राहुल गांधी ने वक़्त तो दिया लेकिन अशोक गहलोत से मिले नहीं: प्रेस रिव्यू

  • 28 मई 2019
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बने रहेंगे या नहीं इस बात को लेकर अभी भी संशय बरक़रार है. हालांकि उन्होंने यह ज़रूर कहा कि जब तक कोई इस पद को संभाल नहीं लेता वो पद पर बने रहेंगे.

वहीं दैनिक भास्कर की ख़बर के मुताबिक़, लकोससभा चुनाव में राजस्थान की सभी 25 सीटें हारने के बाद राजस्थान में सत्तारुढ़ कांग्रेस पार्टी में कलह छिड़ गई है. राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र मोह को लेकर नाराज़गी जता चुके राहुल गांधी ने सोमवार को उनसे मिलने से इनक़ार कर दिया. अख़बार के मुताबिक़, राहुल ने गहलोत को मिलने का वक़्त तो दिया था लेकिन बाद में उन्होंने उनसे मिलने से इनक़ार कर दिया.

शपथ ग्रहण समारोह में पाकिस्तान को न्योता नहीं

मोदी सरकार के शपथग्रहण समारोह में बिम्सटेक देश यानी श्रीलंका बांग्लादेश, म्यांमार, थाईलैंड, नेपाल और भूटान के नेताओं को आमंत्रित किया गया है. पाकिस्तान को इस बार निमंत्रण नहीं दिया गया है. जबकि साल 2014 में जब नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तो पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस ख़बर को हिंदुस्तान अख़बार ने पहले पन्ने पर प्रकाशित किया है.

इसके अलावा अख़बार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बादल-रडार वाले बयान पर भी एक ख़बर प्रकाशित की है. अख़बार के मुताबिक़, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रडार वाले बयान को एयर मार्शल रघुनाथ नांबियार ने अपना समर्थन दिया है. उन्होंने कहा है कि घने बादलों के कारण रडार विमानों का पूरी तरह पता नहीं लगा पाते हैं. रडार के सिग्नल में बादलों से दिक्कतें पैदा हो जाती हैं. इससे पहले सेना प्रमुख बिपिन रावत ने भी यह बात कही थी.

कोचिंग सेंटर चार मंज़िला से ऊंचे नहीं

सूरत में कोचिंग सेंटर में लगी आग को देखते हुए सावधानी बरतते हुए राजधानी में हर उस बिल्डिंग की जांच होगी जहाँ कोचिंग सेंटर चलते हैं. दिल्ली सरकार ने आदेश जारी करते हुए फायर सर्विसेज़ को तत्काल जांच के आदेश दिये हैं. इसके तहत जो कोचिंग सेंटर चार मंज़िल से ऊंची इमारत में चल रही हैं उन्हें बंद किया जाएगा. नवभारत टाइम्स ने इस ख़बर को पहले पन्ने पर जगह दी है.

इमेज कॉपीरइट GSTV

इसके अलावा अख़बार ने अमेठी में स्मृति इरानी के लिए प्रचार करने वाले सुरेंद्र सिंह की हत्या से जुड़ी ख़बर को पहले पन्ने पर जगह दी है. अख़बार के अनुसार, सुरेंद्र की हत्या चुनावी रंज़िश का नतीजा थी. पुलिस ने इस मामले में अभी तक तीन लोगों को गिरफ़्तार किया है.

पहले नाम पूछा फिर गोली मार दी

द हिंदू के अख़बार ने बेगूसराय में युवक को नाम पूछकर गोली मारने की घटना को पहले पन्ने पर जगह दी है. अख़बार के मुताबिक, बिहार के बेगूसराय में मोहम्मद कासिम से पहले उनका नाम पूछा गया और उसके बाद उन्हें गोली मार दी गई. स्थानीय थाने में एफ़आईआर दर्ज की गई है. लेकिन अभी तक इस मामले में किसी की गिरफ़्तारी नहीं हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार