क्या इंदिरा गांधी का अंतिम संस्कार मुस्लिम रिवाज से किया गया था: फ़ैक्ट चेक

  • 2 अप्रैल 2019

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की एक पुरानी तस्वीर इस दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही है कि इंदिरा गांधी का अंतिम संस्कार मुस्लिम रिवाज के अनुसार किया गया था.

सोशल मीडिया पर जो तस्वीर वायरल हो रही है उसमें सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी के अलावा कांग्रेस के नेता पी चिदंबरम और पी वी नरसिम्हा राव भी राहुल और राजीव गांधी के निकट खड़े दिखाई देते हैं.

इस तस्वीर को जिन लोगों ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है, उन्होंने लिखा है कि ''इंदिरा गांधी की अंतिम क्रिया के दौरान गांधी परिवार जिस तरह हाथ जोड़कर प्रार्थना कर रहा है, उससे ये साफ़ हो जाता है कि उनका असली धर्म क्या है''.

इमेज कॉपीरइट Social media
Image caption वायरल हो रही तस्वीर

रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है कि गांधी परिवार की इस तस्वीर को पहले भी इसी दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जाता रहा है. हज़ारों लोग इसे फ़ेसबुक पर पोस्ट कर चुके हैं.

इसके अलावा वॉट्सऐप पर भी चुनाव क़रीब आने पर इसे फॉरर्वड किया जा रहा है.

लेकिन इस तस्वीर की पड़ताल करने पर हमने पाया कि ये दावा बिल्कुल ग़लत है.

तस्वीर की हक़ीक़त

रिवर्स इमेज सर्च के नतीजे बताते हैं कि इस तस्वीर को सबसे पहले पाकिस्तान के पेशावर में रहने वाले लेखक व राजनेता मोहसिन दावर ने ट्वीट किया था.

मोहसिन का ट्वीट इस तस्वीर से जुड़ा सबसे पुराना सोशल मीडिया पोस्ट कहा जा सकता है.

अपने इस ट्वीट में मोहसिन ने लिखा था कि राजीव गांधी की ये तस्वीर 'फ़्रंटियर गांधी' के नाम से मशहूर स्वतंत्रता सेनानी ख़ान अब्दुल गफ़्फ़ार ख़ान का जनाज़ा उठने से पहले खींची गई थी.

अब्दुल गफ़्फ़ार ख़ान को 21 जनवरी 1988 को पाकिस्तान के पेशावर शहर में दफ़न किया गया था.

'Skyscrapercity' नाम की एक वेबसाइट ने भी राजीव गांधी की वायरल तस्वीर को इसी दावे के साथ छापा है कि ये फ़ोटो 'फ़्रंटियर गांधी' की शव-यात्रा से पहले पेशावर में खींची गई थी.

इमेज कॉपीरइट NEWSPAPER IMAGE

न्यूयॉर्क टाइम्स और एलए टाइम्स जैसे कई विदेशी मीडिया संस्थान हैं जिनकी रिपोर्ट्स से इस बात की पुष्टि होती है कि राजीव गांधी अपनी कैबिनेट के कुछ सदस्यों और अपने परिवार के साथ ख़ान अब्दुल गफ़्फ़ार ख़ान की यात्रा में शामिल हुए थे.

इंदिरा गांधी का अंतिम संस्कार

भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की 31 अक्तूबर 1984 को उनके ही दो सुरक्षाकर्मियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

3 नवंबर, 1984 को दिल्ली में इंदिरा गांधी का अंतिम संस्कार हिन्दू रीति से किया गया था.

उनके अंतिम संस्कार के कई वीडियो सरकारी रिकॉर्ड में दर्ज हैं. इनमें से कुछ को यू-ट्यूब पर भी देखा जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मां इंदिरा गांधी को मुखाग्नि देते राजीव गांधी

वीडियो में दिखता है कि मंत्रोच्चारण के बीच राजीव गांधी अपनी माँ इंदिरा की चिता के साथ परिक्रमा लगाते हैं और उसके बाद चिता को अग्नि देते हैं.

फ़ोटो एजेंसी गेटी के पास इस दिन की तमाम तस्वीरें मौजूद हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के अंतिम संस्कार में सोनिया गांधी, प्रियंका गांघी और बेटे राहुल गांधी के साथ पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी.

साथ ही 4 नवंबर 1984 की 'द वॉशिंगटन पोस्ट' की एक रिपोर्ट भी इंटरनेट पर मौजूद है जिसमें ये बताया गया है कि भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का अंतिम संस्कार हिंदू रीति के साथ कैसे किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार