अंबानी-अडानी की जेब से पैसे निकालकर ग़रीबों को दे देंगेः राज बब्बर

  • 13 अप्रैल 2019
राज बब्बर इमेज कॉपीरइट Getty Images

देश में लोकसभा चुनाव शुरू हो चुके हैं. पहले चरण के मतदान के तहत देश की 91 लोकसभा सीटों पर वोट डल चुके हैं.

सात चरण में होने वाले इन चुनावों में उत्तर प्रदेश एक बेहद महत्वपूर्ण राज्य है. देश में किस दल की सरकार बनेगी उसमें उत्तर प्रदेश की 80 सीटें बेहद अहम भूमिका अदा करती हैं.

पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में सिर्फ दो सीटें जीत पाई थी, जबकि पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने वाली भाजपा को सहयोगियों के साथ 73 सीटें मिली थीं.

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की कमान एक ज़माने के मशहूर अभिनेता रहे राज बब्बर ने संभाली है. वे पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष हैं

शुक्रवार को कांग्रेस ने आगरा लोकसभा सीट की उम्मीदवार के साथ स्थानीय घोषणापत्र जारी किया. इसी दौरान बीबीसी ने राज बब्बर के साथ ख़ास बातचीत की और उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की संभावनाओं पर चर्चा की.

कांग्रेस के विपक्षी बोल रहे हैं कि कांग्रेस इस बार पिछली बार से भी कम सीटों पर सिमट जाएगी.

राज बब्बर ने इसे विरोधी दलों का घमंड बताया और कहा कि जनता इस वक़्त बीजेपी को नहीं चाहती और उत्तर प्रदेश में कांग्रेस बढ़त बना रही है.

Image caption कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और आगरा लोकसभा सीट की उम्मीदवार प्रीता हरित

'कांग्रेस नारों की पार्टी नहीं'

एक तरफ बीजेपी कांग्रेस मुक्त भारत की बात कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ सपा-बसपा गठबंधन का कहना है कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में उनके वोट काट रही है. इस पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा कि वे विरोधियों का सम्मान करते हैं और उन पर किसी तरह की टिप्पणी नहीं कर सकते.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
कांग्रेस के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के साथ विशेष बातचीत

कांग्रेस के घोषणापत्र की लगातार चर्चा हो रही है. विशेषकर इसमें किसानों को 72 हज़ार रुपए सालाना मदद की बात और युवाओं को सरकारी नौकरी में रिक्तियां भरने की चर्चा काफी ज़्यादा है.

राज बब्बर ने इस संबंध में कहा, ''जनता कांग्रेस पर भरोसा करती है और यह हमारा फ़र्ज़ बनता है कि जो भी हम पर भरोसा करे हम उनके भरोसे पर खरे उतरें. यही वजह है कि हम सिर्फ़ नारों की राजनीति नहीं करते.''

''अगर कांग्रेस पार्टी यह बोल रही है कि हर उस परिवार की महिला के खाते में 6 हज़ार रुपया महीना जाएगा जो अपने परिवार का पालन पोषण कर रही है तो इससे महिला को शक्ति मिलती है साथ ही इससे उसके पूरे परिवार को लाभ मिलेगा.''

''इसके अलावा कांग्रेस पार्टी ग़रीब व्यक्ति के इलाज का ख़र्च भी उठाएगी. इस तरह की बातें किसी के भी घोषणापत्र में सुनने को नहीं मिलती, सिर्फ नारे मिलते हैं.''

कहां से आएंगे घोषणाओं के पैसे?

राज बब्बर ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी कांग्रेस के घोषणापत्र पर सवाल उठा रही है कि कांग्रेस इन तमाम घोषणाओं के लिए रुपए कहां से लाएगी.

राज बब्बर ने कहा, ''यह सारा रुपया भी वहीं से आएगा जहां से किसानों की कर्ज़ माफी का रुपया आया, जहां से नरेगा में 100 दिन के रोज़गार की गारंटी ली गई थी. और अगर तब भी बच जाएगा तो अंबानी और अडानी की जेब से निकालकर दे देंगे, लेकिन देंगे तो सही.''

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के सामने कई चुनौतियां है. यहां उसे दो मोर्चों पर लड़ना है. पहला विरोधी पार्टियों से और दूसरा अपनी खुद की गिरती साख से. कांग्रेस को साल 2014 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सिर्फ सात प्रतिशत वोट मिले थे जिससे उसने 80 में से दो सीटें ही जीती थीं. यहां तक कि विधानसभा में भी कांग्रेस 10 के आंकड़े से नीचे रह गई थी.

इस पर राज बब्बर ने कहा कि चुनाव चुनौतियों के बावजूद इस बार कांग्रेस बढ़त बनाएगी क्योंकि जनता को भाजपा का विकल्प चाहिए, यह विकल्प उन्हें कांग्रेस में दिख रहा है.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार