गंगा नदी की पुरानी तस्वीरें और कांग्रेस पार्टी के नए दावे: फ़ैक्ट चेक

  • 27 अप्रैल 2019
गंगा नदी इमेज कॉपीरइट SM Viral Post

कांग्रेस पार्टी से संबंधित कुछ आधिकारिक ट्विटर और फ़ेसबुक पन्नों पर गंगा नदी की दो तस्वीरें शेयर की गई हैं जिनके आधार पर पार्टी ने बीजेपी सरकार की 'नमामि गंगे योजना' पर निशाना साधने की कोशिश की है.

गुजरात प्रदेश यूथ कांग्रेस ने अपने आधिकारिक हैंडल से #DeshKiBhoolKamalKaPhool के साथ ट्वीट किया है, "25,000 करोड़ रुपये के 'नमामि गंगे प्रोजेक्ट' के तहत गंगा साफ़ होने के बजाय और प्रदूषित हुई".

गुजरात प्रदेश कांग्रेस, मुंबई प्रदेश कांग्रेस सेवा दल और गोवा प्रदेश कांग्रेस समेत पार्टी के कई अन्य आधिकारिक हैंडल्स ने भी #JaayegaTohModiHi और #NamamiGange हैश टैग के साथ इन दो तस्वीरों को शेयर किया है.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Post

तुलना करने के लिए इस्तेमाल की गई इन तस्वीरों पर लिखा है, "जो गंगा भाजपा अपने विज्ञापनों में दिखाती है और गंगा का जो सच बीजेपी नहीं दिखाना चाहती".

लेकिन जब हमने इन तस्वीरों की जांच की तो पाया कि दोनों ही तस्वीरें भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने यानी 2014 से पहले की हैं.

इमेज कॉपीरइट Pixabay

साफ़ गंगा, पहली तस्वीर

रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है कि 'निर्मल गंगा' की यह तस्वीर साल 2012 की है जिसे नदी के घाट से दूर जाकर खींचा गया था.

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फ़ोटो शेयरिंग के लिए चर्चित वेबसाइट 'पिक्साबे' पर यह तस्वीर उपलब्ध है.

'पिक्साबे' के अनुसार 'Oreotikki' नाम के यूज़र ने 1 फ़रवरी 2012 को वाराणसी (उत्तर प्रदेश) के गंगा घाट की यह तस्वीर खींची थी जिसे जून 2017 में पिक्साबे पर अपलोड किया गया था.

फ़रवरी 2012 में केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी और उत्तर प्रदेश में बसपा की सरकार थी.

इमेज कॉपीरइट JITENDER GUPTA/OUTLOOK

मैली गंगा, दूसरी तस्वीर

कांग्रेस पार्टी ने जिस दूसरी तस्वीर को बीजेपी के 'नमामि गंगा प्रोजेक्ट' की विफलता के तौर पर दिखाया है, वो साल 2011 की है.

आउटलुक पत्रिका के फ़ोटो एडिटर जितेंद्र गुप्ता ने यह तस्वीर खींची थी.

कुछ वक़्त पहले जितेंद्र गुप्ता की इस तस्वीर का इस्तेमाल बीजेपी नेताओं ने भी किया था.

तमिलनाडु की बीजेपी इकाई में महासचिव वनथी श्रीनिवासन ने इस तस्वीर के आधार पर लिखा था कि "कांग्रेस सरकार के समय (2014) और अब बीजेपी सरकार के दौरान (2019) गंगा की स्थिति में हुए बदलाव को देखिए".

इमेज कॉपीरइट TWITTER/@VANATHIBJP

बीजेपी नेताओं के इस तस्वीर से जुड़े दावे की पड़ताल करते समय हमने फ़ोटो एडिटर जितेंद्र गुप्ता से बात की थी.

उन्होंने बीबीसी को बताया था कि "साल 2011 के मध्य में वो गंगा के हालात पर फ़ोटो स्टोरी करने वाराणसी गए थे. ये उसी सिरीज़ की फ़ोटो है जो बाद में भी कई कहानियों में फ़ाइल तस्वीर के तौर पर इस्तेमाल हो चुकी है."

ख़ुद को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की आधिकारिक टीम बताने वाले ट्विटर यूज़र 'प्रियंका गांधी टीम' ने भी यह तस्वीर ट्वीट की है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

ऐसा नहीं है कि कांग्रेस पार्टी ने पहली बार इस आठ साल पुरानी तस्वीर का इस्तेमाल किया है. अक्तूबर 2018 में छत्तीसगढ़ यूथ कांग्रेस ने यही तस्वीर ग़लत दावे के साथ ट्वीट की थी.

इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption छत्तीसगढ़ यूथ कांग्रेस ने ये दो तस्वीरें 12 अक्तूबर 2018 को पोस्ट की थीं

गंगा की सफ़ाई का रिएलिटी चेक

साल 2014 में जब नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री बने थे तब उन्होंने देश के नागरिकों से एक वायदा किया था.

उन्होंने कहा था कि वो साल 2020 तक प्रदूषित गंगा नदी को साफ़ करने का काम करेंगे.

साल 2015 में सत्तारूढ़ बीजेपी सरकार ने इसके लिए पाँच साल के कार्यक्रम की शुरुआत की और 300 करोड़ रुपये का बजट भी रखा.

बीते साल दिसंबर में मोदी ने अपने चुनाव क्षेत्र वाराणसी में एक रैली में कहा कि गंगा में प्रदूषण कम करने में सरकार को सफलता मिल रही है.

लेकिन विपक्ष का दावा है कि सरकार इस मामले में अपना वादा पूरा नहीं कर पा रही है.

बीबीसी की रिएलिटी चेक टीम ने इन दावों की पड़ताल की. इस टीम ने पाया कि गंगा की सफ़ाई का काम वाकई बेहद धीमी गति से चल रहा है.

हालांकि इस समस्या पर पहले से काफ़ी अधिक धन ख़र्च किया जा रहा है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं लगता कि 1,568 मील लंबी इस नदी को साल 2020 तक पूरी तरह साफ़ किया जा सकेगा.

इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ें रिएलिटी चेक टीम की पूरी रिपोर्ट.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
मोदी का बनारस और गंगा कितने साफ़ हुए?

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार