कैप्टन और सिद्धू का झगड़ा आख़िर किस बात पर

  • 19 मई 2019
getty इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब में कांग्रेस के भीतर आपसी टकराव की बातें बीते कई दिनों से आ रही थीं. रविवार को इन बातों ने हल्की-सी चिंगारी का रूप ले लिया.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनके कैबिनेट में सहयोगी नवजोत सिंह सिद्धू के बीच का खिंचाव सामने आ ही गया.

अमरिंदर सिंह ने मान लिया कि सिद्धू की राजनीतिक महत्वाकांक्षा मुख्यमंत्री पद पर बैठने की है.

बहुत से लोग यह कहेंगे कि इसमें बुराई भी क्या है? राजनीति में प्यादे कब सिपहसालार और बादशाह बन जाएं, कहा नहीं जा सकता है.

सिद्धू तो पार्टी में आए ही सिपाहसालार से एक दर्ज़ा ऊपर थे.

कहीं न कहीं यह केंद्रीय नेतृत्व का सिद्धू पर भरोसा ही है जो उन्हें कैप्टन सरकार में मंत्री भर होने से कहीं अधिक होने का दम भरने का साहस दे रहा है.

इमेज कॉपीरइट EPA

प्रचार से कन्नी काटते रहे सिद्धू

असल में सिद्धू ने राज्य स्तर पर पार्टी लाइन से हटकर अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं का संकेत तभी दे दिया था जब उन्होंने करतारपुर कॉरिडोर मामले में अमरिंदर सिंह से इत्तेफ़ाक़ रखने से इनकार कर दिया था.

मीडिया में उनके उस बयान की ख़ूब सुर्ख़ियाँ बनी थीं. सिद्धू ने करतारपुर कॉरिडोर मामले में अमरिंदर सिंह को अपना कैप्टन मानने से इनकार करते हुए कहा था कि 'उनका कैप्टन अमरिंदर नहीं बल्कि राहुल है'.

हालांकि अमरिंदर सिंह की ओर से उस मामले को तूल नहीं दिया गया था. कैप्टन ने यहां तक कह दिया था कि वे सिद्धू को बचपन से जानते हैं और वे समझते हैं कि सिद्धू के मन में पार्टी को लेकर कोई दुर्भावना नहीं है.

पर हालिया चुनावों में जो घटनाक्रम सामने आते गए उनसे दोनों नेताओं के बीच बढ़ती तल्ख़ी सामने आती गई.

चुनाव प्रचार के दौरान भी सिद्धू स्टार प्रचारक होने के बावजूद एक तरह से सीधे तौर पर प्रचार से कन्नी काटते दिखे.

उन्होंने गले में तकलीफ़ होने को मजबूरी बताया और चुनावी रैलियों में जाने से ख़ुद को बचाए रखा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पत्नी को दिलाना चाहते थे टिकट

हालांकि जब प्रियंका गांधी राजनीतिक प्रचार के लिए पंजाब दौरे पर आईं तो सिद्धू खुलकर प्रचार रैलियों को संबोधित करते दिखे.

अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच की तल्ख़ी बढ़ने के पीछे सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर को चंडीगढ़ संसदीय क्षेत्र से टिकट न मिलना भी एक वजह माना जा रहा है.

सिद्धू चंडीगढ़ सीट से पवन कुमार बंसल को हटाकर अपनी पत्नी नवजोत कौर को टिकट दिलाना चाहते थे.

अपनी पत्नी को टिकट नहीं मिलने के लिए सिद्धू एक तरह से अमरिंदर सिंह को ही ज़िम्मेदार मानते हैं.

कैप्टन अमरिंदर सिंह हालांकि इस बारे में स्पष्टीकरण दे चुके हैं कि सिद्धू अच्छी तरह से जानते हैं कि टिकट देने या नहीं देने का निर्णय केंद्रीय नेतृत्व का है, लेकिन सिद्धू इस पर सहमत नहीं हैं.

रविवार को पटियाला जाने से पहले कैप्टन अमरिंदर ने पत्रकारों से बात करते हुए सिद्धू को महत्वाकांक्षी बताया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरिंदर का हमला

हालांकि कैप्टन अमरिंदर ने इसे सीधे तौर पर पार्टी के स्तर पर अनुशासनहीनता माना लेकिन उन्होंने कहा कि अनुशासनहीनता पर कार्रवाई करना पार्टी हाई कमान का काम है.

अमरिंदर सिंह का कहना है कि राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के प्रदर्शन के लिए सिद्धू ने ग़लत समय का चुनाव किया है. पंजाब के पटियाला से अमरिंदर सिंह की पत्नी और पूर्व केंद्रीय मंत्री परनीत कौर भी चुनावी मैदान में हैं.

ऐसा बयान देकर चाहे अमरिंदर सिंह ने असुरक्षा की भावना जताई हो या सिद्धू की महत्वाकांक्षी योजना को पहले ही चरण में फुस्स कर देने की रणनीति रही हो. लेकिन दोनों के बीच चली आ रही यह खींचतान और केंद्रीय नेतृत्व का ढुलमुल रवैया बहुत से सवाल खड़े कर रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार