पुलवामा के बाद कश्मीरी छात्रों पर हमलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

  • 22 फरवरी 2019
सुप्रीम कोर्ट इमेज कॉपीरइट Getty Images

देश के कई हिस्सों में कश्मीरी छात्रों के ख़िलाफ़ हिंसा और पलायन के बारे में सुप्रीम कोर्ट ने 10 राज्यों को नोटिस भेजा है.

सुप्रीम कोर्ट में वकील कॉलिन गोन्सालविस ने एक जनहित याचिका दायर की थी, उसकी सुनवाई की शुरूआत करते हुए ये नोटिस जारी किए गए हैं.

याचिका में मांग की गई थी कि अदालत को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए क्योंकि सरकार इसे रोकने के लिए ठोस कदम नहीं उठा रही है.

पिछले हफ़्ते पुलवामा में कार बम हमले में केंद्रीय रिज़र्व पुलिस फ़ोर्स (सीआरपीएफ़) के 40 से अधिक जवानों की मौत के बाद, देश के कई हिस्सों से कश्मीरी छात्रों और व्यापारियों को पीटे जाने और धमकियां देने की ख़बरें लगातार आ रही हैं.

जिन 10 राज्यों को नोटिस भेजा गया है, उनमें पंजाब, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, जम्मू और कश्मीर, हरियाणा, मेघालय, पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ शामिल हैं.

देहरादून, पटना, यवतमाल, पुणे और पश्चिम बंगाल के नदिया से ख़बरें मिल रही हैं कि छात्रों और व्यापारियों को हिंसा का सामना करना पड़ा है.

सरकार की ओर से अदालत में पेश हुए एटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के पिछले आदेशों का पालन करते हुए नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं, उन्होंने कहा कि सुरक्षा निर्देश जारी किए गए हैं और एहतियाती कदम उठाए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Uttarakhand Police @Twitter

सरकार का इनकार

देहरादून जहां से बड़ी संख्या में छात्रों ने भागकर पंजाब में शरण ली थी और उनमें से कई छात्र अब कश्मीर वापस चले गए हैं.

लेकिन देहरादून में पुलिस ने कहा था छात्रों के साथ मार-पीट की कोई घटना नहीं हुई है.

राजस्थान के कई शिक्षण संस्थानों ने यह घोषणा की थी कि वे भविष्य में कश्मीरी छात्रों को अपने यहां दाख़िला नहीं देंगे.

इसी तरह मेघायल के राज्यपाल तथागत रॉय ने कश्मीर और कश्मीरियों का बहिष्कार करने की अपील की थी, जिस पर उनकी बहुत आलोचना भी हुई.

दिल्ली में हुई एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, "कुछ लोग जो ये कहना चाह रहे हैं कि कश्मीरी छात्र-छात्राओं पर हमले हो रहे हैं, ऐसा नहीं है. ये मैं साफ़ कर दूं कि मैं सभी संस्थानों के संपर्क में हूँ और ऐसी घटनाएं नहीं हुई हैं."

केंद्रीय मंत्री के इस बयान पर कश्मीर के स्थानीय लोगों ने आपत्ति जताई है और सोशल मीडिया पर इसकी चर्चा हो रही है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
पुलवामा हमले के बाद लोगों के निशाने पर बेगुनाह कश्मीरी छात्र

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार