सपना चौधरी के कांग्रेस में 'आने-जाने' की कहानी

  • 25 मार्च 2019
सपना चौधरी इमेज कॉपीरइट Sapna Chaudhary/Instagram

'सपना चौधरी जी का कांग्रेस परिवार में स्वागत'

शुरुआत उत्तर प्रदेश के कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष राज बब्बर के शनिवार को किए इस ट्वीट से हुई. ट्वीट के साथ उन्होंने एक तस्वीर भी पोस्ट की थी जिसमें सपना चौधरी प्रियंका गांधी के साथ खड़ी मुस्कुराती दिख रही थीं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ भी सपना चौधरी नई दिल्ली में राज बब्बर के घर जाकर कांग्रेस में शामिल हुईं. उनकी कुछ तस्वीरें भी सोशल मीडिया में वायरल हुईं जिनमें वो किसी फ़ॉर्म पर हस्ताक्षर करती हुई दिख रही हैं.

ऐसे कयास भी लगाए जा रहे थे कि वो कांग्रेस की तरफ़ से उत्तर प्रदेश की मथुरा सीट से चुनाव लड़ सकती हैं.

इन सबके बाद मीडिया और सियासी गलियारों में हलचल मच गई थी क्योंकि मथुरा से जानी-मानी फ़िल्म स्टार हेमामालिनी सांसद हैं. ऐसे में माना जा रहा था कि ये दो सितारों के बीच का मुक़ाबला होगा लेकिन सपना ने रविवार की दोपहर अचानक एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस करके इन सारे कयासों पर विराम लगा दिया.

हालांकि शनिवार को कांग्रेस ने मथुरा से महेश पाठक को टिकट देने का ऐलान भी कर दिया था.

ये भी पढ़ें: प्रियंका की सुंदरता उनकी दुश्मन क्यों?

इमेज कॉपीरइट Sapna Chaudhary/Facebook

सपना ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा, "मेरा कोई ट्विटर अकाउंट नहीं हैं. मैं सिर्फ़ फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम चलाती हूं. मेरी प्रियंका गांधी के साथ जो तस्वीर वायरल हो रही है, वो पुरानी है. न ही मैं राज बब्बर से मिली हूं."

पर्ची पर हस्ताक्षर करते हुए अपनी तस्वीर के बारे में पूछे जाने पर सपना ने कहा, "मैं इतनी पढ़ी-लिखी नहीं हूं कि आपको बता पाऊं कि वो पर्ची किससे सम्बन्धित थी."

उन्होंने कहा, "मैं प्रियंका जी से कई बार मिली हूं. तीन चार के दिन अंदर भी मिली हूं, उससे पहले भी मिली हूं. वो बहुत अच्छी हैं लेकिन यहां छोटी सी बात की इतना बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा रहा है. मेरे लिए सभी पार्टियां बराबर हैं. मैं सबसे मिलती हूं. मैं बीजेपी से मिलती हूं, मैं कांग्रेस से मिलती हूं, मैं अखिलेश की पार्टी से मिलती हूं, मैं आम आदमी पार्टी से मिलती हूं. मेरी कोई जाति नहीं है, कोई धर्म नहीं है. मैं एक कलाकार थी और कलाकार ही रहूंगी. मैंने मीडिया से बार-बार कहा है कि मैं राजनीति में नहीं आ रही हूं. अगर मैं पॉलिटिक्स में आई तो आप सबको बुलाकर इतने ही प्यार से बताऊंगी, जैसे अभी बता रही हूं."

ये भी पढ़ें:पूरा होगा सपना चौधरी का बॉलीवुड पहुंचने का ख़्वाब?

इमेज कॉपीरइट Sapna Chaudhary/Instagram

अश्लील टिप्पणियां और ट्रोलिंग

सपना के कांग्रेस में शामिल होने की ख़बर आने के बाद बीजेपी के कुछ नेताओं ने उन पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणियां भी की थीं. सोशल मीडिया पर भी उन्हें ट्रोल किया जा रहा था.

बीजेपी के हरियाणा नेता अश्विनी कुमार चोपड़ा ने कहा, "कांग्रेस में ठुमके लगाने वाले जो हैं वो ही ठुमके लगाएंगे, ये उनको देखना है कि ठुमके लगाने हैं या चुनाव जीतना है."

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के विधायक सुरेंद्र सिंह ने सपना चौधरी के नृत्य के साथ सोनिया गांधी को लेकर भी बयान दे दिया, जो आपत्तिजनक भी है. हम उनका पूरा बयान यहां छाप भी नहीं सकते.

हालांकि उन्होंने ये भी कहा, "मुझे ख़ुशी है कि राहुल जी नेताओं पर भरोसा हटाकर नर्तकी पर भरोसा करना चालू कर दिए."

ख़ुद पर की जा रही निजी और आपत्तिजनक टिप्पणियों के बारे में सपना ने कहा, "अगर मुझे कोई 'नाचनेवाली' कहता है तो मुझे इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता. मैं तो ख़ुद कहती हूं कि मैं डांसर हूं. ये उनकी मानसिकता है. अब मैं इतनी छोटी हूं, ऐसे लोगों को क्या समझाऊं."

ये भी पढ़ें: अगर महिला नेता के दो पति हों तो?

इमेज कॉपीरइट Sapna Chaudhary/Instagram

पत्रकारों से कहा, 'आपके मुंह में घी शक्कर'

राजनीति से जुड़े सवाल पूछे जाने पर सपना ने पत्रकारों से कहा, "मैं एक आर्टिस्ट हूं. कृपया मुझसे उसी बारे में सवाल पूछें. लेकिन अगर आप लोग चाहते हैं और बार-बार कह रहे हैं तो आपके मुंह में घी-शक्कर. मैं एक न दिन नेता बन ही जाऊंगी."

सपना ने ये भी कहा कि उनकी उम्र 25 साल से कम है और ऐसे में लोकसभा चुनाव लड़ने का सवाल ही खड़ा नहीं होता. प्रेस कॉन्फ़्रेंस के आख़िर उन्होंने ये भी साफ़ किया कि वो न ही कांग्रेस और न किसी दूसरी राजनीतिक पार्टी में शामिल होने जा रही हैं.

सपना की प्रेस कॉन्फ़्रेंस के बाद उत्तर प्रदेश के कांग्रेस सचिव नरेंद्र राठी ने टीवी चैनलों पर उनके दावों का खंडन किया और कहा कि उन्होंने ख़ुद ही शनिवार शाम 8:30 बजे के लगभग आकर पार्टी की सदस्यता का फ़ॉर्म भरा और इस पर उनका हस्ताक्षर भी है.

उन्होंने कहा, "सपना चौधरी और उनकी बहन, दोनों कल कांग्रेस में शामिल हुई थीं. हमारे पास उनके फ़ॉर्म हैं."

समाचार एजेंसी एएनआई ने इन फ़ॉर्मों की तस्वीरें भी जारी की हैं जिन पर 23/03/2019 की तारीख़ से सपना के हस्ताक्षर हैं. लेकिन इनमें से एक फ़ॉर्म पर लिखा हुआ है कि 'सपना चौधरी को 2011-2015 तक की सदस्यता दी जाती है'. वहीं दूसरे फ़ॉर्म में लिखा हुआ है- 2017-22 तक की सदस्यता दी जाती है.

ये भी पढ़ें: ब्लॉगः मायावती के बालों या चेहरे का मज़ाक़ क्यों उड़ाती हैं महिला नेता?

इमेज कॉपीरइट Sapna chaudhary/Instagram

जब ख़ुदकुशी करना चाहती थीं सपना

हरियाणा के रोहतक से बिग बॉस के घर तक पहुंचने वाली सपना को 'सॉलिड बॉडी', 'छोरी भैंस बड़ी बिंदास' और 'तेरी आख्यां दा काजल' जैसे गानों ने यू ट्यूब सनसनी और सोशल मीडिया स्टार बनाया.

आज फ़ेसबुक पर उनके लगभग 30 लाख और इंस्टाग्राम पर लगभग 20 लाख फ़ॉलोअर हैं. सपना जो गाने गाती हैं उन्हें हरियाणवी लोकगीत 'रागिनी' के नाम से जाना जाता है.

वो 'वीरे दी वेडिंग' और 'नानू की जानू' जैसी कुछ फ़िल्मों में भी नज़र आ चुकी हैं. हालांकि उनका ये सफ़र इतना आसान नहीं था.

एक वक़्त था जब सपना रोज़ आने वाले भद्दे और आपत्तिजनक मैसेज और कमेंट्स से तंग आकर ख़ुदकुशी करना चाहती थीं.

ये सब तब हुआ जब साल 2016 में सपना पर अपने एक गाने में दलित विरोधी शब्द इस्तेमाल करने का आरोप लगा और गुड़गांव में उनके ख़िलाफ़ एससी/एसटी ऐक्ट के तहत केस भी दर्ज हुआ. हालांकि बाद में मामला शांत हुआ और उन्हें बचा लिया गया.

ये भी पढ़ें: कितना मुश्किल है एक प्रधानमंत्री के लिए मां बनना

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार