जेट एयरवेज़ को एयर इंडिया का सहाराः प्रेस रिव्यू

जेट एयरवेज़ के कर्मचारी

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

जेट एयरवेज़ के कर्मचारी

जेट एयरवेज़ की सेवाएं अब बंद हो चुकी हैं. इसी के चलते हज़ारों कर्मचारियों की नौकरी पर ख़तरा पैदा हो गया है.

इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि एयर इंडिया ने जेट एयरवेज़ के पांच बड़े विमानों को लीज़ पर लेने का प्रस्ताव दिया है. यह प्रस्ताव एयर इंडिया ने उसी दिन रख दिया था जब जेट एयरवेज़ ने अस्थाई तौर पर अपनी सेवाओं को बंद करने की घोषणा की थी.

ख़बर के मुताबिक़ सरकार के नियंत्रण वाली एयर इंडिया ने भारतीय स्टेट बैंक से कहा था कि वह एयर इंडिया की लंदन, दुबई और सिंगापुर जाने वाले बोइंग 777 विमानों को लीज़ पर लेना चाहता है.

इसके साथ ही एयर इंडिया ने जेट एयरवेज़ के 150 केबिन क्रू सदस्यों को भी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए रखने का प्रस्ताव रखा है.

साध्वी प्रज्ञा को चुनाव लड़ने से रोकने की अपील

भोपाल से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के भाजपा उम्मीदवार बनने के एक दिन बाद मालेगांव धमाकों के एक पीड़ित के पिता ने कहा है कि प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव लड़ने से रोका जाए.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक़ निसार अहमद सैय्यद बिलाल नामक शख्स ने मुंबई में एनआईए की कोर्ट में अपील की है कि वह साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव लड़ने से रोके. निसार अहमद के बेटे सैय्यद अज़हर की साल 2008 में हुए मालेगांव धमाके में मौत हो गई थी.

निसार अहमद सैय्यद का कहना है कि साध्वी प्रज्ञा अभी भी मालेगांव धमाके की अभियुक्त हैं और वे ज़मानत पर जेल से बाहर गई हैं, ऐसे में उन्हें चुनाव लड़ने से रोका जाना चाहिए. इस कोर्ट ने प्रज्ञा ठाकुर से जवाब मांगा है. इस मामले की सुनवाई 22 अप्रैल को होगी.

वहीं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर से ही जुड़ी हुई ख़बर हिंदुस्तान टाइम्स में भी प्रकाशित हुई है जिसमें बताया गया है कि आरएसएस ने ही बीजेपी के समक्ष प्रज्ञा ठाकुर का नाम रखा था. ख़बर के मुताबिक़ प्रज्ञा ठाकुर को कांग्रेस के दिग्विजय सिंह के सामने उतारकर आरएसएस चाहता है कि वह हिंदू वोटबैंक को अपनी तरफ़ खींच सके.

इमेज स्रोत, Getty Images

नियंत्रण रेखा के रास्ते कारोबार पर रोक

भारत सरकार ने नियंत्रण रेखा के दूसरी तरफ़ से होने वाले सभी तरह के कारोबार पर रोक लगा दी है.

जनसत्ता में प्रकाशित इस समाचार के अनुसार गृह मंत्रालय ने गुरुवार को यह आदेश जारी किया.

अपने आदेश में मंत्रालय ने लिखा कि सरकार को ऐसी सूचनाएं मिल रही थीं कि पाकिस्तान में मौजूद अराजक तत्व अवैध हथियारों, मादक पदार्थों और नक़ली मुद्रा भेजने के लिए नियंत्रण रेखा के कारोबारी रास्ते का इस्तेमाल कर रहे थे.

वीडियो कैप्शन,

भारत और पाकिस्तान के कारोबारी पाबंदियों से परेशान

गृह मंत्रालय के आदेश में कहा गया है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने अपनी जांच में इस बात का पता लगाया है. आदेश के अनुसार जम्मू-कश्मीर में सलमाबाद और चक्कन दा बाग के रास्ते नियंत्रण रेखा के आर-पार कारोबार को स्थगित किया जाएगा.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)