हिमाचल प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने मंच से राहुल गांधी के लिए बोली गाली

  • 15 अप्रैल 2019
राहुल गांधी और सतपाल सत्ती इमेज कॉपीरइट facebook/Getty

हिमाचल प्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए अभद्र भाषा इस्तेमाल करते हुए नज़र आ रहे हैं.

मंच पर खड़े सतपाल सत्ती पहले तो राहुल गांधी और उनके परिवार को 'ज़मानती' बताते हैं और फिर कहते हैं कि जो ख़ुद ज़मानत पर हो वह प्रधानमंत्री को कैसे चोर कह सकता है.

इसके बाद आख़िर में वह सोशल मीडिया पर कथित तौर पर किसी शख़्स द्वारा की गई टिप्पणी को मंच से पढ़ देते हैं जिसमें राहुल के लिए मां की गाली इस्तेमाल की गई थी.

पड़ताल करने पर पता चला कि यह वीडियो सोलन के रामशहर का है जो शिमला लोकसभा क्षेत्र में पड़ता है और बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतपात सिंह सत्ती ने रविवार को पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार करते हुए ये बातें कहीं.

हालांकि, सतपाल सत्ती का कहना है कि इस वीडियो को ग़लत ढंग से शेयर किया जा रहा है. उधर कांग्रेस इस मामले में क़ानूनी कार्रवाई के साथ पूरे प्रदेश में प्रदर्शन करने की तैयारी में है.

इमेज कॉपीरइट Viral Video Screenshot
Image caption वीडियो सोलन में आयोजित जनसभा का है

क्या है वीडियो में

सोशल मीडिया पर जो लगभग एक मिनट का वीडियो शेयर हो रहा है, उसमें सतपाल सत्ती राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कह रहे हैं, "बेचारे को पता ही नहीं चलता. जो लिखकर देते हैं, बोल देते हैं. भैया इतनी उमर हो गई तुम्हारी, परिवार के अंदर तीन प्रधानमंत्री रहे, आपको यही पता नहीं चलता कि बोलना क्या है. मंच से कह रहे हैं कि चौकीदार चोर है?"

इसके बाद शब्दों को तीखा करते हुए उन्होंने कहा, "भैया तेरी मां की ज़मानत हुई है, तेरी अपनी ज़मानत हुई है, तेरे जीजा की ज़मानत हुई है, पूरा टब्बर (परिवार) ही ज़मानती है. नरेंद्र मोदी की न ज़मानत हुई, न केस बना न सज़ा मिली; तू कौन होता है जज बनकर चोर बोलने वाला?"

वीडियो के आख़िरी हिस्से में उन्होंने कहा कि एक पंजाबी आदमी ने फ़ेसबुक पर लिखा है जो मैं मंच से नहीं बोल सकता. उन्होंने कहा, "राहुल जी के बारे में हम भी नहीं बोल सकते क्योंकि एक पार्टी के राष्ट्रीय नेता हैं और तीन बार के सांसद हैं. मैंने रणधीर शर्मा (प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता) से पूछा कि क्या लिखा है तो उन्होंने कहा कि मैं बता नहीं सकता, आप फ़ेसबुक पर पढ़ो, लोगों में हमसे भी ज़्यादा ग़ुस्सा है."

लेकिन बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने आख़िरकार वे शब्द कह ही दिए, जिन्हें थोड़ी देर वह मंच पर बोलने लायक नहीं मान रहे थे. उन्होंने कहा, "मैं भारी मन से बोल रहा हूं. उसने लिखा है - इस देश का चौकीदार चोर है, अगर तू बोलता है तो तू ******* है. उसने सीधा लिखा है फ़ेसबुक पर."

इमेज कॉपीरइट Reuters

क्या दी सफ़ाई

जब बीबीसी ने इस वीडियो को लेकर बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती से फ़ोन पर संपर्क किया तो उन्होंने कहा, "कांग्रेस को पूरा वीडियो दिखाना चाहिए, मैंने तो उस वीडियो में यह कहा है कि आज राष्ट्रीय राजनीति इतनी नीचे चली गई है कि एक पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष जो ख़ुद को भावी प्रधानमंत्री कहता है, वह मौजूदा प्रधानमंत्री के लिए कहता है कि चौकीदार चोर है."

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि वह तो अपने कार्यकर्ताओं को नसीहत दे रहे थे कि इस तरह के बयान किसी को नहीं देने चाहिए, सोशल मीडिया पर भी नहीं लिखने चाहिए.

उन्होंने कहा, "लेकिन फिर भी लोग इतने कट्टर हैं, इतने ग़ुस्से में आ जाते हैं. मैंने कहा भी जो उस व्यक्ति ने लिखा है, वह मुझे बोलने में भारी लग रहा है. जब आदमी दूसरों को ऐसा बोलेगा तो उन्हें भी सुनना पड़ेगा. आम आदमी सुनाता भी है."

जब उनसे पूछा गया कि भले ही जो शब्द आपने पढ़े, वह किसी और के थे, लेकिन क्या उन्हें मंच से पढ़ना ठीक था? इस पर सतपाल सत्ती ने कहा, "मैंने ख़ुद ही कहा कि जो लिखते हैं ग़लत है. मगर जब देश के प्रधानमंत्री को एक पार्टी का लीडर मंच से कहेगा 'चौकीदार' और नीचे से कहेंगे 'चोर है' तो उसके बदले में लोग ऐसा लिख रहे हैं. मैंने कहा कि यह सोशल मीडिया का दुरुपयोग है और हमारा कोई कार्यकर्ता ऐसा न कहे. कांग्रेस से कहिए कि पूरा 10 मिनट का वीडियो सुनाइए."

इमेज कॉपीरइट facebook/Satpal Singh Satti

'तो क्या हम चुप रहेंगे'

जब बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष से पूछा गया कि इन शब्दों को मंच देकर क्या आपने एक तरह से सहमति नहीं जताई है, तो उन्होंने कहा, "मैंने तो अपने लोगों से कहा कि ऐसे पर्सनल कॉमेंट किसी और के लिए मत इस्तेमाल करो. जैसे हमारे लिए मोदी प्यारे हैं उनके लिए सोनिया गांधी प्यारी हैं."

सवाल को दोहराए जाने पर वह भड़क गए और बोले- "हमारे प्रधानमंत्री को वो चोर बोल रहा था तो हम कुछ भी न बोलें?"

"हम अपनी ओर से नहीं बोल रहे. हम किसी और का लिखा भी नहीं बोल सकते और वो हमारे प्रधानमंत्री को क्या बोल रहा है? क्या किसी ने राहुल गांधी से पूछा जिसके ऊपर केस चल रहा है कि तू ख़ुद ज़मानती, तेरी माता जी ज़मातनी, तेरे जीजा ज़मानती.. तू दूसरों को चोर कैसे बोल रहा है?"

"वो बड़े परिवार का आदमी है, एक नेशनल लीडर है इसलिए उससे कोई नहीं पूछ सकता. उससे भी फ़ोन करके पूछिए कि तू चोर-चोर के नारे लगा रहा है, कैसे लगा रहा है. क्या राहुल गांधी से पूछा किसी ने? मैंने तो किसी ने नहीं देखा."

इमेज कॉपीरइट facebook/Satpal Singh Satti

कांग्रेस हुई आक्रामक

उधर हिमाचल प्रदेश कांग्रेस सतपात सिंह सत्ती के इस बयान को चुनावी माहौल में भुनाने की तैयारी कर रही है.

कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने बीबीसी से कहा कि बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष की टिप्पणी बर्दाश्त नहीं की जा सकती और उन्हें पद से हटाया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा, "लोगों में ग़ुस्सा है. देश की संस्कृति की बात करने वाले तथाकथित लोग अपनी हार को देखकर बौखला गए हैं और इतनी अश्लील भाषा का उपयोग कर रहे हैं. हमने तय किया है कि हम मंगलवार 11 बजे पूरे प्रदेश में प्रदर्शन करेंगे. हम प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह से मांग करते हैं कि देश की जनता से माफ़ी मांगें और अपने प्रदेश अध्यक्ष को तुरंत बर्ख़ास्त करें."

इमेज कॉपीरइट facebook/Kuldeep Rathore
Image caption हिमाचल कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर

कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि पार्टी क़ानूनी कार्रवाई की भी तैयारी कर रही है. उन्होंने कहा, "उनकी एक और भी क्लिप वायरल हो रही है जिसमें उन्होंने प्रियंका गांधी के बारे में टिप्पणी की है. अगर उन्हें पद से हटाया नहीं जाता तो हम यह मानेंगे कि उन्होंने जो बोला है, मोदी और अमित शाह के इशारे पर बोला है. हम एफ़आईआर दर्ज करेंगे. अभी क़ानूनी राय ले रहे हैं."

उधर जब सतपाल सत्ती से कहा गया कि कांग्रेस इस मामले में क़ानूनी क़दम उठाने की बात कर रही हो तो उन्होंने कहा, "वह करें क़ानूनी विचार, हम जवाब देंगे. एफ़आईआर करें, उसमें कोई दिक्कत नहीं है. वो हमारे प्रधानमंत्री को बोलेंगे और हम चुप रहेंगे?

हिमाचल प्रदेश की चार लोकसभा सीटों पर आख़िरी चरण के तहत 19 मई को मतदान होना है. 2014 लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने यहां की चारों सीटों पर जीत हासिल की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार