लोकसभा चुनाव 2019: सोनाक्षी सिन्हा ने कहा- पिता ने बीजेपी छोड़ने में देर कर दी

  • 30 मार्च 2019
सोनाक्षी सिन्हा इमेज कॉपीरइट Getty Images

बॉलीवुड अभिनेत्री और शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी सोनाक्षी सिन्हा ने अपने पिता के बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने के फ़ैसले की तारीफ़ की है. सोनाक्षी ने कहा कि उन्हें ये काम बहुत पहले ही कर लेना चाहिए था.

एचटी मीडिया मोस्ट स्टायलिश अवॉर्ड-2019 के मौक़े पर सोनाक्षी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, ''ये फ़ैसला मेरे पिता की मर्ज़ी है. मुझे लगता है कि अगर आप मौजूदा हालात से खुश नहीं हैं तो आपको ज़रूर एक बदलाव की ओर जाना चाहिए."

सोनाक्षी ने कहा, ''वह पार्टी के शुरुआत के दौर से ही जुड़े हुए थे. मेरे पिता अटल जी और आडवाणी जी जैसे नेताओं के वक़्त से उस पार्टी का हिस्सा रहे. पार्टी के भीतर उनकी काफ़ी इज़्जत भी है."

"मुझे उम्मीद है कि कांग्रेस से जुड़ने के बाद वो और भी बेहतर काम कर पाएंगे और उन पर किसी तरह का दबाव नहीं होगा. मुझे लगता है कि उन्होंने ऐसा करने में देर कर दी. उन्हें काफ़ी पहले ही ये फ़ैसला ले लेना चाहिए था.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने ऐलान किया कि वो कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं.

उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ तस्वीर ट्वीट कर लिखा, ''बहुत दुख के साथ बीजेपी छोड़ रहा हूं, लेकिन उम्मीद है कि लालू यादव जी और नेहरू-गांधी परिवार के बहुचर्चित नेता के नेतृत्व में सही दिशा में आगे बढ़ रहा हूं. सही मायने में इस परिवार ने देश को बनाया है.''

शत्रुघ्न सिन्हा ने पहले लालकृष्ण आडवाणी का टिकट काटे जाने पर विरोध दर्ज कराया था.

उन्होंने ट्वीट किया था, "आडवाणी जी की जगह पार्टी अध्यक्ष को दिया जाना किसी भी तरह से ठीक नहीं है. उनकी शख़्सियत और छवि आडवाणी के बराबर नहीं है. ये क़दम जानबूझकर और एक मक़सद के साथ उठाया गया है. और देश की जनता को ये फ़ैसला पसंद नहीं आया है. वह एक पितृपुरुष जैसे हैं. और एक पितृपुरुष के साथ इस तरह के सलूक को कोई स्वीकार नहीं करेगा. मैं आपके लोगों को इसी भाषा में जवाब देने में सक्षम हूं."

Image caption पिता शत्रुघ्न सिन्हा के साथ सोनाक्षी

उन्होंने लिखा, "न्यूटन का तीसरा नियम याद रखना चाहिए जो बताता है कि हर क्रिया की बराबर और उलटी प्रतिक्रिया होती है. मैं आपको जवाब देने में सक्षम हूं. लेकिन आपने जो आदरणीय यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी, मुरली मनोहर जोशी और आडवाणी जी के साथ किया है, वो आपकी कृतघ्नता को दिखाता है."

बॉलीवुड में अपनी ऐक्टिंग से धाक जमाने के बाद राजनीति में क़दम रखने वाले शत्रुघ्न सिन्हा बीते दो लोकसभा चुनावों से पटना साहिब से चुनाव जीतते आ रहे हैं.

शत्रुघ्न सिन्हा ने साल 2009 में 57 फ़ीसदी वोट और 2014 में 55 फ़ीसदी वोटों के साथ इस सीट पर बीजेपी को जीत दिलाई थी.

बिहार में हुए महागठबंधन में पटना साहिब की सीट कांग्रेस के खाते में आई है और पूरी उम्मीद जताई जा रही है कि पार्टी सिन्हा को इस पर टिकट देगी.

ये भी पढ़िए: उमा भारती ने पीएम मोदी को कहा 'विनाश पुरुष'?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार