प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात की चुनावी रैली में ये क्या कह दिया - फ़ैक्ट चेक

  • 22 अप्रैल 2019
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक वीडियो वायरल हो गया है जिसमें कथित रूप से मोदी एक रैली में गाली का प्रयोग कर रहे हैं.

ट्विटर पर खुद को कांग्रेस समर्थक बताने वाले गौरव पांढी ने रविवार को ट्वीट किया, "ये कौन सी भाषा है मिस्टर मोदी? क्या देश के प्रधानमंत्री को गाली देना शोभा देता है और वो भी सार्वजनिक रूप से? ये विश्वास से परे है! किसी और चीज़ की नहीं तो कम से कम अपनी कुर्सी की कुछ इज़्ज़त रख लेते."

उनके द्वारा पोस्ट किए गए वीडियो को 3,15,000 बार देखा गया.

पिछले 24 घंटे में उनके इस वीडियो को हज़ारों बार शेयर किया गया है.

लेकिन इस वायरल वीडियो में किए गए दावे को हमने झूठा पाया है.

इमेज कॉपीरइट FB Search Result

वीडियो की असलियत

हमने पाया कि प्रधानमंत्री मोदी ने कोई भी आक्रामक शब्द का इस्तेमाल नहीं किया था.

शनिवार को मोदी ने गुजरात के पाटन में एक चुनावी रैली को संबोधित किया था. ये 15 सेकेंड की वीडियो क्लिप उसी लंबे भाषण से निकाली गई है.

वायरल वीडियो में समाचार वेबसाइट 'क्विंट' का लोगो भी लगा है.

वेबसाइट ने स्पष्ट किया है कि उसने ऐसी कोई रिपोर्ट प्रकाशित नहीं की है और मोदी के जिस भाषण को वेबसाइट ने प्रकाशित किया था, क्लिप उसी से निकाली गई है.

मोदी द्वारा जल्दबाज़ी में बोले गए एक गुजराती शब्द पर संदेह पैदा करने के लिए वायरल वीडियो में इस हिस्से को बार बार दिखाया गया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अपने भाषण में मोदी ने गुजराती में कहा था, "जब हम जानते हैं कि भविष्य में पानी को लेकर झगड़ा होगा तो हम एहतियात क्यों नहीं बरतते. (लोको एम काहे छे भविष्या मा लड़ाई पानी नी थावानी छे, अल्या, बढा काहो छो पानी लड़ाई झावानी छे तो पाछी पानी पेला पाल केम ना बांढिया)"

इस वीडियो में गुजराती में कहे गए 'लड़ाई थावानी छे' को बार बार दिखाकर ये दावा किया गया है कि उन्होंने अपशब्द बोला.

'लड़ाई थावानी छे' गुजराती का मुहावरा है जिसका मतलब है 'लड़ाई शुरू होने वाली है'.

47 मिनट लंबे इस वीडियो को बीजेपी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी साझा किया गया है.

मोदी, अपनी रैली में गुजरात में पानी की समस्या पर बोल रहे थे.

उन्होंने आयुष्यमान भारत योजना, कुंभ मेले में स्वच्छता और उनकी सरकार की ओर से विकलांगों के हित में लिए गए फैसलों के बारे में बातें कीं.

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

पढ़ें फ़ैक्ट चेक की सभी कहानियाँ एक साथ - फ़ैक्ट चेक- जानें फ़र्ज़ी ख़बरों और दावों का सच

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार