा बयान पर सभी की नज़रें बनी हुई हैं.

भारत पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय समुदाय में अलग-थलग करने की कोशिशों में जुटा हुआ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए