चीन ने मुंबई हमले को बताया 'सबसे कुख्यात' : पांच बड़ी खबरें

  • 19 मार्च 2019
मुंबई हमला इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन ने भारत में साल 2008 में हुए मुंबई हमले को सबसे कुख्यात हमलों में से एक बताया है.

चीन का ये रुख़ इस लिहाज़ से चौंकाने वाला है क्योंकि ये चीन ही था जिसके हस्तक्षेप की वजह से 14 फ़रवरी को हुए पुलवामा हमले के मास्टमाइंड मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकी नहीं घोषित किया जा सका.

सोमवार को एक पत्र जारी करते हुए चीन की ओर से बयान आया कि पिछले कुछ वर्षों में आतंकवाद और चरमपंथ ने मानवता को बहुत नुकसान पहुंचाया है. चीन के इस पत्र में कहा गया है कि पाकिस्तान स्थित लश्कर ए तैयब्बा संगठन ने भारत में साल 2008 में जो मुंबई हमला किया था वो अब तक के सबसे कुख्यात हमलों में से एक है.

इस श्वेत पत्र को 'द फ़ाइट अगेंस्ट टेररिज़्म एंड एक्सट्रिमिज़्म एंड ह्यूमन राइट्स प्रोटेक्शन इन शिनजियांग' नाम दिया गया है.

असम में क़रीब डेढ़ लाख मतदाता नहीं कर सकेंगे मताधिकार का इस्तेमाल

इमेज कॉपीरइट Reuters

चुनाव आयोग के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार असम में करीब डेढ़ लाख मतदाता अपने मताधिकारी का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे. असम में कुल 1.2 लाख लोग आगामी लोकसभा चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं कर पाएंगे क्योंकि उन्हें 'डी' (संदिग्ध) मतदाता के रूप में चिह्नित किया गया है.

हालांकि असम के मुख्य चुनाव अधिकारी मुकेश चंद्र ने बताया कि जो लोग नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटिज़न्स (NRC) के पूर्ण मसौदे से बच रह गए हैं, यदि मतदाता सूची में उनके नाम है, तो वे मतदान कर सकेंगे.

कभी भी गिरफ़्तार हो सकते हैं नीरव मोदी

इमेज कॉपीरइट NIRAV MODI/FACEBOOK

भारतीय प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी के अनुरोध पर नीरव मोदी के ख़िलाफ़ अरेस्ट वॉरंट जारी किया गया है. बताया जा रहा है कि ये अरेस्ट वॉरंट ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर अदालत ने जारी किया है.

ये अरेस्ट वॉरंट 13 मार्च को ही जारी हो गया था और अब उन्हें किसी भी वक़्त गिरफ़्तार किया जा सकता है. हालांकि नीरव की गिरफ़्तारी के बाद भी उन्हें भारत लाने में काफ़ी वक़्त लग सकता है क्योंकि उनके पास कोर्ट जाने का विकल्प होगा और कोर्ट से उन्हें कुछ शर्तों के साथ ज़मानत भी मिल सकती है.

पर्रिकर की मौत से दुखी विधवाएं नहीं मनाएंगी होली

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वृंदावन में रहने वाली सैकड़ों विधवाओं गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन पर अपनी संवेदनाएं ज़ाहिर करने के लिए इस बार होली नहीं मनाने का फ़ैसला किया है. रविवार को एक लंबी बीमारी के बाद पर्रिकर का अपने आवास पर निधन हो गया. वे 63 साल के थे.

विधवा महिलाओं के लिए होली का आयोजन करने वाली संस्था से जुड़े एक शख़्स ने बताया कि दिवंगत आत्मा को सम्मान देने के लिए होली नहीं मनाने का फ़ैसला किया है.

यलो वेस्ट मूवमेंट गुंडों का प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट AFP

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने कहा है कि पेरिस में हाल में हो रहे येलो वेस्ट प्रदर्शन गुंडों ने किए हैं. उन्होंने कहा कि वैध विरोध प्रदर्शन और शनिवार को हुए विरोध प्रदर्शनों में अंतर है.

मैंक्रों ने कहा कि वैध प्रदर्शनों को संविधान द्वारा सुरक्षित रखा गया है. प्रदर्शन के दौरान शांज़े लीज़े में रेस्तरां और दुकानों को लूटा गया और उनमें आग लगा दी गई.

इस वजह से सरकार ने पेरिस पुलिस के प्रमुख को बर्ख़ास्त कर दिया था. साथ ही चेतावनी दी गई थी कि अगर हिंसक समूह प्रदर्शनों में भाग लेते दिखते हैं तो कई जगहों पर रैलियां प्रतिबंधित कर दी जाएंगी.

ये भी पढ़ें

प्रमोद सावंत बने गोवा के मुख्यमंत्री, रात पौने दो बजे दिलाई गई शपथ

‘चौकीदार चोर है’ का नारा देकर फंस गए राहुल गांधी?

वो बेशकीमती कबूतर जो 9.71 करोड़ रुपये में नीलाम हुआ

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार