गिरिराज सिंह बीबीसी के किस सवाल पर भड़क गए ?

  • 27 मार्च 2019
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption गिरिराज सिंह नवादा से सांसद हैं लेकिन अब उनसे बेगूसराय से चुनाव लड़ने के लिए कहा गया है

भारतीय जनता पार्टी ने केंद्रीय मंत्री और बिहार के नवादा से सांसद गिरिराज सिंह को अब बेगूसराय सीट से चुनाव लड़ने के लिए कहा है.

इस सीट से महागठबंधन से तनवीर हसन और भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी की ओर से कन्हैया कुमार को उम्मीदवार बनाया गया है.

लेकन अब गिरिराज सिंह अपने आप को बेगूसराय से उम्मीदवार बनाए जाने से नाराज़ हैं.

बीबीसी संवाददाता पंकज प्रियदर्शी ने गिरिराज सिंह से दिल्ली में बातचीत की. इस दौरान उनके एक सवाल पर गिरिराज सिंह भड़क गए और साक्षात्कार बीच में ही छोड़ते हुए माइक हटा दिया.

लेकिन बाद में उन्होंने सभी सवालों पर खुलकर बात की. पढ़िए गिरिराज सिंह की बातचीत-

आप बेगूसराय सीट से लड़ने को लेकर नाराज़ क्यों हैं?

बेगूसराय मेरी जन्मभूमि है, मेरी कर्मभूमि है. तकलीफ़ इस बात की है कि पार्टी नेतृत्व को चाहिए था इस पर चर्चा और चिंता करना. लेकिन अंतिम समय तक मुझसे कहा गया कि दादा आप जहां से चाहेंगे वहां से लड़ेंगे और जो निर्णय लिया वो बिना मुझे विश्वास में लिए लिया गया. ये मेरे लिए पीड़ादायक है.

टिकट पार्टी की चुनाव समिति तय करती है जिसमें केंद्रीय नेतृत्व होता है. क्या इसका मतलब ये है प्रधानमंत्री के नेतृत्व में हुई चुनाव समिति की बैठक में आपके टिकट को लेकर निर्णय लिया गया?

दुनिया ये बात जानती है. हम ये कह रहे हैं प्रदेश नेतृत्व हमें साफ़ तो करे.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बीजेपी नेतृत्व से क्यों नाराज़ हैं गिरिराज सिंह?

(इसी सवाल पर गिरीराज सिंह ने इंटरव्यू बीच में ही रोक दिया. हालांकि उन्होंने बाद में दोबारा बात की.)

सरकारी डाटा का हवाला देकर राहुल गांधी कह रहे रोजगार सृजन नहीं हुआ है. आपका क्या कहना है?

मैं चुनौती देता हूं, मैं राजनीति छोड़ दूंगा, जो मैंने डाटा दिया है. वो डाटा हैं क्योंकि सिडबी ने, सीजीटीएमएससी में, वो डाटा है कि अगर 2010 से 2014 में यूपीए सरकार में 11 लाख है तो हमारे भी 18 लाख हैं.

अब जब ममता बनर्जी धरने पर बैठती हैं तो राहुल जी उनका मुंह पोंछते हैं और जब राहुल जी बंगाल जाते हैं तो ममता जी को क्या क्या नहीं कहा मैं उन शब्दों का प्रयोग भी नहीं कर सकता.

दुनिया के सामने एक मज़बूत सरकार देने का, जिससे मज़बूत भारत बने. ये कई विसंगतियां हैं, जो देश ने तय किया है. देश में एक माहौल बन रहा है, आम धारणा बन रही है कि मोदी के नेतृत्व में एक मज़बूत सरकार बने.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption गिरीराज सिंह ने कन्हैया कुमार से जुड़े किसी सवाल पर बात नहीं की

इधर जो गठबंधन है, मायावती जी और अखिलेश जी निकाल दिए इनको. ये आंसू पोंछने के लिए तो एक दूसरे के साथ साथ जुट जाते हैं. लेकिन जब सवाल आता है कि कौन होगा प्रधानमंत्री तो एक दूसरे को धक्का मारते हैं.

प्रधानमंत्री बहुत हैं, लेकिन आपको यूपी में क्यों खदेड़ दिया. आप ममता बनर्जी को क्यों गाली दे रह हैं, कम्यूनिस्ट कहीं कुछ हैं कहीं कुछ हैं. ये कई विसंगतियां हैं, उन विसंगतियों को आप लाख समझाएंगे, देश की जनता समझने के लिए तैयार नहीं है.

कन्हैया बिना महागठबंधन के गिरिराज के लिए कितनी बड़ी चुनौती

'कोहिनूर जेम जैसे बयान के साथ लौटे गिरिराज'

बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद सबूत मांगे जा रहे हैं, सबूत देने में क्या दिक्कत है?

हमें तो कहना चाहिए कि मेरा बेटा हज़ार लोगों को मारकर आया है, ये पाकिस्तान बोले ना कि हमारा एक ना मरा. दुर्भाग्य ये है कि पाकिस्तान की भाषा हमारे युवराज बोल रहे हैं. एक दिन तो कहा कि हम सेना के साथ हैं, देश के साथ हैं. लेकिन तीसरे दिन से ही छटपटाहट आने लगी और सबूत मांगने लगे.

कोई ग़लत कहा तीन सौ चार सौ, कहना चाहिए एक हज़ार. पाकिस्तान सबूत दे कि उसका एक ना मरा. एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें पाकिस्तानी सेना के अफ़सर मरने वालों के घर गए थे. (इस पर बीबीसी संवाददाता ने रोक कर कहा कि ये फ़ेक वीडियो था). आप पाकिस्तान की भाषा क्यों बोल रहे हैं. हम तो कहेंगे कि हमने ध्वस्त कर दिया एक हज़ार, सबूत दो कि एक हज़ार नहीं मरा.

सेना ने ठीक ही कहा, मेरा काम था स्ट्राइक करना. मेरा लाशें गिनना काम नहीं है. हमसे पूछे होते तो हम तो दो-तीन हज़ार बताते. पाकिस्तान ने क्यों घेराबंदी कर रखी है और मीडिया को वहां तक एक सप्ताह बाद भी जाने नहीं दिया.

भारतीय चुनाव में पाकिस्तान का मुद्दा क्यों उठता है, कोई सवाल पूछता है तो उससे पाकिस्तान जाने के लिए कहा जाता है?

इमेज कॉपीरइट GIRIRAJ SINGH TWITTER
Image caption गिरिराज सिंह को केंद्रीय नेतृत्व से शिकायत है

जबावः ये सवाल सिद्धू जी से पूछा जाना चाहिए. ये आप अकबर लेन से क्यों नहीं पूछ रहे हैं जो कह रहा है कि जो पाकिस्तान को गाली देगा हम उसे दस गाली देंगे. भैया काहे को गाली दोगे, सिद्धू जी से संपर्क कर लो, वो वीज़ा ठीक ठाक कर देंगे, इमरान ख़ान से उनकी बड़ी अच्छी दोस्ती है. ऐसे-ऐसे लोग हैं, खाते यहां का हैं, गाते पाकिस्तान की हैं.

गिरिराज जी आपको हिंदूवादी नेता के तौर पर देखा जाता है, क्या आप इस छवि से ख़ुश हैं?

इससे नाराज़ क्यों हैं, ये तो बता दे कोई मुझे गर्व है इस पर.

क्या आपकी पीड़ा सामने आने के बाद किसी ने आपसे संपर्क किया है?

जबावः कई लोग मुझसे बात कर रहे हैं, मैं भी बात कर रहा हूं. प्रदेश नेतृत्व, जिस दिन मुझे, जो मुझे ठेस लगा है कि मुझे विश्वास में क्यों नहीं लिया गया, ये साफ़ कर देंगे तो मैं बेगूसराय में सम्मान और स्वाभिमान के साथ आगे की रणनीति तय करूंगा. मेरी पीड़ा ये भी है कि राज्य नेतृत्व ने केंद्रीय नेतृत्व को कुछ ग़लत जानकारी भी दिया है. जिन्होंने दर्द दिया है वो ही दवा भी देंगे.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
#BBCRiverStories | बिहार की राजनीति में जाति कितनी अहम

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए