प्रेस रिव्यू: 'बालाकोट में निशाने पर लगे थे 6 में से 5 बम'

  • 25 अप्रैल 2019
बालाकोट का मदरसा
Image caption बालाकोट का मदरसा जिसे निशाना बनाकर हमला किया गया था

इंडियन एक्सप्रेस अख़बार ने अपनी रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से लिखा है कि बालाकोट में हवाई हमले के दौरान भारत ने इसराइल में बने छह 'स्पाइस 2000' बमों का इस्तेमाल किया था और इनमें से पांच अपने तय निशाने पर लगे थे.

26 फ़रवरी को किए गए हमले की समीक्षा रिपोर्ट में कहा गया है कि चरमपंथी संगठन जैश ए मोहम्मद के ट्रेनिंग कांप्लेक्स पर सटीक निशाना लगा था.

अख़बार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि इस विस्तृत समीक्षा में एयर स्ट्राइक से लिए गए सबक की भी चर्चा है.

ये भी माना गया कि टारगेट मैचिंग के लिए बेहतर हथियार का इस्तेमाल किया जा सकता था.

समीक्षा में ये भी कहा गया है कि भारतीय वायु सेना पाकिस्तान को हैरान करने में पूरी तरह कामयाब रही.

मोदी का सूट ख़रीदने वाले व्यापारी से धोखाधड़ी

इमेज कॉपीरइट Reuters

नरेंद्र मोदी का चर्चित सूट ख़रीदने वाले सूरत के व्यापारी के साथ एक करोड़ रुपए की धोखाधड़ी हुई है.

आरोप है कि ये धोखाधड़ी एक अन्य फ़र्म ने की है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक लालजी पटेल की हीरा फ़र्म धर्मानंदन डायमंड्स ने मंगलवार को शिकायत दर्ज करवाई है.

सूरत के हीरा व्यापारी ने 2015 में नरेंद्र मोदी का सूट 4.31 करोड़ रुपए में खरीदा था.

आरोप है कि एक फर्म चलाने वाले दो भाइयों ने चार महीने पहले धर्मानंदन डायमंड्स से उधारी पर एक करोड़ के हीरे लिए, लेकिन उसका पैसा नहीं चुकाया.

धर्मानंदन डायमंड्स के कर्मचारियों के मुताबिक जब वो पैसा वसूलने पहुंचे तो फर्म बंद मिला.

बच्चों-पत्नी की जान लेना वाला बेरोज़गार गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट Thinkstock
Image caption सांकेतिक तस्वीर

उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ियाबाद में अपने तीन बच्चों और पत्नी की हत्या करने वाले बेरोज़गार इंजीनियर को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक सुमित कुमार को कर्नाटक के उडुपी से गिरफ़्तार किया गया है.

नौकरी चली जाने के बाद वो अपने बच्चों की फ़ीस नहीं भर पा रहे थे. इसी तनाव में उन्होंने तीन बच्चों और पत्नी की हत्या कर दी थी और आत्महत्या का नाकाम प्रयास किया था.

सुमित कुमार को बुधवार को एक स्थानीय कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

पुलिस लाइन्स में हुई एक प्रेस कांफ्रेंस में सुमित ने कहा, "मैंने पाप किया है. मुझे सख्त से सख्त सज़ा दी जानी चाहिए."

टिक टॉक से प्रतिबंध हटा

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मद्रास हाई कोर्ट ने वीडियो एप्लीकेशन टिक टॉक पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया है.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक अदालत ने एप्लीकेशन की मालिक कंपनी से कहा है कि अश्लील सामग्री को अनुमति नहीं दी जानी चाहिए.

मालिक कंपनी बाइट डांस की याचिका पर सुनवाई करते हुए बुधवार को मद्रास हाई कोर्ट ने तीन अप्रैल को दिए अपने आदेश को पलट दिया.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने मद्रास हाई कोर्ट के फ़ैसले में दख़ल देने से इनकार कर दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार