राहुल गांधी की गुजरात रैली में 'मोदी-मोदी' के नारे लगने का सच

  • 19 मार्च 2019
@INCGujarat इमेज कॉपीरइट Twitter/@INCGujarat

सोशल मीडिया पर एक वायरल वीडियो के ज़रिए ये दावा किया जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की हालिया गुजरात रैली में 'मोदी-मोदी' के नारे लगाए गए थे.

वायरल वीडियो में ओबीसी नेता और गुजरात से कांग्रेस पार्टी के विधायक अल्पेश ठाकोर मंच का संचालन करते दिखते हैं.

वीडियो में दिखता है कि ठाकोर मंच से जनता को 'राहुल गांधी ज़िंदाबाद' के नारे लगाने को बोल रहे हैं, लेकिन जवाब में 'मोदी-मोदी' के नारे सुनाई देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Facebook Search

41 सेकेंड के इस वीडियो को देखकर ऐसा लगता है कि अल्पेश ठाकोर लोगों के इस जवाब से नाराज़ हो जाते हैं और लोगों से चुप होने को कहते हैं.

'अगले 20 साल तक मोदी' जैसे दक्षिणपंथी रुझान वाले कई बड़े फ़ेसबुक पेज हैं जिन्होंने बीते तीन दिनों में इस वीडियो को शेयर किया है और लाखों बार इस वीडियो को देखा जा चुका है.

लेकिन ये वीडियो फ़र्ज़ी है और एडिटिंग की मदद से इस भ्रामक वीडियो को तैयार किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Twitter/@INCGujarat

दो साल पुराने वीडियो से छेड़छाड़

बीबीसी ने पड़ताल में पाया कि ये वीडियो राहुल गांधी की हालिया गुजरात रैली का नहीं, बल्कि दो साल पुराना है.

ये वीडियो गुजरात के गांधीनगर में 23 अक्तूबर 2017 को हुए कांग्रेस पार्टी के 'नवसृजन जनादेश महासम्मेलन' का है.

इस सम्मेलन की फ़ाइल फ़ुटेज देखकर पता चलता है कि कांग्रेस पार्टी के कार्यक्रम के वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गई है और एडिटिंग की मदद से 'मोदी-मोदी के नारे' वीडियो में जोड़े गए हैं.

कार्यक्रम के असली वीडियो में अल्पेश ठाकोर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी का मंच पर औपचारिक तौर पर स्वागत करने के बाद माइक की ओर बढ़ते हैं.

सम्मेलन के 12वें मिनट में वो मंच से जनता को शांत रहने के लिए कहते हैं. वो कहते हैं कि अल्पेश ठाकोर और राहुल गांधी का सम्मान करते हैं तो भीड़ से कोई आवाज़ नहीं आनी चाहिए.

इसके बाद अल्पेश कहते हैं कि 'दाई ओर से अब भी आवाज़ आ रही है'. लोग उनकी ये अपील सुनकर चुप हो जाते हैं और क़रीब 10 सेकेंड बाद अल्पेश ठाकोर अपना भाषण शुरू करते हैं.

लेकिन कार्यक्रम के असली वीडियो में इस दौरान कहीं भी मोदी-मोदी के नारे सुनाई नहीं देते.

एडिटिंग की मदद से इस वीडियो में न सिर्फ़ 'मोदी-मोदी' के नारे डाले गए हैं, बल्कि कार्यक्रम की तारीख़ और नाम भी हटा दिया गया है.

गुजरात कांग्रेस के यू-ट्यूब पेज पर कार्यक्रम के असली वीडियो को देखा जा सकता है.

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार