भारत-पाकिस्तान के तल्ख़ होते रिश्ते पर डोनल्ड ट्रंप ने क्या कहा?

  • 28 फरवरी 2019
ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने उम्मीद जताई है कि भारत और पाकिस्तान दोनों एशियाई देशों के बीच जारी तनाव जल्द कम हो जाएगा.

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन से चल रही मुलाक़ात के बाद वियतनाम में एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान ट्रंप ने कहा, '' भारत और पाकिस्तान को लेकर जल्द 'अच्छी खबर' आने वाली है. हमें भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव की खबर मिली. उम्मीद करता हूं कि ये जल्द खत्म हो जाएगा. दुर्भाग्य है कि दशकों से दोनों देशों के बीच ऐसी स्थिति बनी हुई है. दोनों ही देश एक-दूसरे को पसंद नहीं करते. हम इन दोनों देशों के बीच मसले सुलझाने को लेकर काम करते रहे हैं. उम्मीद है कि दोनों देशों के बीच अमन और शांति लाने में सफ़ल होंगे.''

मंगलवार को भारत ने पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के बालाकोट में चरमपंथी संगठनों के ठिकानों को हवाई हमले से ध्वस्त करने का दावा किया था. इसके बाद पाकिस्तान ने बुधवार को भारत प्रसाशित कश्मीर में भारतीय सैन्य ठिकानों पर हमला किया.

पाकिस्तान का कहना है, "हमने हमले अपने बचाव में किए हैं. पाकिस्तान की सेना के पास जवाब देने के अलावा कोई चारा नहीं था."

इस हवाई हमले में भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान पाकिस्तान के क़ब्जे में है. भारत ने पाकिस्तान से विंग कमांडर अभिनंदन की सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने को कहा है.

इमरान खान ने क्या कहा?

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा कि दोनों मुल्कों के पास जो हथियार हैं और उन हथियारों के साथ युद्ध में जाया गया तो अंजाम का अंदाज़ा लगाया जा सकता है.

उन्होंने कहा, ''हमारी मजबूरी थी कि हम प्रतिक्रिया दें. कोई भी संप्रभु मुल्क ऐसे चुप नहीं बैठ सकता है. हम चुप रहकर ख़ुद को अपराधी नहीं बना सकते थे. हमने बुधवार को जवाब दिया और बताया कि आप हमारे मुल्क में आ सकते हैं तो मैं भी आ सकता हूं.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इमरान ख़ान ने कहा, ''हम जानते हैं एक जो इस दुनिया से चले गए और जो जख्मी हुए उनके घर वालों पर क्या गुजर रही है. इसलिए हमने सीधा-सीधा हिंदुस्तान को ऑफर किया कि जिस तरह की भी आप जांच चाहते हैं तो पाकिस्तान उसके लिए तैयार है. यह पाकिस्तान के इंटरेस्ट में नहीं है कि पाकिस्तान की ज़मीन इस्तेमाल की जाए. पुलवामा को लेकर हम जांच के लिए तैयार थे. अगर आप हमें इसकी जांच के लिए सबूत देते तो हमारी मजबूरी होगी उस पर जवाब देना. लेकिन जब आप एक्शन लेंगे तो जवाबी कार्रवाई करना पड़ेगा.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार