राहुल गांधी के 'रहस्यमय तीसरे हाथ' का सच

  • 10 अप्रैल 2019
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट twitter.com/vikasbha

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की एक बुजुर्ग महिला से गले मिलने की फ़ोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है.

इस वायरल तस्वीर पर लोग सवाल पूछ रहे हैं कि तस्वीर में तीसरा 'रहस्यमय हाथ' किसका है.

भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने ट्वीट किया, "ये तीसरा हाथ किसका है? मैंने आपसे कल ही एक अच्छी पीआर एजेंसी के साथ करार करने के लिए कहा था."

वायरल हो रही इस तस्वीर का इस्तेमाल दरअसल कांग्रेस पार्टी की न्यूनतम आय गारंटी योजना (NYAY) के प्रचार विज्ञापन में किया गया है.

एबीपी न्यूज़ के पत्रकार विकास भदौरिया ने भी ट्वीट किया, "क्या आप पहली तस्वीर में राहुल गांधी के तीन हाथों को खोज सकते हैं. अगर नहीं तो कृपया दूसरी तस्वीर देखें. यह तीसरा हाथ किसका है?"

भारतीय जनता पार्टी की सीनियर नेता और केंद्र सरकार में मंत्री स्मृति ईरानी ने इसका जवाब दिया कि कांग्रेस का ये 'छल-कपट वाला हाथ' पार्टी की भ्रष्ट मानसिकता को दिखाता है.

फ़ोटो की सच्चाई

रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है कि ये तस्वीर साल 2015 की है.

कांग्रेस ने दिसंबर 2015 में अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर राहुल गांधी के तमिलनाडु और पुदुचेरी के बाढ़ प्रभावित इलाक़ों के दौरे के बाद कई तस्वीरें जारी की थीं.

कांग्रेस पार्टी के ट्वीट में शामिल ओरिजनल फ़ोटो को देखकर पता चलता है कि यह फ़ोटो एक बड़ी तस्वीर का हिस्सा है. इस तस्वीर में कई अन्य लोगों को पीछे देखा जा सकता है.

विज्ञापन में इस्तेमाल के लिए तस्वीर में दिख रहे अन्य लोगों को और पृष्ठभूमि को धुंधला कर दिया गया था.

लेकिन न्याय योजना के विज्ञापन के लिए इस तस्वीर को प्रकाशित करने से पहले इसे अच्छे ढंग से एडिट नहीं किया गया.

इमेज कॉपीरइट CONGRESS PARTY
Image caption हमने पाया कि तस्वीर में जो तीसरा हाथ दिखाई दे रहा है वो कांग्रेस पार्टी के दूसरे कार्यकर्ता का है

इस तस्वीर का इस्तेमाल कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर गरीबी उन्मूलन योजना के प्रचार के लिए भी किया गया है.

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार