क्या बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने लाल कृष्ण आडवाणी को मंच से उतारा? फ़ैक्ट चेक

  • 20 अप्रैल 2019
अमित शाह आडवाणी इमेज कॉपीरइट SM Viral Post

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेज़ी से शेयर किया जा रहा है जिसमें ये दिखाने की कोशिश की गई है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी के साथ बदसलूकी की.

फ़ेसबुक पोस्ट में वीडियो के साथ लोगों ने लिखा है, "खुलेआम बेइज्जती! अहंकार की पराकाष्ठा अपने बुजुर्ग नेता को पीछे भेज रहे हैं जिन्होंने पार्टी को खड़ा किया."

वायरल वीडियो में दिखाई देता है कि मंच पर बैठे अमित शाह बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में से एक लाल कृष्ण आडवाणी को पहली पंक्ति से उठकर पीछे की ओर जाने का इशारा करते हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में कहा था कि "शिष्य (नरेंद्र मोदी), गुरु (आडवाणी) के आगे हाथ भी नहीं जोड़ता. स्टेज से उठाकर फेंक दिया गुरु को. जूता मारकर आडवाणी जी को उतारा स्टेज से."

हमने पाया कि राहुल गांधी की इसी टिप्पणी के बाद सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेज़ी से शेयर होना शुरू हुआ.

यह बात सही है कि साल 1991 से गुजरात के गांधीनगर से सांसद रहे आडवाणी को इस बार बीजेपी ने टिकट नहीं दिया है और उनकी जगह पार्टी अध्यक्ष अमित शाह इस संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Post

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बीजेपी ने इस बार 75 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टिकट नहीं देने का निर्णय किया है और इसीलिए गांधीनगर से आडवाणी की जगह पार्टी अमित शाह को चुनावी मैदान में उतार रही है.

लेकिन ट्विटर और फ़ेसबुक पर सैकड़ों बार शेयर किये जा चुके 23 सेकेंड के इस वीडियो के साथ यह दावा किया जा रहा है कि अमित शाह ने टिकट काटने के बाद लाल कृष्ण आडवाणी के साथ बदसलूकी की.

अपनी पड़ताल में हमने पाया कि ये दावा भ्रामक है और वीडियो को एडिट किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वीडियो की असलियत

हमने पाया कि वीडियो को एक भ्रामक संदर्भ देने के लिए इसे एडिट करके छोटा किया गया है.

यह 9 अगस्त 2014 को नई दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में हुई बीजेपी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक का वीडियो है.

इस बैठक की क़रीब डेढ़ घंटा लंबी फ़ुटेज देखने से यह साफ़ हो जाता है कि अमित शाह के बताने पर लाल कृष्ण आडवाणी अगली पंक्ति से उठकर मंच पर पीछे की तरफ बने पोडियम पर अपना भाषण देने गए थे.

ऑरिजनल वीडियो में अमित शाह लाल कृष्ण आडवाणी को कुर्सी पर बैठे हुए ही सभा को संबोधित करने का प्रस्ताव भी देते हुए दिखाई पड़ते हैं. मगर आडवाणी पोडियम पर खड़े होकर भाषण देने का चुनाव करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जिस वक़्त यह सब होता है, उस समय अमित शाह की बगल में बैठे हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो में कुछ क़ागज़ात पढ़ते दिखाई देते हैं.

लेकिन जो वीडियो सोशल मीडिया पर सर्कुलेट किया जा रहा है, उसमें सिर्फ़ अमित शाह के पोडियम की ओर इशारा करने और लाल कृष्ण आडवाणी के कुर्सी से उठकर जाने वाला हिस्सा ही दिखाई देता है.

क़रीब डेढ़ घंटे के इस कार्यक्रम में, अपना भाषण ख़त्म करने के बाद भी लाल कृष्ण आडवाणी पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के साथ वाली सीट पर ही बैठे हुए थे.

इस कार्यक्रम की पूरी वीडियो भारतीय जनता पार्टी के आधिकारिक यू-ट्यूब पेज पर मौजूद है जिसे देखकर स्पष्ट रूप से ये कहा जा सकता है कि अमित शाह के आडवाणी से बदसलूकी करने का दावा बिल्कुल फ़र्ज़ी है.

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार