अमेठी के सहयोगी की अर्थी कंधे पर लेकर श्मशान गईं स्मृति इरानी: प्रेस रिव्यू

  • 27 मई 2019
स्म़ति ईरानी इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption सुरेंद्र सिंह की अर्थी कंधे पर लिए स्मृति

अमेठी में राहुल गांधी को हराकर सांसद बनीं भारतीय जनता पार्टी नेता स्मृति इरानी ने कहा है कि वो अमेठी के अपने सहयोगी सुरेंद्र सिंह के हत्यारों को 'पाताल से भी ढूंढ निकालेंगी'.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार स्मृति ने कहा है कि वो सुरेंद्र के हत्यारों को फांसी की सज़ा दिलवाने के लिए किसी भी अदालत में जा सकती हैं, यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट में भी.

स्मृति सुरेंद्र सिंह के अंतिम संस्कार के लिए अमेठी पहुंची और उनकी अर्थी को कंधा भी दिया.

अख़बार लिखता है कि स्मृति इरानी ने अपने मृत सहयोगी की अर्थी कंधे पर लिए तक़रीबन एक किलोमीटर चलकर श्मशान घाट गईं.

उनकी ये तस्वीर सोशल मीडिया में भी ख़ूब शेयर की गई.

अख़बार की रिपोर्ट के मुताबिक़ शनिवार रात चार बंदूकधारी सुरेंद्र सिंह के गांव बरौलियां स्थित उनके घर में घुस गए और उन्हें गोली मार दी.

घटना के बाद पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में लिया है. सुरेंद्र सिंह ने अमेठी में स्मृति ईरानी के साथ मिलकर काफ़ी काम किया था और गांधी परिवार के गढ़ अमेठी में राहुल गांधी का किला ढहाने में उनकी मदद की थी.

स्मृति इरानी सुरेंद्र सिंह की पत्नी से भी मिलीं और उनके बच्चों की अपने बच्चों की तरह देखभाल करने का वादा किया.

ये भी पढ़ें: अमेठी में स्मृति इरानी के सहयोगी की हत्या

इमेज कॉपीरइट Reuters

'नरेश गोयल के देश छोड़ने की आशंका थी'

इकोनॉमिक्स टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक़ कॉर्पोरेट अफ़ेयर्स मिनिस्ट्री के मुंबई ऑफ़िस ने जेट एयरवेज के फ़ाउंडर और पूर्व चेयरपर्सन नरेश गोयल को देश छोड़ने से रोकने की कोशिश लगभग एक महीना पहले शुरू कर दी थी.

रविवार को नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनीता गोयल को मुंबई एयरपोर्ट पर इमिग्रेशन डिपार्टमेंट ने रोक दिया था. नरेश गोयल मुंबई से लंदन जा रहे थे.

अख़बार सूत्रों के हवाल से लिखता है कि मंत्रालय ने जेट के खातों में कई ट्रांजैक्शंस को 'संदिग्ध' पाया था और इसीलिए एयरलाइन के कामकाज और इसके निदेशकों की भूमिका की विस्तृत जांच की सिफ़ारिश की थी.

मंत्रालय को गोयल दंपती के देश छोड़ने की आशंका थी और इस वजह से इसने लगभग एक महीना पहले गृह मंत्रालय को उनके खिलाफ लुक आउट जारी करने का निवेदन किया था.

ये भी पढ़ें: भारत से भागकर लंदन ही क्यों जाते हैं भगोड़े

इमेज कॉपीरइट ARVIND KEJRIWAL/FACEBOOK

केजरीवाल ने पूछा, 'हाउ इज़ द जोश'

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में ख़बर है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 2020 में होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र कार्यकर्ताओं को संबोधित किया.

उन्होंने अपने संबोधन की शुरुआत कार्यकर्ताओं से 'हाउ इज़ द जोश' पूछते हुए की.

केजरीवाल ने कार्यकर्ताओं कहा कि वो लोकसभा चुनाव के नतीजों से निराश न हों बल्कि 2020 में होने वाले दिल्ली के विधानसभा चुनाव की तैयारी करें.

केजरीवाल ने कहा, ''लोकसभा चुनाव तो नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी के लिए था. आपको मायूस होने की ज़रूरत नहीं है. जनता दिल्ली सरकार के कामों की तारीफ़ कर रही है. अपने कॉलर ऊपर कीजिए और लोगों के बीच जाइए और उनसे कहिए कि बड़े चुनाव में जो किया सो किया, अब छोटे चुनाव में आम आदमी पार्टी को वोट दीजिएगा.''

ये भी पढ़ें: रफ़ाल डील, अनिल अंबानी और फ्रांस में टैक्स रिबेट, क्या है पूरा मामला

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'रफ़ाल मामले में सीबीआई जांच का सवाल ही नहीं'

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि रफ़ाल मामले में एफ़आईआर दर्ज कराने या सीबीआई जांच का कोई सवाल ही नहीं उठता क्योंकि सुप्रीम कोर्ट पहले ही कह चुका है कि इतने संवेदनशील मसले में उसके हस्तक्षेप करने का कोई मतलब नहीं है.

ये ख़बर जनसत्ता में छपी है. केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि कैग की रिपोर्ट ने रफ़ाल लड़ाकू की कथित 'ऊंचे दाम' की दलील को झूठा साबित कर दिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल 14 दिसंबर को केंद्र की बीजेपी सरकार को रफ़ाल मामले में क्लीन चिट दे दी थी लेकिन फिर फ़ैसले की समीक्षा की अर्ज़ी दायर की गई जिस पर अदालत आगे फ़ैसला सुनाएगी.

ये भी पढ़ें: मोदी-ट्रंप के रिश्ते ईरान से तेल कारोबार को बचा पाएंगे?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

महंगा हो सकता है पेट्रोल-डीज़ल

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल के दाम में तेजी की वजह से आने वाले दिनों में पेट्रोल और डीज़ल के दाम तीन रुपये तक बढ़ सकते हैं.

अमरीका की ओर से पाबंदियों पर मिली छूट के ख़त्म होने के बाद भारत ने ईरान से कच्चा तेल खरीदना बंद कर दिया है.

भारत ने अप्रैल में ईरान से खरीदे जाने वाले कच्चे तेल की मात्रा 2.5 अरब टन से घटाकर एक अरब टन कर दी थी. ईरान से भारत के लगभग 10 फ़ीसदी तेल की आपूर्ति होती थी.

भारत ने ईरान के साथ ही वेनेज़ुएला से भी तेल खरीदना बंद कर दिया है.

ये भी पढ़ें: जिनके पास सबसे ज़्यादा तेल, वो ग़रीब क्यों?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार