नरेंद्र मोदी झारखंड क्यों बार-बार आ रहे हैं

  • 13 मई 2019
पीएम मोदी इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 मई को देवघर आ रहे हैं. यहां उन्हें एक चुनावी सभा को संबोधित करना है. संसदीय चुनावों की घोषणा के बाद झारखंड में उनका यह पांचवा कार्यक्रम है.

इससे पहले उन्होंने रांची में रोड शो किया और लोहरदगा, कोडरमा व चाईबासा में चुनावी रैलियां की. झारखंड में लोकसभा की सिर्फ़ 14 सीटें हैं. भाजपा इनमें से 13 पर चुनाव लड़ रही है. एक सीट (गिरिडीह) एनडीए में शामिल आजसू पार्टी के लिए छोड़ी गई है. मतलब, झारखंड में भाजपा के कुल 13 प्रत्याशियों में से 5 के लिए पार्टी ने अपने सबसे बड़े प्रचारक और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम करा दिया.

बाकी बचे आठ प्रत्याशियों में से पांच के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रैलियां की.

उन्होंने पलामू, चतरा, जमशेदपुर, धनबाद और राजमहल संसदीय क्षेत्र में चुनाव प्रचार किया. भाजपा नेताओं का दावा है कि अमित शाह दुमका में भी एक रैली करेंगे. शेष बची सीटों खूंटी और हजारीबाग में भी उनकी रैली तय थी, लेकिन फणी चक्रवात के कारण वे रद्द कर दी गईं.

अब इन जगहों पर वोटिंग हो चुकी है. सिर्फ़ संथाल परगना की तीन सीटों दुमका, गोड्डा और राजमहल में 19 मई को अंतिम चरण में वोटिंग होगी. देवघर, गोड्डा संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है.

13 में से 11 उम्मीदवारों के लिए मोदी-शाह की रैलियां

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

स्पष्ट है कि भाजपा के दो सबसे बड़े प्रचारकों नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने झारखंड में अपने 13 प्रत्याशियों में से 11 के लिए खुद प्रचार किया. साल 2104 में भाजपा सभी 14 सीटों पर चुनाव लड़ी थी. उसे इनमें से 12 जगहों पर जीत भी हासिल हुई.

तब अमित शाह या नरेंद्र मोदी की इतनी रैलियां नहीं हुई थीं. इस बार इन दोनों नेताओं के अलावा राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, स्मृति ईरानी, साक्षी महाराज और हेमामालिनी ने भी भाजपा के पक्ष में चुनावी सभाएं की हैं.

वहीं, दूसरी ओर 40 सीटों वाले बिहार में नरेंद्र मोदी की सिर्फ सात रैलियां हुई हैं. भाजपा के बिहार प्रवक्ता निखिल आनंद के मुताबिक 14 और 15 मई को वहां प्रधानमंत्री की तीन और रैलियां होनी हैं. भाजपा बिहार में 17 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. बाकी सीटों पर जदयू और लोजपा के प्रत्याशी हैं.

ये भी पढ़ें- बीजेपी ने क्यों काटा 8 बार के सांसद कड़िया मुंडा का टिकट

बमों से खेलते हैं ये वाले ‘मोदी जी’

'डर गए हैं नरेंद्र मोदी'

पूर्व मुख्यमंत्री और झारखंड विकास मोर्चा (प्र) के नेता बाबूलाल मरांडी कहते है कि नरेंद्र मोदी अपनी संभावित हार से डर गए हैं. इस कारण उनकी इतनी रैलियां हो रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

बाबूलाल मरांडी ने बीबीसी से कहा, ''नरेंद्र मोदी ने पिछले पांच साल में अपना एक भी वादा पूरा नहीं किया. इस कारण वे घबरा गए हैं. उन्हें पता है कि इस चुनाव में उनकी बड़ी हार होने वाली है. इस कारण वे उलुल-जुलूल बात बोल रहे हैं. उनकी भाषा प्रधानमंत्री के पद की मर्यादा के मुताबिक नहीं है. उन्होंने राहुल गांधी, राजीव गांधी और सोनिया गांधी के लिए जिस तरह की बातें कही, वह हम जैसे लोग नहीं दोहरा सकते.'

बाबूलाल मरांडी ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए ये भी कहा, ''अब जब वे हताश हैं, उन्हें लग रहा है कि रैलियों में झूठ बोलकर वोट बटोर लेंगे. लेकिन, जनता उन्हें पहचान चुकी है. इसलिए वे लाख रैलियां कर लें, उनकी जीत नहीं होने वाली. झारखंड में महागठबंधन का प्रदर्शन काफी अच्छा रहेगा. उन्होंने विधानसभा चुनावों के दौरान भी रैलियां की थी, लेकिन उनमे से कई जगहों पर भाजपा की हार हुई. इस बार भी यही होने जा रहा है.''

'मोदी के दावे हवा-हवाई हैं'

महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय सचिव दीपिका पांडेय सिंह भी दावा करती हैं कि नरेंद्र मोदी की रैलियां बेअसर रही हैं. उन्होंने बीबीसी से कहा कि 2014 के नरेंद्र मोदी और 2019 के नरेंद्र मोदी में काफी फर्क है.

वे कहती है कि अब उनकी रैलियों में न तो भीड़ उमड़ती है और न उनकी बातों का कोई असर ही हो रहा है. दरअसल, वे अपनी हार से डर गए हैं और अपनी एक-एक सीट बचाने के लिए हर जुगत कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

पार्टी से नाराज चल रहे झारखंड भाजपा के पूर्व अध्यक्ष व विधायक ताला मरांडी का मानना है कि पार्टी में अगर व्यक्ति की जगह समुदाय की बात हुई होती, तो नरेंद्र मोदी या अमित शाह को इतनी मशक्कत नहीं करनी पड़ती.

उन्होंने बताया, ''यह समझने की बात है कि आज एक पार्टी चुनाव लड़ रही है या एक व्यक्ति चुनाव लड़ रहा है. पार्टी को अपने सिद्धांतों पर चलना चाहिए था. दुर्भाग्य से पार्टी अपने सिद्धांतों पर नही चल रही है. सांगठनिक ढांचा पारदर्शी नहीं है. लोगों की राय नहीं सुनी जा रही है. अगर यह सब हुआ होता, तो प्रधानमंत्री जी को इतनी रैलियां खुद नहीं करनी पड़तीं.''

ये भी पढ़ें- झारखंड में पुश्तैनी ज़मीन खोज रहे हैं अमित शाह

झारखंड: क्यों चर्चा में है विकलांगों का ये समूह

'मोदी लहर ख़त्म'

वहीं, झारखंड भाजपा के प्रवक्ता दीनदयाल वर्णवाल ने कहा कि लोकतंत्र में सबको रैलियां करने का अधिकार है. हमारे पास समर्थन है इसलिए नरेंद्र मोदी जी की इतनी रैलियां हो रही हैं. कांग्रेस के पास समर्थन है, तो वह राहुल गांधी की इतनी रैलियां क्यों नहीं करा पा रही है.

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

उन्होंने बीबीसी से कहा कि पिछले चुनाव में कांग्रेस ने नौ सीटों पर उम्मीदवार दिए थे और सब जगह उनकी हार हुई. हम 12 सीटों पर जीते. जिन 2 सीटों पर हम हारे, वहां भी कभी हमारी जीत हो चुकी है.

वे कहते हैं, ''प्रधानमंत्री जी की रैलियां बाकी की 2 सीटों पर भी विजय के लिए हैं. हम इस बार सभी 14 सीटों पर जीतने जा रहे हैं. लोग प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी को देखना चाहते हैं न कि राहुल गांधी को, जिन्हें रोज सुप्रीम कोर्ट में माफ़ी मांगनी पड़ रही है.''

वरिष्ठ पत्रकार मधुकर कहते हैं कि साल 2014 में तत्कालीन यूपीए सरकार के खिलाफ एंटी इंकंबेसी थी. भाजपा को उसका फायदा मिला और नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन गए.

वे कहते हैं, ''लेकिन, इस बार मोदी लहर खत्म हो चुकी है. लोग इनकी बात पर विश्वास नहीं कर रहे. देश में बेरोजगारी बढ़ी है. झारखंड मे विपक्षी पार्टियों के महागठबंधन से वोटों का बिखराव रुका है. इस कारण मोदी-शाह की जोड़ी को करीब-करीब सभी संसंदीय क्षेत्रों में खुद रैली करनी पड़ी है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार