क्या सिंगापुर दुनिया का सबसे सुरक्षित शहर है?

  • 25 मार्च 2019
सिंगापुर

वर्ष 2019 में सिंगापुर अपना द्विशताब्दी समारोह मना रहा है लेकिन उसके नागरिक देश के उन तीन मूल्यों पर मनन कर रहे हैं जिसमें इस आधुनिक देश की नींव रखी है- खुलापन, बहुसंस्कृतिवाद और आत्मनिर्णय का अधिकार.

वर्ष 2015 में सिंगापुर ने अपनी स्वतंत्रता की 50वीं वर्षगांठ मनाई और इस साल अगले समारोह की तैयारी में यह देश जुट गया. वर्ष 2019 में सिंगापुर का द्विशताब्दी समारोह अलग-अलग स्थानों पर कई तरह से मनाया जा रहा है. ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए काम करने वाले सर स्टैमफ़ोर्ड रैफल्स ने सिंगापुर को कंपनी के एक व्यापारिक केन्द्र के रूप में 200 साल पहले स्थापित किया था.

सिंगापुर एक अलग पहचान वाला देश है.

50वीं सालगिरह वाले समारोहों से अलग द्विशताब्दी वर्ष को एक यादगार के रूप में मनाया जा रहा है. इस द्विपीय देश पर ब्रिटिश हुकूमत की छाया रही है और कई स्थानीय निवासी इस बात को लेकर नाखुश हैं कि इसका समारोह क्यों मनाया जा रहा है.

लेकिन द्विशताब्दी समारोह आयोजन कार्यालय का कहना है कि इसका उद्देश्य नागरिकों को अपने अतीत पर मनन करने का अवसर देना है. 700 वर्षों के औपनिवेशिक अतीत के उन मूल्यों पर विचार करना है जिसमें आधुनिक देश को आकार दिया है.

खुलेपन, बहुसंस्कृतिवाद तथा आत्मनिर्णय के मूल्यों को द्विशताब्दी समारोह आयोजन कार्यालय ने ही चुना है. यहां रहने वाले बहुत सारे नागरिक इन्हीं मूल्यों से प्यार करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Xinhua/Alamy

सिंगापुर के एलजी हान मिशेलिन स्टार से नवाजे गए लेबेरिन्थ नामक रेस्तरॉ के मालिक हैं.

वे कहते हैं, "सिंगापुर एक अलग पहचान वाला देश है. यहां की जातीयता और धर्म में विविधता है जो सामाजिक ताने-बाने के साथ-साथ भोजन और यहां की पहचान वाले स्मारकों में भी दिखती है. इस विविधता के बावजूद हम अपनी बोलचाल और अपने मूल्यों तथा जीवन के हर क्षेत्र से आने वाले लोगों को अपना मानने की एक समान विचारधारा रखते हैं."

सिंगापुर की सांस्कृतिक विविधता के बावजूद यह देश अब भी समलैंगिकता को लेकर विकास के प्रारम्भिक चरण में है. ब्रिटेन का उपनिवेश होने से लेकर अब तक सिंगापुर में समलैंगिकता पर प्रतिबंध लगाए रखा है. द न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, भारत में ऐसे ही औपनिवेशिक नियम को समाप्त करने के बाद हालांकि इसे अक्सर न्यायालयों में चुनौती दी गई है और हाल में ही 2019 में नया मुकदमा भी शुरू किया गया है.

सिंगापुर में समलैंगिक संबंधों को क़ानूनी मान्यता प्राप्त नहीं है और न ही कोई समलैंगिक जोड़ा किसी बच्चे को अपना सकता है, लेकिन सालाना रूप से मनाए जाने वाले पिंक डॉट रैली जैसे अवसरों पर कार्यकर्ता इस संबंध में जागरूकता फैलाने और बदलाव लाने की पुरजोर कोशिश करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सिंगापुर से लोगों को प्यार क्यों है?

यहां की विविध संस्कृति नवागंतुकों, विशेष रूप से पश्चिमी देशों के नागरिकों को जल्दी से यहां घुलने-मिलने का अवसर देती है. तीन वर्ष से सिंगापुर में रहने वाली और अ मेडेन वॉयेजर नामक यात्रा वृत्तांत लिखने वाली अमरीकी एलेक्जेंड्रा फेग बताती हैं, "यह भौगोलिक रूप से भी और सांस्कृतिक रूप से भी एशिया का प्रवेश द्वार है. बाली और बोराके जैसे दूरदराज़ के स्थानों की यात्रा करने के लिए यह एक उचित स्थान है.

पश्चिम से सिंगापुर का संबंध बहुत गहरा है और यहां ब्रिटेन का खासा प्रभाव देखा जा सकता है. ब्रिटिश शैली की दुकानों के साथ ही आप बौद्ध मंदिर भी देख सकते हैं और स्थानीय खेलों पर आपको चीन के हेनान प्रांत का चिकेन राइस तो मिलेगा ही साथ ही इंडोनेशियाई नासी गोरेंग यानी प्राइड राइस भी मिलेगा और बगल में ही हैमबर्गर जैसा पश्चिमी खाना भी दिखाई देगा."

लेकिन आप इन छोटी दुकानों पर बिकने वाले खाने को ऐसा-वैसा न समझिए. सिंगापुर में आंशिक रूप से निवास करने वाले तथा हाउ आई ट्रैवेल के संपादक कनाडा के जॉर्डन विशप बताते हैं, "सिंगापुर के ऐसे ही दो फूड स्टॉल यानी खाने की दुकानों को मिशेल इन स्टार का सम्मान प्रदान किया गया है."

लियाओ फान हाँगकाँग सोया सॉस चिकेन राइस एंड नूडल तथा हिल स्ट्रीट ताई ह्वा पॉर्क नूडल नामक इन दो दुकानों को 2016 में यह सम्मान प्राप्त करने का सौभाग्य मिला.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हर हफ्ते कुछ नए रेस्तराँ और बार खुलते ही जा रहे हैं. ऐसे में सिंगापुर का अतीत आज भी यहां के खाने की विभिन्नता में झलकता है। यहां आपको चीन, मलय, भारतीय, पेरानाकान, जर्मन, इतालवी, जापानी, वियतनामी, फ्रांसीसी और अमरीकन भोजन मिल जाएगा.

यह बहुसंस्कृतिवाद खाने तक ही सीमित नहीं है. इस मिश्रण को स्थानीय भाषा में भी देखा जा सकता है. हालांकि, हाल में सरकार ने तेजी से कदम उठाते हुए इसके उपयोग को कुछ कम करने की कोशिश की है लेकिन अंग्रेजी, मंदारिन, हॉकियन, कैंटोनीस, मलय तथा तमिल को मिलाजुला कर बनी सिंगलिश भाषा का स्थानीय लोग कॉफी मंगाने या गप्पबाजी करने में काफी प्रयोग करने लगे हैं.

यहां रहना कैसा लगता है?

इमेज कॉपीरइट Jason Knott/Alamy

अन्य बड़े शहरों से विपरीत यहां के निवासियों को चोरी या हिंसा की चिंता शायद ही सताती हो. अपराध की दर यहां दुनिया में सबसे कम में से एक है. 11 वर्ष से यहां रहने वाली औरआई वांडर नामक साइट पर ब्लॉग लिखने वाली बिनो शुआ कहती हैं कि छोटा से छोटा अपराध भी समय खराब करने जैसा ही माना जाता है.

पांच वर्ष तक यहां रहने वाली औरएक्सपैट्स गाइड टू सिंगापुर की सह लेखिका अमरीका की एलिसन ओज़ावा सेंडर्स बताती हैं, "आप अपनी गाड़ी बिना बंद किये या अपना पर्स छोड़कर कहीं भी जा सकते हैं. एक महिला के तौर पर रात में कहीं भी जाते समय मुझे अपनी सुरक्षा की चिंता नहीं होती. एक अभिभावक के तौर पर मुझे ये नहीं लगता कि बच्चे से नज़र हटते ही उसके साथ अनहोनी हो जाएगी."

सरकार द्वारा कारों पर लगाए गए कड़े प्रतिबंध और उनके ऊंचे दाम के आंशिक प्रभाव से सिंगापुर बहुत स्वच्छ और अच्छे यातायात वाला एक देश है. शुआ बताती हैं, "कुछ लोग ये कह सकते हैं कि यह बहुत मृत और उबाऊ जगह है लेकिन यह तो सुरक्षा और सुविधा का मिलाजुला स्वरूप है. रास्ते में कहीं लुट-पिट जाने की चिंता करने से कहीं बेहतर मैं इस माहौल को अपनाना समझती हूं."

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
औरतों को आवाज़ देने वाला रेडियो

यहां की ज़िन्दगी अपने व्यावसायिक जीवन पर केन्द्रित है और बड़ी तेजी से आगे बढ़ती है. लेकिन यदि आप चाहें तो इस अफ़रातफ़री से बाहर निकल सकते हैं. स्कॉट्स चीप फ्लाइट्स के एशियाई विमानन विशेषज्ञ अमरीका के डेनियल बर्नहैम बताते हैं, "मैं अपने घर से 25 मिनट पैदल चलकर घने जंगलों में पहुंच जाता हूं और पक्षियों की चहचहाहट को करीब से देखने का इनाम पाता हूं. सिंगापुर में बड़े खूबसूरत राष्ट्रीय उद्यान हैं तथा उसके आकार एवं जनसंख्या घनत्व के लिहाज से यहां वन्यजीव की संख्या बहुत है."

यह द्वीपीय देश अपेक्षाकृत छोटा है. यहां के लोग दुनियाभर में मशहूर चांगी हवाई अड्डे और कम किराए वाली उड़ानों का लाभ उठाने का सुझाव भी देते हैं. बर्नहैम इन्हीं सुझावों पर अमल करते हुए अशांत होने पर शहर और देश से दूर निकल जाते हैं.

मुझे और क्या जानना चाहिए?

इमेज कॉपीरइट Agencja Fotograficzna Caro/Alamy

भूमध्य रेखा से केवल एक डिग्री उत्तर में बसे सिंगापुर की जलवायु वर्ष भर गर्म रहती है. विदेशियों का कहना है कि यहां के अनुकूल होने में समय लगता है. ओज़वा सैंडर्स बताती हैं कि पसीना हर समय बहता रहता है और बालों की दुर्दशा हो जाती है. बर्नहैम के अनुसार इमारतों में हर समय वातानुकूलन की व्यवस्था पर्यावरण के लिए ठीक न होने के बावजूद यहां आवश्यक है.

यदि आप स्थानीय जीवनशैली अपनाते हैं तो सिंगापुर में जीवन यापन इतना भी महंगा नहीं है.

द इकोनोमिस्ट इंटलिजेंस यूनिट की हाल की एक रिपोर्ट के अनुसार सिंगारपुर जीवनयापन के लिहाज से दुनिया की सबसे महंगी जगह है. महंगाई का तुलनात्मक अध्ययन करने वाली साइट एक्सपैटिस्तान डॉट कॉम के अनुसार, यहां शहर के केन्द्र से दूर स्थित एक स्टूडियो अपार्टमेंट का किराया भी 1885 सिंगापुर डॉलर है और नई कार की क़ीमत आमतौर पर एक लाख सिंगापुर डॉलर से ऊपर ही है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सिंगापुर की वो जगह जहां बसता है छोटा भारत

लेकिन यहां के पुराने निवासियों का मानना है कि ये आंकड़े सच्चाई नहीं बताते. बर्नहैम कहते हैं, "सिंगापुर में आने वाले बहुत सारे विदेशी और सैलानी क्रेज़ी रिच एशियन्स नामक फिल्म में दिखाए गए जीवन को ही असली सिंगापुर मान लेते हैं. लेकिन यदि आप स्थानीय जीवनशैली अपनाते हैं तो सिंगापुर में जीवनयापन इतना भी महंगा नहीं है. हमने सहजबुद्धि लगाते हुए एक फ्लैट किराये पर लिया और सार्वजनिक यातायात का प्रयोग किया. अमरीका में हम अपने रहने पर जितना खर्च कर सकते थे उससे कहीं कम खर्च में यहां हमारा काम चल गया."

इस देश में दुनिया की एक सबसे कम कर दर भी है जो अधिकतम केवल 22 प्रतिशत है. कुल मिलाकर सिंगापुर सबसे अच्छा तब दिखता है जब स्थानीय निवासी एक जैसे दिखने वाले शहरी केन्द्रों से बाहर निकलने का उद्यम करते हैं. शहरों में दूर-दूर तक मॉल और एक तरह के घर बने हुए हैं, जिनके बीच में व्यावसायिक केन्द्र भी हैं.

लेकिन बर्नहैम बताते हैं, "यदि आप विविधता ही देखना चाहते हों तो आपको शहर में भी यह देखने को मिल जाएगी. 21वीं सदी के विकास में आपको सिंगापुर के बाहरी इलाक़ों में कई एकड़ के खेत, टूटी-फूटी कब्रगाहें, मछुआरों के गांव और औपनिवेशिक ज़माने के निशान भी यहां-वहां बिखरे दिख जाएंगे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार