इंदिरा गांधी को अटल बिहारी वाजपेयी ने कभी 'दुर्गा' नहीं कहा!

  • 11 अप्रैल 2019
इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी इमेज कॉपीरइट Getty/PTI

भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के हवाले से इंदिरा गांधी को लेकर एक बयान दिया है जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा हैं.

अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी के स्थापना दिवस पर अपनी पुरानी पार्टी को छोड़ कांग्रेस पार्टी में शामिल होने की औपचारिक घोषणा की थी.

इस मौक़े पर कांग्रेस पार्टी के मुख्यालय में हुई प्रेस कॉन्फ़्रेंस में शत्रुघ्न सिन्हा ने कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला समेत अन्य कांग्रेसी नेताओं की मौजूदगी में ये बयान दिया.

उन्होंने कहा, "हमारे भूतपूर्व और अभूतपूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने इसी संसद में भारत की नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर की सबसे बड़ी स्टार प्राइम मिनिस्टर श्रीमती इंदिरा गाँधी को उन्होंने न भूतो न भविष्यतो कहा और संसद में उनकी तुलना दुर्गा से की."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सिन्हा इस प्रेस कॉन्फ़्रेंस में बीजेपी द्वारा विपक्ष को नकारे जाने के रवैये की आलोचना कर रहे थे. सिन्हा ने कहा कि अगर आपका विरोधी भी कोई अच्छी बात करे तो उसकी तारीफ़ होनी चाहिए. अगर अच्छा नहीं लगता है तो भूल जाइये और अगर अच्छा लगता है तो सलाम कीजिये.

वाजपेयी और इंदिरा गांधी का ज़िक्र करते हुए उन्होंने कहा, "आज नवरात्र है तो मुझे याद आ रहा है. इसलिए मैं उनको नमन करता हूँ. प्रणाम करता हूँ और वंदन करता हूँ कि उनकी (इंदिरा गांधी) उन्होंने (वाजपेयी) दुर्गा से तुलना की"

दावे की पड़ताल

अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा इंदिरा गाँधी को 'दुर्गा का रूप' कहे जाने की बात पहले भी कई बार उठ चुकी है.

बीजेपी के विपक्षी दल, मुख्यत: कांग्रेस के नेता कई बार इस घटना का उदारहण देते रहे हैं.

ऑनलाइन रिसर्च से पता चलता है कि कई दफ़ा बीजेपी के वरिष्ठ नेता इस बयान का खंडन कर चुके हैं और कह चुके हैं कि वाजपेयी ने कभी ऐसा नहीं कहा.

अपनी रिसर्च में हमें इंटरनेट पर मौजूद अटल बिहारी वाजपेयी का एक पुराना इंटरव्यू मिला.

इस वीडियो इंटरव्यू में अटल बिहारी वाजपेयी को ख़ुद इस बात का खंडन करते हुए सुना जा सकता है कि उन्होंने कभी भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के लिए ये शब्द नहीं कहे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'अभी भी दुर्गा मेरे पीछे हैं'

इस टीवी इंटरव्यू में जब वाजपेयी से 'इंदिरा-दुर्गा' वाला सवाल पूछा गया था तो पढ़िए कि शब्दश: उन्होंने क्या कहा था:

''मैंने दुर्गा नहीं कहा. यह भी अख़बार वालों ने छाप दिया और मैं खंडन करता रह गया कि मैंने उन्हें दुर्गा नहीं कहा. नहीं कहा. फिर इस पर बड़ी खोज हुई. श्रीमती पुपुल जयकर ने इंदिरा जी के बारे में एक पुस्तक लिखी और उस पुस्तक में वो इस बात का उल्लेख करना चाहती थीं कि वाजपेयी ने इंदिरा गांधी को दुर्गा कहा है. तो वो मेरे पास आयीं. मैंने कहा कि मैंने ये नहीं कहा. मेरे नाम से छप ज़रूर गया था. तो फिर उन्होंने लाइब्रेरी में जाकर सारी पुस्तकें खंगाल लीं. सारी कार्यवाहियां देख लीं. पर उसमे कहीं दुर्गा नहीं मिला. पर अभी भी दुर्गा मेरे पीछे हैं. जैसा आपके सवाल से लगता है.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आरएसएस और दुर्गा

2019 के लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन तैयार करने की प्रक्रिया के दौरान शत्रुघ्न सिन्हा जैसा बयान सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने भी दिया था.

दिल्ली में आम आदमी पार्टी द्वारा आयोजित विपक्ष की महागठबंधन रैली में येचुरी ने कहा था कि ''आरएसएस ने और भाजपा के नेता अटल बिहारी वाजपेयी ने इंदिरा गाँधी को 'दुर्गा' कहा था''

येचुरी के इस बयान के बारे में बीबीसी ने आरएसएस के जानकार और संघ के मुखपत्र के एडिटर प्रफुल्ल केतकर से बात की.

केतकर ने सीताराम येचुरी के बयान का खंडन किया.

उन्होंने कहा कि "आरएसएस ने कभी भी इंदिरा गाँधी को दुर्गा का रूप नहीं कहा है."

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार