राहुल ने कहा, राफ़ेल सौदे में जेल जा सकते हैं मोदी: प्रेस रिव्यू

  • 21 अप्रैल 2019
राहुल मोदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राफ़ेल मामले में जेल जा सकते हैं. यह कहना है कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का.

हिंदुस्तान टाइम्स में एक्सक्लूसिव ख़बर के तौर पर इसे प्रकाशित किया है. अखबार लिखता है कि शुक्रवार को सूरत से बेलगाम की हवाई यात्रा के दौरान 'हिन्दुस्तान' से एक्सक्लूसिव बातचीत में राहुल गांधी ने पहली बार यह दावा किया.

हिंदुस्तान दैनिक के संवाददाता ने राहुल गांधी से पूछा कि ''प्रधानमंत्री ने अपने इंटरव्यू में मुझसे कहा था कि मैंने तो राफ़ेल के मामले में सारी बातों का जवाब दे दिया है. आप लोग उनसे (राहुल गांधी) यह क्यों नहीं पूछते कि उनके आरोप का प्रमाण क्या है? अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी राफ़ेल सौदे की वैधता पर मुहर लगा दी है. इस संबंध में आप क्या कहेंगे?''

इस सवाल पर राहुल गांधी का जवाब था, '''हिंदू' अखबार ने राफ़ेल संबंधी जो दस्तावेज छापे हैं, उनसे साफ़ है कि नरेंद्र मोदी जी भारत की 'नेगोसिएशन टीम' को 'बाईपास' कर राफ़ेल की कीमत का मोलभाव सीधे दसौ कंपनी से कर रहे थे. अकेले इन्हीं कागजातों के आधार पर नरेंद्र मोदी जेल जा सकते हैं.''

पश्चिम बंगाल के चुनाव अधिकारी का राजनीतिक बयान

बंगाल के चुनाव अधिकारी ने बंगाल की तुलना दस साल पुराने बिहार से की है. इस पर ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी ने उस चुनाव अधिकारी को हटाए जाने की मांग उठाई है.

इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित इस समाचार में कहा गया है कि, कोलकाता में पत्रकारों के साथ बात करते हुए मुख्य चुनाव अधिकारी अजय वी नायक ने टिप्पणी कर दी कि 'पश्चिम बंगाल की मौजूदा हालत 10 से 15 साल पुराने बिहार जैसी हो गई है.'

इमेज कॉपीरइट TWITTER/MAMTA BANERJEE

उन्होंने कहा, ''10 से 15 साल पहले बिहार चुनाव के दौरान बूथ पर सिर्फ केंद्रीय सुरक्षाबल ही होते थे, लेकिन अब बंगाल में भी वैसे ही हालात हैं क्योंकि यहां के लोगों का राज्य की पुलिस से भरोसा उठ चुका है.''

वहीं एक और घटनाक्रम में दो दिन पहले पश्चिम बंगाल के नाडिया ज़िले से लापता हुए नोडल चुनाव अधिकारी अरनब रॉय की पत्नी ने फ़ेसबुक पर पोस्ट लिखकर साफ किया है कि उनके बीच किसी तरह की निजी समस्या नहीं चल रही थी.

मोदी की वेब सिरीज़ पर लगी रोक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ी एक वेब सिरीज़ को चुनाव आयोग की तरफ से झटका लगा है.

नवभारत टाइम्स में प्रकाशित समाचार में बताया गया है कि चुनाव आयोग ने इस वेब सिरीज़ को रिलीज़ कर रहे प्लैटफॉर्म 'इरॉस नाउ' को नोटिस जारी कर इसे तत्काल प्रभाव से हटाने के आदेश दिए हैं.

इमेज कॉपीरइट OMUNG KUMAR/TWITTER
Image caption नरेंद्र मोदी पर बनी फ़िल्म का पोस्टर

चुनाव आयोग ने अपने एक आदेश में कहा, ''हमारे संज्ञान में आया है कि 'मोदी-जर्नी ऑफ़ अ कॉमन मैन' के पांच एपिसोड आपके प्लैटफॉर्म पर उपलब्ध हैं. आपको अगले आदेश तक इसके ऑनलाइन स्ट्रीमिंग को रोकने और इससे संबंधित सभी सामग्री को हटाने के निर्देश दिए जाते हैं.''

इससे पहले पीएम मोदी पर आधारित बायॉपिक 'पीएम नरेंद्र मोदी' की रिलीज़ पर चुनाव तक रोक लगा दी गई थी.

रोहित शेखर की मौत की गुत्थी उलझी

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की मौत की गुत्थी उलझती जा रही है.

अमर उजाला में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला और मुंह दबाने की वजह से मौत का खुलासा होने के बाद पुलिस के शक़ के दायरे में परिवार के लोग आ गए हैं.

इसकी वजह दरअसल सीटीवी फुटेज और शुरुआती जांच में किसी बाहरी व्यक्ति के घर में दाखिल होने का पता नहीं चलना है.

ख़बर के अनुसार, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम शनिवार को डिफेंस कॉलोनी स्थित घर पहुंची और रोहित मां, पत्नी और अन्य लोगों से पूछताछ की.

क्राइम ब्रांच की टीम ने रोहित की पत्नी अपूर्वा, मां उज्ज्वला, सौतेले भाई सिद्धार्थ, अपूर्वा के पिता पद्माकर शुक्ला, रिश्तेदार राजीव कुमार, पूर्व कर्मचारी रमेश, चालक अखिलेश व उनके कई नौकरों से पूछताछ की.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रोहित शेखर घर पर जांच करने पहुंची दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम

उज्ज्वला ने पुलिस को बताया है कि शादी के बाद से ही रोहित के अपूर्वा से संबंध अच्छे नहीं थे. पुलिस व सीएफ़एसएल की टीम ने भी दोबारा रोहित के घर से साक्ष्य जुटाए।

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार