कमलनाथ, अशोक गहलोत और चिदंबरम ने पार्टी से ऊपर बेटों को रखा: राहुल गांधी- प्रेस रिव्यू

  • 26 मई 2019
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

राहुल गांधी ने कहा है कि कमलनाथ, अशोक गहलोत और पी.चिदंबरम जैसे कांग्रेस नेताओं ने अपने बेटों को पार्टी के हितों से ऊपर रखा है. ये ख़बर टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी है.

राहुल ने ये भी कहा कि पार्टी के नेता उनके उठाए मुद्दों को आगे ले जाने में नाकामयाब रहे.

राहुल ने ये बातें तब कहीं जब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कांग्रेस को मज़बूत स्थानीय नेताओं की ज़रूरत है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कार्यकारी समिति की बैठक में अपनी मां सोनिया गांधी के राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कहा कि इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में भी बहुत खराब प्रदर्शन किया है जबकि यहां पार्टी की ही सरकारें हैं.

उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और अशोक गहलोत ने उनकी इच्छा के ख़िलाफ़ अपने बेटों को टिकट दिलाने की ज़िद की.

राहुल ने आम चुनाव में पार्टी की हार की ज़िम्मेदारी लेते हुए अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देने की पेशकश की लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उनका इस्तीफ़ा स्वाीकार नहीं किया और कहा कि उन्हें दिल छोटा करने की कोई ज़रूरत नहीं है.

अख़बार लिखता है कि राहुल ने जब अपने इस्तीफ़े की पेशकश तब कांग्रेस कार्यकारी समिति की बैठक में माहौल भावुक हो गया.

ये भी पढ़ें: राहुल के इस्तीफ़े की पेशकश, कार्यसमिति ने ठुकराई

इमेज कॉपीरइट EPA

23 मई को जन्मा बच्चा, नाम रखा नरेंद्र मोदी

जनसत्ता की एंकर स्टोरी के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश के गोंडा ज़िले में एक मुस्लिम परिवार ने अपने यहां हुए नवजात बच्चे का नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी रखा है.

बच्चे का जन्म 23 मई को हुआ जब वोटों की गिनती चल रही थी.

अख़बार लिखता है कि ये नाम रखने का विचार बच्चे की मां के मन में ही आया था. शुरू में महिला के पति इस नाम पर सहमत नहीं हुए लेकिन जब उन्होंने जिद पकड़ ली तो वो इसके लिए तैयार हो गए.

पिता ने कहा कि अपने बच्चे का नाम रखना उनका निजी मामला है और इसमें दूसरों का दख़ल नहीं होना चाहिए.

ये भी पढ़ें: नरेंद्र मोदी बोले- 'बदइरादे और बदनीयत से कोई काम नहीं करूंगा'

इमेज कॉपीरइट DASSAULT RAFALE

रफ़ाल डील मुनाफ़े का सौदा: केंद्र

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में ख़बर है कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि कैग की रिपोर्ट के अनुसार रफ़ाल डील मुनाफ़े का सौदा है.

अदालत को दिए 39 पन्नों के अपने जवाब में केंद्र ने कहा है कि सीएजी की रिपोर्ट याचिकाकर्ता की उस मुख्य दलील का ही समर्थन नहीं करती जिसमें जहाज की कीमतें अधिक होने का दावा किया जा रहा है.

अदालत में सरकार ने कहा, "याचिकाकर्ता का कहना है कि 36 रफ़ाल जहाजों का मौजूदा कॉन्ट्रैक्ट जिस कीमत पर किया गया है वह एमएमआरसीए (मीडियम मल्टी-रोल कॉम्बैट एयरक्राफ़्ट) के तहत लिए जाने पर प्रति जहाज 1000 करोड़ रुपये कम रहती. इसके उलट कैग ने कहा है कि यह क़ीनमत 2.86 फ़ीसदी कम है. इसके साथ ही इसमें नॉन-फर्म और फिक्स्ड प्राइस का भी फायदा मिलेगा. यह अपने आप में याचिकाकर्ता की दलील के खिलाफ़ जाता है."

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल 14 दिसंबर को केंद्र की बीजेपी सरकार को रफ़ाल मामले में क्लीन चिट दे दी थी लेकिन फिर फ़ैसले की समीक्षा की अर्ज़ी दायर की गई जिस पर अदालत आगे फ़ैसला सुनाएगी.

राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान रफ़ाल डील को प्रमुख मुद्दा बनाया था.

ये भी पढ़ें: हां, समलैंगिक हूं और पार्टनर बचपन की दोस्त: दुती चांद

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

गर्लफ़्रेंड ने वैलेंटाइंस डे को किया प्रपोज़: दुती चंद

इंडियन एक्सप्रेस की एंकर स्टोरी में भारत की स्टार एथलीट दुती चंद के बारे में है. दुती चंद ने बताया है कि उनकी सोलमेट (गर्लफ़्रेंड) ने वैलेंटाइंस डे के दिन उनसे अपने प्यार का इज़हार किया था.

उन्होंने बताया, "उसने पिछले साल एशियन गेम्स से पहले मेरे लिए पूजा की थी. मैं भी उसे तभी से पसंद करने लगी थी लेकिन मैं उसकी तरफ़ से पहल का इंतज़ार कर रही थी."

दुती चंद ने हाल ही में सार्वजनिक तौर पर स्वीकार किया था वो समलैंगिक हैं और अपनी गांव की ही एक लड़की के साथ रिश्ते में हैं.

उन्होंने कहा कि मीडिया में ख़बर आने के बाद उन्हें जिस तरह लोगों का समर्थन और प्यार मिल रहा है उससे वो बेहद ख़ुश हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार