गुजरात तट के करीब चक्रवाती तूफ़ान 'वायु', सेना सतर्क

  • 13 जून 2019
चक्रवाती तूफ़ान वायु के असर से समुद्र में ऊंची उठती लहरें इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत के गुजरात राज्य में 'वायु' चक्रवाती तूफ़ान गुरुवार को टकराने वाला है.

गुजरात के पोरबंदर और जामनगर जैसे शहरों समेत कई अन्य इलाकों में अभी से ही भारी बारिश और तेज़ हवाओं का प्रकोप देखा जा सकता है.

पोरबंदर के तटीय इलाकों में लगातार तेज़ हवाएं चल रही हैं. भारतीय मौसम विभाग ने दीव में भूस्खलन की आशंका भी जताई है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption 'वायु' से निबटने की तैयारी में एनडीआरएफ़ की टीम

तूफ़ान वायु को लेकर तैयारी

  • गुजरात के तट से गुरुवार को टकराएगा चक्रवाती तूफ़ान 'वायु'
  • लैंडफॉल के वक़्त हवा की रफ़्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है
  • तटीय इलाकों से 3 लाख लोगों को सुरक्षित जगह भेजा गया
  • थल सेना, वायु सेना और तटरक्षक दल को तैयार रखा गया है
  • संभावित नुकसान रोकने की तैयारी में जुटीं एनडीआरएफ़ की टीमें
  • पर्यटकों को सुरक्षित स्थानों पर जाने को कहा गया
  • 50 से ज़्यादा ट्रेनें रद्द की गईं
  • पांच हवाई अड्डों पर 24 घंटे बंद रहेगी विमान सेवा
  • गुजरात के 10 ज़िलों में गुरुवार और शुक्रवार को स्कूल बंद रहेंगे
इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/AMIT SHAH

राज्यों के संपर्क में केंद्र

केंद्र सरकार के मुताबिक वो भी स्थिति पर लगातार नज़र बनाए हुए है.

भारतीय गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट करके बताया है कि तूफ़ान के मद्देनज़र गुजरात से तीन लाख और दीव से 10 हज़ार से ज़्यादा लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला जा चुका है.

भारतीय तटरक्षक दल के सदस्य, सेना और वायु सेना की इकाइयों को भी तैयार रखा गया है. एयरक्राफ़्ट और हेलिकॉप्टर इलाकों का हवाई सर्वेक्षण कर रहे हैं.

शाह ने ट्विटर पर लिखा है, "मैं लोगों की सलामती की प्रार्थना करता हूं. गृह मंत्रालय राज्य सरकारों, केंद्र शासित प्रदेशों और केंद्रीय एजेंसियों से लगातार संपर्क बनाए हुए है. एनडीआरएफ़ की 25 टीमें पहले से ही नावों, पेड़ काटने वाले औजारों और टेलिकॉम उपकरणों के साथ इलाकों में तैनात हैं."

ये भी पढ़ें: ओडिशा: क्या फणी तूफान की तबाही से उबर पाएगा पुरी?

इमेज कॉपीरइट AFP

मौसम विभाग ने माना 'गंभीर' श्रेणी का तूफ़ान

यह चक्रवाती तूफ़ान अरब सागर से उठकर उत्तर की ओर बढ़ रहा है. तट पर टकराते समय हवा की रफ़्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटा होने का अनुमान है.

मौसम विभाग ने तूफ़ान को 'गंभीर श्रेणी' में रखा है.

पिछले महीने ओडिशा के तट से टकराए फणी तूफ़ान की रफ़्तार 220 किमी प्रति घंटा थी, जिससे हुए नुक़सान को ठीक करने में हफ़्तों जूझना पड़ा था.

'वायु' की तीव्रता को देखते हुए बुधवार दोपहर बाद से ही द्वारका, सोमनाथ, सासन, कछ के इलाक़े में लोगों को सुरक्षित स्थानों में जाने को कहा गया है.

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने सैलानियों से अपील की है कि अगर वो वापस लौट सकें तो लौट जाएं या सुरक्षित स्थानों पर चले जाएं.

ये भी पढ़ें: केरल डायरी: बाढ़ से हुई तबाही की आँखोंदेखी

इमेज कॉपीरइट TWITTER/@vijayrupanibjp

ट्रेनें और विमान रद्द, स्कूल-कॉलेज बंद

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार पश्चिमी रेलवे ने गुजरात के 'वायु' प्रभावित इलाकों से होकर जाने वाली कई ट्रेनें रद्द कर दी हैं.

पश्चिमी रेलवे प्रमुख रविंदर भाकर ने बताया, "पोरबंदर, भावनगर, भुज, गांधीधाम, वेरावल और ओखा जाने वाली सभी यात्री और मालवाहक ट्रेनों को बुधवार शाम 6 बजे से लेकर शुक्रवार सुबह तक रोकने का फ़ैसला किया है."

एहतियात के तौर पर प्रमुख 40 और 28 ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं.

इसके अलावा पश्चिमी रेलवे ने तूफ़ान प्रभावित क्षेत्रों से लोगों को बाहर निकालने के लिए ख़ास ट्रेनें चलाने की योजना बनाई है.

भारतीय वायु प्राधिकरण ने ऐलान किया है कि गुजरात के पांच संवेदनशील हवाई अड्डों पोरबंदर, भुज, दीव, केशोड और कंडला पर बुधवार आधी रात से 24 घंटों के लिए विमानों का परिचालन बंद रहेगा.

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने उन 10 ज़िलों में 13-14 जून को स्कूल और कॉलेजों की छुट्टी घोषित कर दी है, जहां तूफ़ान 'वायु' आने की आशंका है.

राज्य सकार ने 13 से 15 जून के बीच होने वाले 'शाला प्रवेशोत्सव' कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है, जो कि स्कूल में बच्चों के स्वागत के लिए मनाया जाता है.

मुंबई भी होगी प्रभावित

इस तूफ़ान का असर मुंबई के तटों पर भी होने की आशंका है और मछुआरों को चेतावनी जारी कर दी गई है.

भारतीय मौसम विभाग के डिप्टी डायरेक्टर जनरल केएस होसालिकर के अनुसार, मुंबई में हवा की रफ़्तार 50-60 किलोमीटर प्रतिघंटे हो सकती है, लेकिन कोई गंभीर बात नहीं है.

पश्चिमी विक्षोभ (वेस्टर्न डिस्टर्बेंस) के कारण मुंबई में सोमवार को भारी बारिश हुई है. तूफ़ान के तट से टकराने से पहले मुंबई में तेज़ हवाएं चलनी शुरू हो गई हैं.

हालांकि तूफ़ान 'वायु' का सर्वाधिक असर गुजरात के तटीय इलाक़ों में पड़ने की आशंका है क्योंकि यहां हवा की रफ़्तार 140-150 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है.

जबकि 13 जून की सुबह हवा की रफ़्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटे तक होने की आशंका है.

मौसम विभाग के अनुसार, बुधवार की सुबह तक वायु गोवा तट से 450 किलोमीटर, मुंबई से 290 किलोमीटर और गुजरात के वेरावल से 340 किलोमीटर दूर था. विभाग ने ट्वीट किया कि यह तूफ़ान गुरुवार की सुबह वेरावल और दीव पहुंचेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार