पीएम नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ चुनाव आयोग में कब कब हुई शिकायत?

  • 1 मई 2019
नरेंद्र मोदी, अमित शाह इमेज कॉपीरइट PTI

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए देश भर में सात चरणों में मतदान जारी हैं. चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही चुनाव आयोग ने आदर्श आचार-संहिता को भी लागू कर दिया था.

लेकिन विभिन्न राजनीतिक पार्टियों समेत सत्ताधारी बीजेपी के ख़िलाफ़ चुनाव आयोग में कई बार इसके उल्लंघन की शिकायतें कीं गईं.

हालांकि एक अप्रैल, 2019 को वर्धा, महाराष्ट्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण में चुनाव आयोग ने आचार संहिता का उल्लंघन नहीं पाया है. मोदी के इस भाषण के ख़िलाफ़ 5 अप्रैल को शिकायत दर्ज की गई थी.

मोदी ने अपने भाषण में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के केरल का वायनाड से चुनाव लड़ने के फ़ैसले को निशाना बनाते हुए कहा था कि "अब कांग्रेस भी समझ रही है कि देश ने उसे सज़ा देने का मन बना लिया है. उनके नेता अब मैदान छोड़ कर भागने लगे हैं. 'आतंकवादी हिंदू' की सज़ा उनको मिल चुकी है और इसलिए भाग कर के जहां देश का बहुसंख्यक अल्पसंख्यक में है, वहां शरण लेने के लिए मजबूर हो गए हैं."

हालांकि उनके इस बयान में चुनाव आयोग ने कुछ भी आपत्तिजनक नहीं पाया है.

इमेज कॉपीरइट PTI

कब-कब की गई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शिकायत?

हालांकि ये तो एक मामला है जिसमें मोदी को क्लीन चिट मिल गई है लेकिन उनके ख़िलाफ़ दूसरी शिकायतें भी हुई हैं.

6 अप्रैल को महाराष्ट्र के नांदेड़ में दिये उनके भाषण को लेकर की गई. यहां भी उन्होंने वायनाड सीट का ज़िक्र करते हुए उन्हीं शब्दों को दोहराया जो उन्होंने वर्धा में कहे थे.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
भारतीय हवाई हमले के बाद बालाकोट पहुंचा बीबीसी

बालाकोट, पुलवामा का ज़िक्र

इसके बाद 9 अप्रैल को नरेंद्र मोदी ने पहली बार वोट डालने वाले मतदाताओं से बालाकोट एयर स्ट्राइक में शामिल सैनिकों और पुलवामा में मारे गए जवानों के नाम पर वोट देने की अपील की.

लातूर में नरेंद्र मोदी ने कहा, "मेरे फर्स्ट टाइम वोटर्स को कहना चाहता हूं कि क्या आपके जीवन का पहला वोट पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक करने वाले वीर जवानों को समर्पित हो सकता है. मैं मेरे फर्स्ट टाइम वोटर्स से कहना चाहता हूं कि आपका पहला वोट पुलवामा में जो वीर शहीद हुए हैं उन वीर शहीदों के नाम समर्पित हो सकता है क्या."

'कत्ल की रात'

फिर 21 अप्रैल को गुजरात के पाटन में मोदी ने अपने भाषण के दौरान कहा, "ख़बरदार पाकिस्तान, हमारे पायलट को एक खरोंच नहीं पड़ना चाहिए. अमरीका के प्रवक्ता ने तब कहा था कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो भारत कोई बड़ी कार्रवाई करेगा. मोदी एक साथ 12 मिसाइलों से हमले कर देगा. अच्छा हुआ कि उन्होंने वापस कर दिया वरना यह कत्ल की रात होती."

इस दौरान उन्होंने एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक का भी ज़िक्र किया. एक बार फिर सेना के नाम पर वोट मांगने की शिकायत की गई.

न्यूक्लियर बटन दिवाली के लिए रखा है क्या?

इसी दिन राजस्थान के बाड़मेर में मोदी ने पाकिस्तान को चेतावनी दिया कि भारत के परमाणु हथियार दिवाली के लिए नहीं हैं.

उन्होंने कहा, "पाकिस्तान कहता था कि हमारे पास न्यूक्लियर बटन है... तो हमारे पास क्या है... ये दिवाली के लिए रखा है क्या?"

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमित शाह के ख़िलाफ़ शिकायत

कांग्रेस ने चुनाव आयोग को अपनी शिकायत में लिखा कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह 'घृणा फ़ैलाने वाले द्वेषपूर्ण भाषण' दे रहे हैं और अपने 'राजनीतिक उद्देश्यों' के लिए सेना के शौर्य का इस्तेमाल कर रहे हैं. जबकि ऐसा करने को लेकर आचार संहिता में मनाही है.

चुनाव आयोग इसके साथ ही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के ख़िलाफ़ शिकायत की सुनवाई भी कर रहा है. अमित शाह के ख़िलाफ़ 'मोदी की सेना' बोलने की शिकायत की गई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राहुल गांधी के ख़िलाफ़ शिकायत

साथ ही आयोग कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मध्य प्रदेश के जबलपुर में उनके भाषण के दौरान अमित शाह को हत्यारा कहे जाने के शिकायत पर भी सुनवाई कर रहा है.

राहुल ने कहा था, 'हत्या के अभियुक्त बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, वाह क्या शान है.' इस पर बीजेपी ने चुनाव आयोग में शिकायत की थी.

अमित शाह ने खुद इस पर सफ़ाई देते हुए कहा था कि "कोर्ट का फ़ैसला आ चुका है और मेरे ख़िलाफ़ कोई सबूत नहीं मिले हैं."

चुनाव आयोग के पास ऐसी कई शिकायतें हैं जिसमें नेता एक दूसरे पर छींटाकशी में न केवल चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं बल्कि शर्मनाक बयानबाजी भी कर रहे हैं. ऐसी ही एक शिकायत गौतमबुद्ध नगर से बीजेपी प्रत्याशी और केंद्र में मंत्री महेश शर्मा पर प्रियंका गांधी के ख़िलाफ़ निंदनीय बयान देने का मामला भी शामिल हैं.

चुनाव आयोग की वेबसाइट पर इस शिकायत के बारे में जो लिखा है उसका प्रिंट स्क्रीन देखें:

इमेज कॉपीरइट eci.gov.in
Image caption केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा के प्रियंका गांधी पर दिये निंदनीय बयान की शिकायत

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार