नेशनल वॉर मेमोरियल से जुड़ी ये ख़ास बातें

  • 26 फरवरी 2019
नेशनल वॉर मेमोरियल इमेज कॉपीरइट EPA

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नई दिल्ली में नेशनल वॉर मेमोरियल का उद्घाटन करते हुए कांग्रेस और गांधी परिवार पर निशाना साधना नहीं चूके.

उन्होंने इस मौके पर ये कहा है कि कांग्रेस और गांधी परिवार ने कभी सेना की परवाह नहीं की. उन्होंने ये भी कहा कि देश को सोचना होगा कि देश पहले है या परिवार पहले?

हम आपको इस मौके पर बताते हैं नेशनल वार मेमोरियल की ख़ास बातों के बारे में-

नेशनल वॉर मेमोरियल को नई दिल्ली के इंडिया गेट परिसर में बनाया गया है. यह विभिन्न युद्धों में मारे गए भारतीय सैनिकों की याद में बनाया गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमर जवान ज्योति के पास 40 एकड़ में फैले इस वॉर मेमोरियल को 176 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

नेशनल वॉर मेमोरियल में अमर जवान ज्योति की तरह ही हर वक्त ज्योति चलती रहेगी.

इसमें 1962 के बाद से अब तक विभिन्न युद्धों में मारे गए 25,942 सैनिकों के नाम दर्ज हैं. इनके नाम मेमोरियल परिसर की 16 दीवारों पर दर्ज किए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इसे महाभारत के चक्रव्यूह के अंदाज़ में चार चक्र में बनाया गया है- अमर चक्र, वीरता चक्र, त्याग चक्र और रक्षक चक्र.

इसके अलावा इस मेमोरियल में राम सुतार के बनाए तांबे की छह म्युरल भी बनाए गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए