पाकिस्तान में दूध की क़ीमत 180 रुपए लीटर: प्रेस रिव्यू

  • 14 अप्रैल 2019
दूध इमेज कॉपीरइट AFP

महंगाई की मार झेल रहे पाकिस्तान में आम लोगों की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रहीं. दैनिक हिंदुस्तान की ख़बर के मुकाबिक़, पाकिस्तान में रोज़ाना ज़रूरत की चीज़ों के दाम आसमान छू रहे हैं.

सब्ज़ियों और पेट्रोल और डीज़ल के दाम तो पहले से ही बढ़े हुए थे और अब इसमें दूध के दाम भी शामिल हो गए हैं. अख़बार लिखता है कि पाकिस्तान में इस समय दूध 120 से 180 रुपये लीटर तक बिक रहा है.

कराची डेयरी फ़ार्मर्स एसोसिएशन ने दूध के दाम में 23 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी कर दी है. एसोसिएशन का कहना है कि पशुओं को खिलाए जाने वाले चारे और ईंधन की कीमतें काफी बढ़ गई हैं इसलिए दूध के दाम बढ़ाना मजबूरी थी.

इमेज कॉपीरइट BILAL BAHADUR

इसी अख़बार ने छापा है कि घाटी से जैश नेतृत्व साफ़ हो गया. अख़बार ने यह ख़बर सेना के हवाले से लिखा है. अख़बार लिखता है कि सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कश्मीर घाटी से आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के नेतृत्व का सफाया कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि सेना किश्तवाड़ समेत जम्मू क्षेत्र में आतंकवाद को दोबारा सिर नहीं उठाने देगी.

वाराणसी में प्रियंका गांधी दे सकती हैं मोदी को चुनौती

नवभारत टाइम्स ने इस ख़बर को प्रमुखता से अपने पन्ने पर लिया है. अख़बार लिखता है कि यूं तो प्रियंका ने जिस दिन सक्रिय राजनीति में क़दम रखा उसी दिन से कयास लगने लगे थे कि वो चुनाव लड़ सकती हैं.

हालांकि वो मना कर चुकी हैं और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी इसे प्रियंका का फ़ैसला बता चुके हैं लेकिन एक बार फिर इसकी संभावनाएं नज़र आ रही हैं.

चुनाव प्रचार को दौरान जब एक पत्रकार ने प्रियंका से पूछा कि क्या वो चुनाव लड़ रही हैं तो उन्होंने उल्टा सवाल दागते हुए कहा क्या वाराणसी से लडूं?

प्रियंका गांधी ने कहा कि वह चुनाव में खड़े होने के लिए तैयार हैं लेकिन जब पार्टी कहेगी.

दिल्ली में सीलिंग पर फिर विवाद

इमेज कॉपीरइट @NarenderChawla1

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के निर्देश पर हो रही सीलिंग के विरोध के दौरान हुई झड़प में तीस लोग घायल हो गए हैं. शनिवार सुबह दक्षिणी दिल्ली के मायापुरी इलाक़े में स्थानीय दुकानदारों ने सीलिंग की कार्रवाई का विरोध किया. अधिकारी यहां अवैध कबाड़ यूनिटों को बंद करने आए थे. इस दौरान पुलिसबलों और स्थानीय लोगों में झड़पें हो गईं और अफ़रातफ़री का माहौल रहा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे