नतीजे 2019: चंद्रबाबू नायडू का सफ़ाया, नवीन ने क़िला बचाया

  • 23 मई 2019
इमेज कॉपीरइट @ysjagan

आम चुनावों के अलावा आंध्र प्रदेश और ओडीशा की विधानसभाओं के लिए भी चुनाव हुए हैं.

आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू की तेलगुदेशम पार्टी को बुरी हार मिलती दिख रही है.

पूर्व मुख्यमंत्री वाईएसआर रेड्डी के बेटे जगनमोहन रेड्डी क पार्टी वाईएसआर कांग्रेस पार्टी इकतरफ़ा जीत हासिल करती दिख रही है.

आंध्र प्रदेश में विधानसभा की कुल 175 सीटे हैं जिनमें से 152 पर वाईएसआर कांग्रेस जीत हासिल करती दिख रही है.

वहीं तेलगुदेशम के खाते में सिर्फ़ 23 सीटें ही आ रही हैं.

इमेज कॉपीरइट ECI

बीजेपी का यहां खाता नहीं खुला है जबकि अन्य दलों के खाते में दो सीटें जा रही हैं.

मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू जल्द ही अपना इस्तीफ़ा भी दे सकते हैं. नतीजों से पहले चंद्रबाबू नायडु देशभर में घूमकर विपक्ष के नेताओं से मुलाक़ात कर रहे थे.

आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू को सरकार विरोधी लहर का सामना करना पड़ा और सिर्फ़ विधानसभा ही नहीं बल्कि लोकसभा में भी उनके उम्मीदवार हवा हो गए.

जगनमोहन रेड्डी ने यहां बीते तीन सालों में ज़मीन पर काफ़ी मेहनत की है जिसका असर चुनाव परिणामों में भी दिख रहा है.

दूसरी ओर ओडिशा में नवीन पटनायक विधानसभा में अपना क़िला बचाने में कामयाब रहे हैं.

147 सीटों की विधानसभा के अभी तक कुल 146 सीटों के रुझान आए हैं.

इमेज कॉपीरइट ECI

बीजू जनता दल 114 सीटों पर आगे है और स्पष्ट बहुमत हासिल कर लेगी.

भारतीय जनता पार्टी यहां 21 सीटों पर आगे है जबकि कांग्रेस 09 सीटों पर. अन्य दलों के खाते में अभी तीन सीटें जाती दिख रही हैं.

2014 के विधानसभा चुनावों में बीजू जनता दल ने 117 सीटें हासिल की थीं.

नवीन पटनायक साल 2000 से ओडिशा के मुख्यमंत्री हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे