असमः ज़हरीली शराब से मरने वालों की संख्या 143 हुई

  • दिलीप कुमार शर्मा
  • असम से, बीबीसी हिंदी के लिए
असम शराब पीने से मौत

इमेज स्रोत, Ritupallab Saikia

असम में ज़हरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 143 हो गई है. इसकी पुष्टि राज्य के आबकारी विभाग के मंत्री परिमल शुक्ल वेद ने बीबीसी की है.

अधिकारियों के अनुसार 300 से ज़्यादा लोग घायल हैं जिनमें कई की हालत गंभीर बनी हुई है.

ये सभी पीड़ित गोलाघाट और जोरहाट ज़िले के चाय बागानों में काम करते थे. मृतकों में कई महिलाएं भी शामिल हैं.

गोलाघाट ज़िले के पुलिस अधीक्षक पुष्कर सिंह ने बीबीसी को बताया कि अभी भी गोलाघाट और जोरहाट के मेडिकल कॉलेजों में बड़ी संख्या में लोग भर्ती हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images

बागान से लौटने के बाद पी थी शराब

गोलाघाट अस्पताल में इलाज करा रहे 35 साल के बीरेन घटवार ने बीबीसी को बताया कि गुरुवार को चाय बागान से लौटने के बाद उन्होंने शराब पी थी.

उन्होंने बताया, "मैंने आधा लीटर शराब खरीदी थी और खाना खाने से पहले इसे पिया था. शुरू में सब कुछ सामान्य था लेकिन कुछ देर बाद सिर में तेज़ दर्द होने लगा."

वो कहते हैं "सिरदर्द इतना बढ़ गया कि मैं न खाना खा पाया और न ही सो पाया."

इमेज स्रोत, Ritupallab Saikia

इमेज कैप्शन,

अस्पताल में बीरेन घटवार

बीरने सुबह तक बेचैन होने लगे और उनकी छाती में भी तेज़ दर्द उठने लगा. इसके बाद उनकी पत्नी उन्हें चाय बागान के अस्पताल ले गईं.

यहां शुरुआती इलाज के बाद स्थिति नहीं संभलने पर बीरेन को ज़िला अस्पताल रेफर कर दिया गया.

इमेज स्रोत, Ritupallab Saikia

'शराब पीना परंपरा का हिस्सा है'

असम में चाय बागान के काम करने वाले मज़दूर अक्सर अपनी थकान मिटाने के लिए काम से लौट कर शाम के वक़्त शराब पीते हैं.

जिस शराब के पीने से इतनी संख्या में लोगों की मौत हुई है, वो स्थानीय लोगों के द्वारा ही बनाई गई थी.

जानकार बताते हैं कि ये शराब, वहां मिलने वाली देसी शराब से सस्ती और ज़्यादा नशीली होती है. पांच लीटर शराब के लिए उन्हें महज 300 से 400 रुपए चुकाने होते हैं.

वीडियो कैप्शन,

आख़िर देसी शराब ज़हरीली कैसे बनती है?

एसपी पुष्कर सिंह ने बताया कि इसे बनाने में मिथाइल और यूरिया का इस्तेमाल किया जाता है.

वो कहते हैं कि इन रासायनों का इस्तेमाल ज़्यादा कर देने से कभी-कभी शराब ज़हरीली बन जाती है.

इमेज स्रोत, Getty Images

राज्य में निजी स्तर पर बनाया गया शराब बेचना ग़ैर-कानूनी है. आबकारी विभाग के मंत्री परिमल शुक्ल वेद ने बीबीसी से कहा कि इन मौतों की जांच के लिए सीनियर आईएएस अफसर की अगुवाई में एक टीम बनाई गई है.

मंत्री ने कहा, "निजी स्तर पर बनाई गई शराब पर रोक लगाने के लिए कानून कड़े किए गए हैं. सज़ा के प्रवाधान भी कड़े किए गए हैं. कइयों को गिरफ़्तार किया गया है. हालांकि ये यहं का पुराना रिवाज है, जिसे तुरंत बदला नहीं जा सकता है."

इमेज स्रोत, Dilip Kumar Sharma/BBC

इमेज कैप्शन,

श्मशान में मृतकों का होता अंतिम संस्कार

इस मामले में एक अधिकारी सस्पेंड किए गए हैं.

ज़हरीली शराब से मौत का यह पहला मामला नहीं है. इससे पहले पिछले साल भी ज़हरीली शराब पीने से यहां सात लोगों की जान गई थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)