क्या राहुल गांधी से मिलकर रोये अमेठी संसदीय क्षेत्र के वोटर? फ़ैक्ट चेक

  • 30 मई 2019
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट SOCIAL MEDIA

सोशल मीडिया पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का एक वीडियो इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के अमेठी संसदीय क्षेत्र की जनता राहुल गाँधी के लोकसभा चुनाव में हुई हार से इतनी आहत हुई कि उनसे मिलकर रोने लगी.

इस वीडियो को शेयर करने वाले लोग लिख रहे हैं कि ''लोकसभा चुनाव में अमेठी से हुई राहुल गाँधी की हार के बाद अमेठी के लोग राहुल गाँधी से मिलने दिल्ली पहुंचे और राहुल से मिलने पर लोग अपने आंसू रोक नहीं पाए और रोने लगे.''

2019 के लोकसभा चुनाव में अमेठी संसदीय सीट पर बीजेपी की स्मृति ईरानी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के बीच सीधा मुक़ाबला था जिसमें स्मृति ईरानी विजयी रहीं.

अमेठी लोकसभा सीट गाँधी परिवार की पारंपरिक सीट रही है. राहुल गाँधी के पिता राजीव गाँधी और फिर उनकी माँ सोनिया गाँधी अमेठी से चुनाव लड़ते और जीतते आये थे.

बाद में यह सीट सोनिया गाँधी ने राहुल के लिए छोड़ दी थी जिसके बाद राहुल गांधी लगातार तीन बार अमेठी से सांसद चुने गए थे.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Posts

जिस वायरल वीडियो की हम बात कर रहे हैं, उस वीडियो में राहुल गाँधी कुछ महिलाओं के बीच खड़े हुए नज़र आते हैं. वो महिलाएं रोती हैं तो राहुल उन्हें सांत्वना देते दिखाते हैं.

सोशल मीडिया पर यह वीडियो 50 हज़ार से ज़्यादा बार देखा जा चुका है और लोग इसे अमेठी का बता रहे हैं.

लेकिन बीबीसी ने अपनी पड़ताल में पाया कि ये वीडियो तो सही है, लेकिन इसके साथ जो दावा किया जा रहा है वो झूठा और भ्रामक है.

वीडियो का सच

रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है कि ये वीडियो 2 नवंबर 2017 का है.

ये वीडियो उस वक़्त का है जब राहुल गांधी रायबरेली के NTPC पावर प्लांट में हुए एक हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों से मिलने पहुँचे थे.

इस मुलाक़ात के बाद राहुल गांधी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी यह वीडियो शेयर किया गया था.

इमेज कॉपीरइट Twitter/Rahul Gandhi

वीडियो के साथ लिखा गया था, ''पीड़ितों और उनके परिवार से NTPC मुख्यालय में मिलते कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी''.

2017 में हुए NTPC पावर प्लांट हादसे में 29 लोगों की जान गयी थी और 100 घायल हुए थे.

यह पावर प्लांट उत्तर प्रदेश के रायबरेली शहर में स्थित है.

हादसे के बाद NTPC ने मामले की जाँच शुरु कर दी थी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतक के परिवारों को 2 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायल हुए लोगों को 50 हज़ार रूपये का हर्जाना देने की घोषणा की थी.

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार