कैसी थी जेट एयरवेज़ की आख़िरी उड़ान - आँखों देखा हाल

  • 18 अप्रैल 2019
Jet Airways, जेट एयरवेज़ इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत की जानी-मानी हवाई सेवा जेट एयरवेज़ के किसी विमान ने बुधवार रात को अंतिम बार उड़ान भरी.

भारी कर्ज़ में डूबे जेट एयरवेज़ के प्रबंधकों ने जेट की सेवा को अस्थायी रूप से निलंबित करने का फ़ैसला लिया है.

इसके बाद जेट की आख़िरी फ़्लाइट थी 9W 3502, जो रात 10.20 बजे दो घंटे के अंतिम सफ़र पर अमृतसर से मुंबई के लिए निकली.

विमान में यात्रा कर रहे बहुत से लोगों को इसका अंदाज़ा नहीं था कि यह जेट एयरवेज़ की अंतिम फ़्लाइट थी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
जेट एयरवेज़ की आख़िरी उड़ान...

कुछ यात्रियों ने बीबीसी से कहा कि उन्हें इस बात का दुख है कि यह जेट की अंतिम फ़्लाइट है.

इमेज कॉपीरइट RAVINDER SINGH ROBIN/BBC

कुछ यात्रियों ने बताया कि उन्होंने अपने हवाई सफ़र की शुरुआत ही जेट एयरवेज़ से की थी.

वहीं कुछ यात्रियों ने कहा कि वो अमूमन इंडियन एयरलांइस का इस्तेमाल करते हैं लेकिन जेट एयरवेज़ में अच्छी सुविधाओं को लेकर यात्रा करना उन्हें पसंद हैं.

इमेज कॉपीरइट Ravinder singh robin/bbc

एक महिला यात्री ने जेट के कर्मचारियों के भविष्य को लेकर अपनी चिंताएं जताई.

उन्होंने कहा, "देश के लिए यह अच्छी ख़बर नहीं है. इससे बेरोज़गारी ही बढ़ेगी. किसी अन्य एयरलाइंस को इतनी बड़ी संख्या में जेट के कर्मचारियों को नियुक्त करना आसान नहीं होगा."

इमेज कॉपीरइट Ravinder singh robin/bbc

वहीं एक बिजनेस मैन ने कहा कि, "एक कंपनी बहुत अच्छी चल रही हो और वो एकदम से खस्ताहाल हो जाए और बंद हो जाए ऐसी स्थिति को मैं समझ सकता हूं."

इमेज कॉपीरइट Ravinder singh robin/bbc

वहीं जेट एयरवेज़ के फ़्लाइट क्रू के कैप्टन ने बीबीसी से कहा, "सूरज फिर निकलेगा."

इमेज कॉपीरइट Ravinder singh robin/bbc

इस विमान की एयरहोस्टेस को तो कुछ देर पहले तक यह पता नहीं था कि यह जेट की अंतिम उड़ान है.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "यह बहुत ही दुख की घड़ी है."

इमेज कॉपीरइट Ravinder singh robin/bbc

दरअसल 25 साल पुरानी एयरलाइन कंपनी पर 8 हज़ार करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज़ है और बैंकों ने 400 करोड़ रुपये का इमर्जेंसी फंड देने से इनकार कर दिया.

इसके बाद कंपनी के सामने 'शटरडाउन' के अलावा अब कोई विकल्प नहीं बचा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार