सवर्ण आरक्षण देना था तो राजद्रोह क्यों लगाया: हार्दिक पटेल

  • 23 मार्च 2019
गुजरात

गुजरात में पटेल समुदाय को आरक्षण दिए जाने की मांग पर आंदोलन करने वाले हार्दिक पटेल ने कहा है कि अगर केंद्र सरकार को सवर्णों को दस फीसदी आरक्षण देना ही था तो सरकार ने उन पर राजद्रोह का केस दर्ज क्यों किया.

बीबीसी गुजराती सेवा के कार्यक्रम 'गुजरात की बात' में शामिल होते हुए हार्दिक पटेल ने ये बात कही.

इस कार्यक्रम में कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और राजू परमार, बीजेपी नेता ऋतविज पटेल और किरीट सोलंकी. सामाजिक कार्यकर्ता ज़ाकिया सोमन, पूर्व जज ज्योत्सना याग्निक और वरिष्ठ पत्रकार राम दत्त त्रिपाठी शामिल हुए.

राजद्रोह का मुकदमा क्यों?

हाल ही में कांग्रेस में शामिल होने वाले हार्दिक पटेल ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि जब सरकार को सवर्ण समाज को आरक्षण देना ही था तो मुझ पर राजद्रोह का मुकदमा क्यों चलाया गया.

हार्दिक पटेल कहते हैं, "भाजपा की सरकार में शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार जैसे मुद्दों पर आम लोग और किसान नाखुश हैं. गुजरात की सरकार को शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए. गुजरात में मुद्दे ही मुद्दे हैं. सबसे बड़ा मुद्दा रोजगार का है. और जिसकी सत्ता होती है, उस पर सवाल उठाया जाता है. हार्दिक कांग्रेस में शामिल हुआ है तो उसे गद्दार कहा जा रहा है. वहीं, अगर मैं बीजेपी में शामिल होता तो मुझे एक बड़े नेता के रूप में स्थापित किया जाता."

"मैंने आरक्षण सिर्फ़ एक समाज के लिए मांगा था. लेकिन अब हर समाज को आरक्षण मिला है. अगर आपको आरक्षण देना ही था तो फिर जब मैं आरक्षण की मांग कर रहा था तो मुझ पर राजद्रोह के दो मुकदमे लगाने की और मुझे जेल भेजने या मेरे ख़िलाफ़ कोई और मामला दर्ज करने की क्या ज़रूरत थी."

पाकिस्तान के साथ हालिया दिनों में पनपे तनावपूर्ण संबंधों पर कहा गया, "बालाकोट के बाद पाकिस्तान पर हवाई हमला किया जाना, एक अच्छी बात है. लेकिन मुद्दों को लेकर होने वाली राजनीति ग़ायब है."

राहुल गांधी हैं सफल नेता

ठाकोर समाज के नेता अल्पेश ठाकोर ने कहा है कि वह राहुल गांधी को सफ़ल राजनेता मानते हैं क्योंकि वह दलितों, गरीबों और पिछड़ों को समाज में ऊपर उठाने की बात करते हैं.

अल्पेश ठाकोर ने कहा, "अहमदाबाद के रिवर फ्रंट के एक छोर पर गरीबी है, कांकरिया झील के पास भी गरीबी है. गुजरात में लोगों के पास रोजगार नहीं है. इसलिए गुजरात की बात की जानी ज़रूरी है."

ठाकोर के इस बयान पर बीजेपी नेता ऋत्विज पटेल ने कहा, "हम लोग लघु उद्योग के प्रति समर्पित हैं. राज्य और केंद्र सरकार इसके लिए काम कर रही है. मुद्रा बैंक ने आठ करोड़ युवाओं को लोन दिया है. गुजरात के विकास में पाटीदार समुदाय की अहम भूमिका रही है लेकिन अब इस समुदाय का राजनीतिक रूप से इस्तेमाल किया जा रहा है. नरेंद्र मोदी ने पाटीदार समुदाय को दस फीसदी आरक्षण दिया. इस समुदाय को इसकी ज़रूरत थी और सरकार ने इस ज़रूरत को पूरा किया है."

वहीं, अल्पेश ठाकोर ने कहा है कि गुजरात और देश दो अलग-अलग भागों में बंटा हुआ है, शहर आगे बढ़ रहा है कि और गांव पिछड़ रहे हैं.

उन्होंने कहा, "गुजरात में अनेक समस्याएं हैं और उनका हल निकालने के लिए एक मजबूत सरकार चाहिए. राहुल गाँधी के साथ मेरा भाई जैसा रिश्ता है. वह गरीबों की बात करते हैं, वो कहते हैं कि सत्ता मिले या न मिले, अगर कल हमारी सत्ता आई तो उसमें गरीबों के लिए ख़ास जगह होगी."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार