राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट के हवाले से 'चौकीदार चोर है' कहने पर खेद जताया

  • 22 अप्रैल 2019
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Reuters

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को रफ़ाल विमान सौदे में सुप्रीम कोर्ट का हवाला देकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी करने के लिए 'खेद' जताया. सुप्रीम कोर्ट का कहना था कि कांग्रेस अध्यक्ष अपनी टिप्पणी में उसका ग़लत हवाला दे रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने 15 अप्रैल को साफ़-साफ़ शब्दों में कहा था कि रफ़ाल मामले की सुनवाई के दौरान कभी भी उसने ये टिप्पणी नहीं की कि 'चौकीदार नरेंद्र मोदी चोर हैं', जैसा कि राहुल गांधी अपने बयानों में उसका (सुप्रीम कोर्ट) हवाला दे रहे हैं.

बीजेपी की सांसद मीनाक्षी लेखी ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका दाखिल की थी और राहुल गांधी के ख़िलाफ़ आपराधिक मुकदमा चलाने की मांग की थी. मीनाक्षी लेखी की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी को 22 अप्रैल तक अपना जवाब दाखिल करने को कहा था.

इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को सुनवाई होनी है.

राहुल गांधी ने 15 अप्रैल के सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अपना शपथ पत्र दाखिल किया. शपथ पत्र में कहा गया है कि कोर्ट की अवमानना करना कभी भी उनकी मंशा या इरादा नहीं था. उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान जोश में ऐसा बयान दिया था, जिसका उनके विरोधियों ने दुरुपयोग किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राहुल गांधी ने अपने हलफ़नामे में लिखा, "मेरा बयान सियासी प्रचार की गर्मा-गर्मी में दिया गया था. इसे मेरे विरोधियों ने ग़लत ढंग से पेश करके जान-बूझकर ऐसा जताया कि मैंने ये कहा हो कि अदालत ने कहा है कि चौकीदार चोर है. ऐसी सोच तो मेरी दूर-दूर तक नहीं थी, ये भी साफ़ है कि कोई भी अदालत ऐसा कुछ कभी नहीं कहेगी, इसलिए इस दुर्भाग्यपूर्ण संदर्भ (जिसके लिए मैं खेद व्यक्त करता हूँ) को ये न समझा जाए कि अदालत को दिया हुआ कोई निष्कर्ष या टिप्पणी है.."

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी ने भी रफ़ाल विमान सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले पर यह दावा किया है कि सरकार को इस मामले में 'क्लीन चिट' मिल गई है.

बीजेपी ने कहा- चौकीदार प्योर

बीजेपी ने राहुल के शपथपत्र पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया है कि देश जानता है कि चौकीदार प्योर है.

राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर कहा कि ग़रीबों को लूटकर अमीर मित्रों को लाभ देने वाले चौकीदार को सज़ा मिलेगी.

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि राहुल गांधी ने शपथपत्र देकर सिर्फ़ राजनीतिक फ़ायदे के लिए ख़ेद जताया है. उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उन्हें कोर्ट का डर है. निर्मला ने कहा कि राहुल गांधी की विश्वसनीयता खत्म हो गई है.

निर्मला ने कहा कि राहुल गांधी लगातार सार्वजनिक जीवन में रहते हुए झूठ पर झूठ बोल रहे हैं और यह दुख का विषय है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी को एक ऐसा अध्यक्ष चला रहा है जो ग़लतबयानबाज़ी पर निर्भर रहता है.

अमेठी में राहुल के ख़िलाफ़ चुनाव मैदान में उतरीं और केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने ट्वीट कर कहा है कि चौकीदार को चोर कहने वाले राहुल गांधी ने आज स्वीकार किया कि वह ख़ुद झूठे हैं.

15 अप्रैल को मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने मीनाक्षी लेखी की याचिका को स्वीकार करते हुए कहा था कि वो राहुल के ख़िलाफ़ आपराधिक अवमानना का मामला शुरू करने पर विचार कर सकती है.

याचिका में कहा गया था कि राहुल गांधी अपनी व्यक्तिगत टिप्पणियों में सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणियों का हवाला दे रहे हैं.

भारत और फ्रांस के बीच 2015 में रफ़ाल विमानों के लिए सौदा हुआ था. विमानों की डिलीवरी इसी साल सितंबर में होने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार