#Balakot: भारतीय वायु सेना की कार्रवाई पर भारत सरकार ने क्या कहा

  • 26 फरवरी 2019
#Balakot: विदेश सचिव विजय गोखले ने IAF की कार्रवाई पर क्या कहा इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया है कि भारतीय वायुसेना ने ख़ुफ़िया जानकारी के बाद नियंत्रण रेखा पार कर जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े कैंप को तबाह कर दिया है.

विदेश सचिव ने मंगलवार तड़के हुई कार्रवाई के बारे में ये जानकारी दीः 

  • विश्वसनीय सूचना मिली थी कि जैश-ए-मोहम्मद देश के दूसरे हिस्सों में आत्मघाती हमले की तैयारी कर रहा था और इसके लिए फ़िदायीन जिहादियों को प्रशिक्षण दिए जा रहे थे.
  • ऐसे में किसी संभावित हमले को रोकने के लिए जवाबी कार्रवाई करना बिल्कुल ज़रूरी हो गया.
  • मंगलवार तड़के भारत ने बालाकोट में जैश के सबसे बड़े ट्रेनिंग कैंप को निशाना बनाया.
  • इस अभियान में जैश के चरमपंथियों, प्रशिक्षकों, वरिष्ठ कमांडरों और वहाँ प्रशिक्षण ले रहे जिहादियों को ख़त्म कर दिया गया.
  • बालाकोट के इस कैंप का मुखिया मौलाना यूसुफ़ अज़हर उर्फ़ उस्ताद ग़ौरी था जो कि जैश प्रमुख मसूद अज़हर का संबंधी है.
इमेज कॉपीरइट GoI
  • इस हमले में विशेष तौर पर केवल जैश के शिविर को निशाना बनाया गया और विशेष ध्यान रखा गया कि आम लोग इसकी चपेट में ना आएँ.
  • ये कैंप घने जंगलों में एक पहाड़ी पर था जो आम आबादी वाले इलाक़े से दूर है.
  • ये हमला थोड़ी देर पहले हुआ है इसलिए अभी विस्तृत ब्यौरे की प्रतीक्षा की जा रही है.
  • 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने आत्मघाती हमला किया था, जिसमें भारतीय सेना के 40 जवान मारे गए थे.
  • जैश-ए-मोहम्मद पिछले दो दशक से पाकिस्तान में सक्रिय है और इसका नेतृत्व मसूद अज़हर कर रहा है जिसका मुख्यालय बहावलपुर में है.
  • इस संगठन ने कई हमलों को अंजाम दिया है, जिसमें भारतीय संसद, पठानकोट का हमला शामिल है.
  • इनके ट्रेनिंग कैंप पाकिस्तान और "पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर" में चलते हैं, जिसे पाकिस्तान समय-समय पर जगह मुहैय्या कराता आया है, हालांकि पाकिस्तान संगठन के अस्तित्व को ख़ारिज करता रहा है.
  • इन कैंपों में हज़ारों जिहादियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है, जो बिना पाकिस्तान की सरकार की जानकारी से संभव नहीं है.

यह भी पढ़ें | वायुसेना सूत्रों ने बताया कैसे हुई कार्रवाई

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार