लोकसभा चुनाव 2019: 95 सीटों पर मतदान सम्पन्न, 66% मतदान

  • 18 अप्रैल 2019
मतदान इमेज कॉपीरइट PTI

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में गुरुवार को देश भर के 12 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश के 95 लोकसभा सीटों पर मतदान संपन्न हो गया है.

चुनाव आयोग के अनुसार, दूसरे चरण में मतदान औसतन 66 प्रतिशत रहा.

दूसरे चरण में असम, बिहार, छत्तीसगढ़, जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मणिपुर, ओडिशा, पुद्दुचेरी, तमिलनाडु, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल के सीटों पर मतदान हुए.

चुनाव आयोग ने प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि सर्वाधिक मतदान 78 प्रतिशत पुद्दुचेरी में हुआ.

आयोग के मुताबिक छह बजे तक, असम में 73.32, बिहार की पांच सीटों पर 62.52, छत्तीसगढ़ की तीन सीटों पर 71, जम्मू कश्मीर की दो सीटों पर 43.37, कर्नाटक की 14 सीटों पर 61.80, महाराष्ट्र की 10 सीटों पर 62, मणिपुर में 74.69, ओडिशा की 5 संसदीय सीटों और 35 विधानसभा सीटों पर 64, पुद्दुचेरी की एक सीट पर 78, तमिलनाडु की 38 सीटों पर 72, उत्तर प्रदेश की 8 सीटों पर 62.3 और पश्चिम बंगाल की तीन सीटों पर 75.27 प्रतिशत मतदान हुए.

ओडिशा के बाराहाला मतदान केंद्र के पास चरमपंथी हमले में एक चुनाव अधिकारी की मौत हो गई.

चुनाव आयोग ने एक नए ऐप्प 'वोटरटर्नआउट' की शुरुआत की घोषणा की है, जिसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है और राज्यवार, संसदीय क्षेत्रवार, या खास इलाके में मतदान के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

इमेज कॉपीरइट PTI

ईवीएम मशीन और वीवीपैट में गड़बड़ी के चलते ओडिशा के चार मतदान केंद्रों पर फिर से चुनाव कराए जाने का चुनाव आयोग ने आदेश दिया है.

ओडिशा के मुख्य चुनाव अधिकारी सुरेंद्र कुमार ने सुंदरगढ़ में बूथ नंबर 213, बोनाई में बूथ नंबर 129 और डासपल्ला में बूथ नंबर 210 और 222 पर पुनर्मतदान का आदेश ज़ारी किया है.

इमेज कॉपीरइट ANI

3 बजे तक मतदान प्रतिशत

दूसरे चरण के मतदान में तीन बजे तक महाराष्ट्र में 46.63%, तमिलनाडु में 52.02%, ओडिशा में 53%, मणिपुर में 67.5%, उत्तर प्रदेश में 50.39%, छत्तीसगढ़ में 59.72% और कर्नाटक में 49.26% मतदान हुआ.

असम में क़रीब 60.38% मतदान हुआ. यहां करीमगंज में 63.66%, सिलचर में 57.06%, ऑटोनोमस ज़िलों में 62.70%, मांगलडोई में 62.73% और नावगोंग में 56.78% मतदान हुआ.

इमेज कॉपीरइट samajwadiparty/Twitter

पूनम सिन्हा के रोड शो पर विवाद

लखनऊ से सपा-बसपा-आरएलडी उम्मीदवार के रूप में शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा ने नामांकन दाखिल करने के बाद रोड शो किया, जिसमें शत्रुघ्न सिन्हा और डिंपल यादव भी मौजूद रहे.

यहां से कांग्रेस ने भी अपना उम्मीदवार उतारा है जबकि शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस के टिकट पर पटना साहिब से प्रत्याशी हैं.

लेकिन महागठबंधन की कैंडिडेट और अपनी पत्नी के रोड शो में आने पर कांग्रेस के उम्मीदवार आचार्य प्रमोद कृष्णम ने नाराज़गी ज़ाहिर की.

प्रमोद कृष्णम ने कहा, "शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी पत्नी के प्रचार में आकर पत्नी धर्म निभाया है, लेकिन मेरा कहना है कि वो मेरे लिए एक दिन प्रचार कर पार्टी धर्म भी निभाएं."

1 बजे तक मतदान प्रतिशत

चुनाव आयोग के अनुसार, 1 बजे तक मतदान का प्रतिशत मणिपुर में 49.7%, छत्तीसगढ़ में 47.92%, उत्तर प्रदेश में 39.24% और कर्नाटक में 36.31% रहा.

महाराष्ट्र में दोपहर 1 बजे तक 35.4 प्रतिशत और छत्तीसगढ़ में तीन लोकसभा सीटों पर 47 प्रतिशत मतदान हुआ था.

इमेज कॉपीरइट GAZI NOOR/FACEBOOK
Image caption ग़ाज़ी नूर

समाचार एजेंसी एएनआई ने गृह मंत्रालय के हवाले से कहा है कि बांग्लादेशी एक्टर ग़ाज़ी नूर को दमदम में एक राजनीतिक रैली में शामिल होने पर देश छोड़ने को कहा गया है.

उनके वीज़ा की अवधि समाप्त हो चुकी थी. नियत समय से अधिक रुकने के लिए उनपर कार्रवाई भी हो सकती है.

Image caption 19 साल की सानिया सुल्ताना ने पहली बार वोट डाला

तमिलनाडु

इरोड ज़िले में एक मतदाता की मौत हो गई है. 63 वर्षीय मुरुगेसन वोट डालने के बाद पोलिंग बूथ पर ही बेहोश हो गए. डॉक्टरों ने उनकी जांच कर उन्हें मृत घोषित कर दिया.

तमिलनाडु में कुल 39 सीटें हैं लेकिन गुरुवार को 38 सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं. तमिलनाडु की वेल्लोर सीट पर भी दूसरे चरण में ही मतदान होने थे, लेकिन चुनाव आयोग की सिफ़ारिश पर राष्ट्रपति ने इसे रद्द कर दिया.

इमेज कॉपीरइट ANI

डीएमके नेताओं के पास भारी मात्रा में नक़दी बरामद होने के बाद चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से चुनाव को रद्द करने की सिफ़ारिश की थी.

चुनाव आयोग का कहना था कि ऐसा मालूम पड़ता है कि वोटरों को प्रभावित करने के लिए पैसे का प्रयोग किया गया है.

आयोग की इस सिफ़ारिश को राष्ट्रपति ने स्वीकार कर ली. हालांकि, चुनाव आयोग ने घोषणा की है कि वेल्लोर लोकसभा सीट के तहत आने वाले अंबुर और गुदियत्तम विधानसभा क्षेत्रों में हो रहे उपचुनाव के लिए पहले से तय कार्यक्रम के तहत 18 अप्रैल को मतदान होगा.

Image caption रजनीकांत ने भी वोट डाला

तमिलनाडु के शिवगंगा से पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिंदबरम अपनी क़िस्मत आज़मा रहे हैं. इस सीट से पी चिदंबरम सात बार सांसद रह चुके हैं. पिछले आम चुनाव में कार्ति यहां से चुनाव हार गए थे.

बिहार

बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीटें हैं. पहले चरण में बिहार की चार सीटों पर मतदान हो चुका है जबिक दूसरे चरण में पांच सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. ये हैं किशनगंज, कटिहार, पुर्णिया, भागलपुर और बांका.

कटिहार और किशनगंज पर सबकी नज़र है. कटिहार से कांग्रेस के तारिक़ अनवर मैदान में हैं. तारिक़ अनवर हाल ही में एनसीपी छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हुए थे.

इमेज कॉपीरइट Seetu Tiwari

बिहार के किशनगंज सीट पर भी सबकी निगाहें टिकी हैं. लगभग 67 फ़ीसदी मुस्लिम मतदाता वाली ये सीट कांग्रेस का गढ़ रही है लेकिन पहली बार असदउद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन के उम्मीदवार से कांग्रेस को कड़ी टक्कर मिल रही है.

अगर ओवैसी की पार्टी ये सीट जीत जाती है तो हैदराबाद के बाहर लोकसभा में ये उनकी पहली जीत होगी.

पुर्णिया से उदय सिंह कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. उदय सिंह पुर्णिया से बीजेपी के सासंद रह चुके हैं लेकिन 2014 में वो जनता-दल के उम्मीदवार से चुनाव हार गए थे. 2014 में नीतीश कुमार और बीजेपी के बीच गठबंधन नहीं हुआ था. हाल ही में उदय सिंह कांग्रेस में शामिल हुए थे.

उत्तरप्रदेश

उत्तरप्रेदश में लोकसभा की कुल 80 सीटें हैं. दूसरे चरण में यहां की आठ सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. ये सीटें हैं नगीना, अमरोहा, बुलंदशहर, अलीगढ़, हाथरस, मथुरा, आगरा और फ़तेहपुर सिकी.

इनमें से मथुरा सीट पर सभी की नज़र रहेगी. यहां से भाजपा उम्मीदवार और अभिनेत्री हेमा मालिनी चुनावी मैदान में हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वो यहां से सांसद हैं और दूसरी बार चुनाव लड़ रही हैं. उनके ख़िलाफ़ आरएलडी के कुंवर नरेंद्र सिंह और कांग्रेस के महेश पाठक चुनाव लड़ रहे हैं.

दूसरे चरण में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के भाग्य का भी फ़ैसला होगा. वो फतेहपुर सीकरी से चुनाव लड़ रहे हैं.

कर्नाटक

कर्नाटक की कुल 28 सीटों में से 14 सीटों पर गुरुवार को वोट डाले जा रहे हैं. 2014 में बीजेपी ने 17 सीटें जीती थीं, कांग्रेस ने 9 और जेडी-एस ने दो सीटें जीती थीं. 2014 में कांग्रेस और जेडी-एस अलग अलग चुनाव लड़े थे लेकिन इस बार दोनों मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं.

Image caption 19 साल की सानिया सुल्ताना ने पहली बार वोट डाला

बीजेपी के लिए सबसे बड़ी चुनौती 17 सीटों को बचाए रखना है. इस चरण में बैंगलुरु की सभी चारों सीटों के अलावा मांडया सीट पर भी सबकी निगाहें टिकी हैं. मांडया से पूर्व प्रधानमंत्री देवेगौड़ा के पोते और मौजूदा मुख्यमंत्री एचडी कुमारास्वामी के बेट निखिल चुनाव लड़ रहे हैं और उनको चुनौती दे रही हैं बीजेपी समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार सुमलता अंबरीश.

फ़िल्म अभिनेता प्रकाश राज बैंगलुरु सेंट्रल से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं. बीजेपी के तेजस्वी सुर्या सबसे कम उम्र के उम्मीदवारों में से एक हैं जो बैंगलुरु दक्षिण से मैदान में हैं.

असम

असम में कुल 14 सीटें हैं लेकिन दूसरे चरण में वहां की पांच सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. पहले चरण में पांच सीटों पर मतदान हो चुके हैं. इस चरण में सिलचर, करीमगंज, मंगलदोई, नौगांव, और ऑटोनोमस डिस्ट में मतदान हो रहे हैं. 2014 में पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया था और सात सीटें जीती थीं. उसके बाद हुए विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए अपने दम पर सरकार बनाई थी. बीजेपी को इस राज्य से बहुत उम्मीदें हैं.

इमेज कॉपीरइट Tilak

सिलचर से कांग्रेस महिला सेल की अध्यक्ष सुष्मिता देव उम्मीदवार हैं.

यह भी पढ़ें | प्रियंका चतुर्वेदी अपनी ही पार्टी कांग्रेस से हुईं ख़फ़ा

छत्तीसगढ़

वरिष्ठ पत्रकार आलोक पुतुल के अनुसार छत्तीसगढ की तीन सीटों महासमुंद, राजनांदगाँव और कांकेर में सुबह 10 बजे तक 10.45 प्रतिशत मतदान हुए.कांकेर और राजनांदगाँव माओवाद प्रभावित इलाक़े हैं. राजनांदगाँव पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके सांसद बेटे अभिषेक सिंह का गृह ज़िला है. इसलिये चुनावी राजनीति में दिलचस्पी रखने वालों की नज़र राजनांदगाँव पर बनी हुई है.

इमेज कॉपीरइट ANI
Image caption राजनंदगांव में आइटीबीपी का जवान एक विकलांग को बूथ तक ले जाते हुए

राज्य की 11 में से 10 सीटों पर 2014 में भाजपा ने जीत दर्ज की थी, लेकिन इस चुनाव में पार्टी ने किसी भी सांसद को टिकट नहीं दिया है और नये चेहरों पर दाँव लगाया है. आलोक पुतुल के अनुसार कांकेर में चुनावी ड्यूटी पर तैनात एक पुलिसकर्मी की हार्ट अटैक से मौत हो गई है. इसके अलावा दंतेवाड़ा में माओवादियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच हुई मुठभेड़ में दो माओवादियों के मारे जाने की ख़बर है. पुलिस ने घटना स्थल से दो रायफ़ल भी बरामद किए हैं. मारे गए माओवादियों में से एक पर पांच लाख रुपए का इनाम भी था.

इसके अलावा दूसरे चरण में जम्मू-कश्मीर (2), महाराष्ट्र (10) मणिपुर(1), जम्मू-कश्मीर(2) में भी मतदान हो रहे हैं.

Image caption उधमपुर में एक नव-विवाहित जोड़े ने वोट डाला

त्रिपुरा में एक सीट पर भी 18 अप्रैल को चुनाव होना था लेकिन क़ानून-व्यवस्था के कारण उसे रद्द कर दिया गया है. इस तरह दूसरे चरण में कुल 95 सीटों के लिए मतदान हो रहा है.

सभी सीटों पर हुए मतदान की गिनती सातवें चरण के मतदान के बाद 23 मई को होगी.

इससे पहले पिछले गुरुवार (11 अप्रैल) को पहले चरण में 18 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों की 91 सीटों पर मतदान हुए थे.

चुनाव आयोग के अनुसार छिटपुट घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूर्ण रहा था. चुनाव की पूरी प्रक्रिया 39 दिनों तक चलेगी.

हालांकि इसके बावजूद यह भारत का सबसे लंबा चुनाव नहीं है. भारत का सबसे लंबा चुनाव पहला आम चुनाव था. आज़ाद भारत का पहला आम चुनाव 25 अक्तूबर 1951 को शुरू हुआ था और 21 फ़रवरी 1952 तक चला था. मतलब क़रीब तीन महीने तक चुनाव चला था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

27 फ़ीसदी उम्मीदवार करोड़पति, वसंत कुमार सबसे अमीर

एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स की रिपोर्ट के मुताबिक़ दूसरे चरण के 27 फ़ीसदी उम्मीदवारों की संपत्ति एक करोड़ रुपए या उससे अधिक मूल्य की है. 11 फ़ीसदी उम्मीदवारों की संपत्ति 5 करोड़ रुपए या उससे अधिक की है.

वहीं, 07 फ़ीसदी ऐसे उम्मीदवार हैं, जिन्होंने अपनी संपत्ति दो से पांच करोड़ रुपए के बीच की बताई है. 41 फ़ीसदी ऐसे भी उम्मीदवार हैं, जिनके पास 10 लाख रुपए से कम की संपत्ति है.

दलों की बात की जाए तो कांग्रेस के 53 में से 46 उम्मीदवार करोड़पति हैं. भाजपा के 51 में से 45 उम्मीदवार, डीएमके के 24 में से 23, एआईडीएमके के 22 में से 22 और बीएसपी के 80 में से 21 उम्मीदवारों ने ख़ुद को करोड़पति घोषित किया है.

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति 3.90 करोड़ रुपए हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इन सभी में तमिलनाडु के कन्याकुमारी सीट से कांग्रेस उम्मीदवार वसंत कुमार सबसे अमीर हैं. इन्होंने 417 करोड़ से अधिक की संपत्ति घोषित की है.

सबसे अमीर उम्मीदवारों की सूची में दूसरे नंबर पर बिहार के पूर्णिया से कांग्रेस उम्मीदवार उदय सिंह हैं. इन्होंने 341 करोड़ रुपए से ज़्यादा की संपत्ति की घोषणा की है.

वहीं सूची में तीसरा नाम डीके सुरेश का है, जो कर्नाटक के बेंगलुरू ग्रामीण से कांग्रेस उम्मीदवार हैं. इनके पास 338 करोड़ से अधिक की संपत्ति है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दूसरे चरण के चुनावों से जुड़े कुछ रोचक तथ्यः

  • एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक़ दूसरे चरण में 1644 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं.
  • इनमें से 209 राष्ट्रीय दलों से, 107 क्षेत्रीय दलों से, 386 ग़ैर मान्यता प्राप्त दलों और 888 उम्मीदवार निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं.
  • 251 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामले घोषित किए हैं.
  • 697 उम्मीदवारों की शैक्षणिक योग्यता 5वीं से 12वीं के बीच की है. वहीं 756 उम्मीदवारों ने ख़ुद को ग्रेजुएट या उससे अधिक बताया है.
  • 35 उम्मीदवार ने साक्षर और 26 उम्मीदवार ने ख़ुद को अनपढ़ बताया है.
  • दूसरे चरण में महज़ 8 फ़ीसदी महिला उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं, जिनकी कुल संख्या 120 है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार