प्रज्ञा ठाकुर मालेगांव ब्लास्ट केस में आज भी अभियुक्त हैं: लोकसभा चुनाव 2019

  • 18 अप्रैल 2019
प्रज्ञा ठाकुर, साध्वी प्रज्ञा इमेज कॉपीरइट SHURIAH NIAZI/BBC

साध्वी प्रज्ञा, यह वो नाम है जो कांग्रेस के दिग्विजय सिंह के ख़िलाफ़ भोपाल में बीजेपी का चेहरा हैं.

साध्वी प्रज्ञा का पूरा नाम प्रज्ञा सिंह ठाकुर है. मध्य प्रदेश के भिंड ज़िले के कछवाहा गांव में जन्मीं प्रज्ञा सिंह 2008 के मालेगांव ब्लास्ट मामले में गिरफ़्तारी से चर्चा में आईं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मालेगांव बम धमाके में छह लोगों की मौत हुई थी

मालेगांव ब्लास्ट मामला

महाराष्ट्र के मालेगांव में अंजुमन चौक और भीकू चौक के बीच शकील गुड्स ट्रांसपोर्ट के सामने 29 सितंबर 2008 की रात 9.35 बजे बम धमाका हुआ था जिसमें छह लोग मारे गए और 101 लोग घायल हुए थे.

इस धमाके में एक मोटरसाइकिल इस्तेमाल की गई थी. एनआईए की रिपोर्ट के मुताबिक यह मोटरसाइकिल प्रज्ञा ठाकुर के नाम पर थी.

महाराष्ट्र एटीएस ने हेमंत करकरे के नेतृत्व में इसकी जांच की और इस नतीजे पर पहुँची कि उस मोटरसाइकिल के तार गुजरात के सूरत और अंत में प्रज्ञा ठाकुर से जुड़े थे.

प्रज्ञा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की सदस्य रह चुकी थीं. पुलिस ने पुणे, नासिक, भोपाल इंदौर में जांच की. सेना के एक अधिकारी कर्नल प्रसाद पुरोहित और सेवानिवृत मेजर रमेश उपाध्याय को भी गिरफ़्तार किया गया.

इसमें हिंदूवादी संगठन अभिनव भारत का नाम सामने आया और साथ ही सुधाकर द्विवेदी उर्फ़ दयानंद पांडेय का नाम भी आया.

मोटरसाइकिल से प्रज्ञा का कनेक्शन

एटीएस चार्जशीट के मुताबिक प्रज्ञा ठाकुर के ख़िलाफ़ सबसे बड़ा सबूत मोटरसाइकिल उनके नाम पर होना था.

इसके बाद प्रज्ञा को गिरफ़्तार किया गया. उन पर महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण क़ानून (मकोका) लगाया गया. चार्जशीट के मुताबिक जांचकर्ताओं को मेजर रमेश उपाध्याय और लेफ़्टिनेंट कर्नल पुरोहित के बीच एक बातचीत पकड़ में आई जिसमें मालेगांव धमाके मामले में प्रज्ञा ठाकुर के किरदार का ज़िक्र था.

मामले की शुरुआती जांच महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते ने की थी, जिसे बाद में एनआईए को सौंप दी गई थी. एनआईए की चार्जशीट में उनका नाम भी डाला गया.

मालेगांव ब्लास्ट की जांच में सबसे पहले 2009 और 2011 में महाराष्ट्र एटीएस ने स्पेशल मकोका कोर्ट में दाखिल अपनी चार्जशीट में 14 अभियुक्तों के नाम दर्ज किये थे. एनआईए ने जब मई 2016 में अपनी अंतिम रिपोर्ट दी तो उसमें 10 अभियुक्तों के नाम थे.

इस चार्जशीट में प्रज्ञा सिंह को दोषमुक्त बताया गया. साध्‍वी प्रज्ञा पर लगा मकोका (MCOCA) हटा लिया गया और कहा गया कि प्रज्ञा ठाकुर पर करकरे की जांच असंगत थी.

इसमें लिखा गया कि जिस मोटरसाइकिल का ज़िक्र चार्जशीट में था वो प्रज्ञा के नाम पर थी, लेकिन मालेगांव धमाके के दो साल पहले से कलसांगरा इसे इस्तेमाल कर रहे थे.

इमेज कॉपीरइट TWITTER @digvijaya_28

चिदंबरम, दिग्विजय पर फंसाने का आरोप

हालांकि इस चार्जशीट के बाद एनआईए कोर्ट ने प्रज्ञा को जमानत तो दे दी लेकिन उन्हें दोषमुक्त नहीं माना और दिसंबर 2017 में दिए अपने आदेश में उसने कहा कि प्रज्ञा और पुरोहित पर यूएपीए (अनलॉफ़ुल एक्टिविटीज़ प्रीवेंशन एक्ट) के तहत मुकदमा चलता रहेगा.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption कर्नल पुरोहित

इसी आदेश में साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित पर से मकोका (महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण क़ानून) हटा लिया गया.

हालांकि साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित समेत सात अभियुक्तों पर अब भी चरमपंथ के ख़िलाफ़ बनाए गए क़ानून यूएपीए की धारा 16 और 18, आईपीसी की धारा 120बी (आपराधिक साज़िश), 302 (हत्या), 307 (हत्या की कोशिश) और 326 (इरादतन किसी को नुकसान पहुंचाना) के तहत मामला चल रहा है.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption पी चिदंबरम

प्रज्ञा ठाकुर फिलहाल जमानत पर बाहर हैं. बीबीसी से बातचीत में वो तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदंबरम और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर उन्हें झूठे मामले में फंसाने का आरोप लगाती हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट

समझौता ब्लास्ट के अभियुक्त की हत्या में था नाम

प्रज्ञा ठाकुर के ख़िलाफ़ समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले के अभियुक्त सुनील जोशी की हत्या का आरोप भी लगा था. जोशी की 29 दिसंबर 2007 को हत्या कर दी गई थी.

इस मामले में फ़रवरी 2011 में प्रज्ञा की गिरफ़्तारी भी की गई थी. हालांकि, 2017 में मध्‍य प्रदेश के देवास कोर्ट ने प्रज्ञा को सुनील जोशी हत्‍याकांड से बरी कर दिया था.

दिल्ली और लाहौर के बीच दौड़ने वाली समझौता एक्सप्रेस में 18 फ़रवरी 2007 को हरियाणा में पानीपत के समीप धमाका हुआ था जिसमें कम से कम 68 लोग मारे गए थे.

अजमेर दरगाह ब्लास्ट

अजमेर दरगाह ब्लास्ट मामले में भी प्रज्ञा ठाकुर का नाम आया था लेकिन अप्रैल 2017 में एनआईए ने प्रज्ञा ठाकुर, आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार और दो अन्य के ख़िलाफ़ राजस्थान के स्पेशल कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल कर दी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार