प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, पाकिस्तान अपनी मौत मरेगा: पांच बड़ी ख़बरें

  • 1 अप्रैल 2019
मोदी इमेज कॉपीरइट Twitter/Narendra Modi

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार शाम 'मैं भी चौकीदार' इवेंट के दौरान बालाकोट हमले से लेकर मिशन शक्ति को लेकर सरकार को घेरने वालों की आलोचना की है.

बालाकोट हमले को लेकर उन्होंने कहा, "इस बार ऐसी जगह पर वार हुआ है जिससे ये सिद्ध हो गया है कि पाकिस्तान में चरमपंथी कैंप काम करते थे. पाकिस्तान को इससे ज़्यादा परेशानी नहीं है कि इतने लोग मरे हैं. लेकिन उन्हें परेशानी इस बात से है कि इससे ठप्पा लगता है कि वहां चरमपंथी अड्डे सक्रिय थे. दुर्भाग्य ये है कि हमारे देश में मोदी को गाली देने में उत्साही लोग अपने बयानों से पाकिस्तान की मदद कर रहे हैं."

जब बैंग्लौर के एक आईटी प्रोफेशनल राकेश प्रसाद ने सवाल किया कि भारत काफ़ी समय से एक विकासशील देश है लेकिन भारत विकसित देश कब बनेगा.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/NARENDRA MODI

इस सवाल के जवाब में मोदी ने कहा, "इस सवाल में ये आकांक्षा छिपी हुई है कि भारत को एक समृद्ध बनना चाहिए. भारत के पास वो सब कुछ है जो इसे समृद्ध देश बना सकता है. मैंने देश में एक माहौल बनाया है और आगे भी बनाना है कि हमें दुनिया की बराबरी करनी है. हमनें बहुत सारा समय भारत-पाकिस्तान करने में ही गुजार दिया. अरे वो अपनी मौत मरेगा उसे छोड़ दो, हमें आगे बढ़ना है बस इसी पर हमारा ध्यान रहना चाहिए."

इसके साथ ही उन्होंने पाकिस्तान पर बात करते हुए कहा, ''पाकिस्तान को लगता होगा कि मोदी चुनाव में बिज़ी होगा तो शायद कुछ करेगा नहीं. मेरे लिए चुनाव प्राथमिकता नहीं है, देश प्राथमिकता है."

इसरो आज फिर रचेगा इतिहास

भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो सोमवार को सुबह 9:30 बजे अपनी पहली खुफिया इंटेलिजेंस सैटेलाइट को पृथ्वी की कक्षा में प्रक्षेपित करने जा रही है.

220 किलोग्राम के इस सैटेलाइट में चार अन्य देशों के उपग्रह भी शामिल होंगे.

इमेज कॉपीरइट ISRO

अगर इस सैटेलाइट की क्षमता को लेकर बात की जाए तो ये उपग्रह दुश्मनों के राडार की स्थिति का पता लगाएगा.

इस मिशन की ख़ास बात ये भी है कि ये सैटेलाइट तीन घंटे का सफर तय करके अपनी जगह पर पहुंचेगी.

सुषमा स्वराज ने दिया जवाब

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्विटर पर कहा है कि वह अपने ट्विटर हैंडल से खुद ही ट्वीट करती हैं और उनका कोई भूत नहीं है.

इससे पहले एक ट्विटर यूज़र 'इंजीनियर डीटी' ने ट्विटर पर सुषमा स्वराज के नाम के साथ चौकीदार जुड़ने पर टिप्पणी करते हुए कहा था, "मैम, हमने सोचा था कि आप विदेश मंत्री हैं. आप बीजेपी में अकेली एक समझदार नेता हैं. आप खुद को चौकीदार क्यों कहती हैं."

इसके बाद सुषमा स्वराज ने जवाब देते हुए था कि वह विश्व में भारतीयों और भारतीय हित की चौकीदारी करती हूं.

इमेज कॉपीरइट PTI

स्वराज के इस ट्वीट के बाद समित नाम के ट्विटर यूज़र ने कहा था कि निश्चित रूप से ये ट्वीट सुषमा स्वराज नहीं कर रही हैं.

तुर्की के राष्ट्रपति को लगा बड़ा झटका

तुर्की में हुए स्थानीय चुनावों के शुरुआती परिणामों में राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप आर्दोआन की पार्टी ए.के पार्टी को देश के प्रमुख शहरों में हार मिलती हुई दिख रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप आर्दोआन

देश की राजधानी अंकारा में मुख्य विपक्षी दल रिपब्लिकन पीपल्स पार्टी के उम्मीदवार ने जीत हासिल की है.

वहीं, देश के सबसे बड़े शहर इंस्तांबुल में भी ए.के पार्टी महज़ तीन हज़ार मतों से आगे बताई जा रही है.

राष्ट्रपति अर्दोआन ने कहा कि वे चुनाव नतीजों का सम्मान करते हैं.

जो बिडेन ने किया आरोपों का खंडन

अमरीका के पूर्व उप राष्ट्रपति जो बिडेन ने डेमोक्रेट नेता लूसी फ्लोरेस की ओर से उन पर लगाए गए आरोपों से इंकार किया है.

लूसी फ्लोरेस ने आरोप लगाया था कि साल 2014 में नेवादा में एक रैली के दौरान जो बिडेन ने उन्हें गलत तरीके से छुआ और पीछे से उनके सिर पर चुंबन दिया था, जिससे वे काफी परेशान हो गई थीं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बिडेन साल 2020 के राष्ट्रपति चुनाव की दौड़ में हैं.

हालांकि, अभी उनका नाम तय होना बाकी है.

बिडेन ने कहा है कि उन्होंने अपने जीवन में कभी किसी महिला को गलत तरीके से नहीं छुआ.

वहीं, लूसी फ्लोरेस ने एक कार्यक्रम में बताया कि नेवादा की उस रैली में उनके साथ क्या हुआ था.

लूसी फ्लोरेस ने कहा, ''ना जाने कहां से जो बिडेन मेरे पीछे आए और उन्होंने अपने हाथ मेरे कंधे पर रख दिए, वे मेरे बहुत करीब आ गए थे और झुककर मेरे बालों को सूंघने लगे, उसके बाद उन्होंने मेरे सिर पर एक चुंबन दिया. मैं उस समय हैरान-परेशान रह गई थी. अमरीका का उपराष्ट्रपति मेरे साथ ऐसा कर रहे थे, मेरे लिए यह बहुत ज्यादा परेशान होने वाला पल था.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार