ममता का फरमान, बंगाल में रहना है तो बांग्ला बोलना होगाः पांच बड़ी ख़बरें

  • 15 जून 2019
ममता बनर्जी इमेज कॉपीरइट Getty Images

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को उत्तर 14 परगना ज़िले मे एक रैली में कहा कि बंगाल में बाहरी लोग आते हैं तो बांग्ला बोलना होगा.

उन्होंने कहा, "हम जब दिल्ली जाते हैं तो हिंदी बोलते हैं, जब पंजाब जाते हैं तो हमें पंजाबी बोलनी पड़ती है. तमिलनाडु जाती हूं तो तमिल भाषा नहीं आती, लेकिन मुझे कुछ शब्द आते हैं तो मैं उन्हें बोलती हूं. इसी तरह बंगाल में आते हैं तो आपको बंगाली बोलनी पड़ेगी."

ममता ने कहा कि बाहरी लोगों ने ही डॉक्टरों के आंदोलन को भड़काया है. उन्होंने कहा, "मैंने गुरुवार को खुद कुछ बाहरी लोगों को एसएसकेएम अस्पताल में नारे लगाते देखा था."

वहीं, बीजेपी के महासचिव और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि राज्य में डॉक्टर सुरक्षित नहीं है.

पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों पर हुए हमले के बाद विभिन्न राज्यों के डॉक्टर उनके समर्थन में उतर रहे हैं और हड़ताल का ऐलान कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'मेट्रो मैन' ने केजरीवाल की मुफ़्त मेट्रो यात्रा पर जताई चिंता

केजरीवाल की मुफ़्त मेट्रो यात्रा पर 'मेट्रो मैन' ने चिंता जताते हुए कहा कि कंगाल हो जाएगी डीएमआरसी.

मेट्रो मैन के नाम से मशहूर दिल्ली मेट्रो रेल कोऑपरेशन के पूर्व प्रबंधक निदेशक और मौजूदा सलाहकार ईं. श्रीधरन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ख़त लिखा है.

उसमें उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की महिलाओं की मुफ़्त यात्रा की योजना पर चिंता जताई है और प्रधानमंत्री मोदी को प्रस्ताव पर सहमत नहीं होने की सलाह दी है.

उन्होंने लिखा है कि मेट्रो इतना सक्षम नहीं है और अगर ऐसा हुआ तो कंगाली छा सकती है. मोदी को 10 जून को लिखे पत्र में उन्होंने सलाह दी है कि दिल्ली सरकार महिला यात्रियों की मदद करना ही चाहती है तो सीधे उनके खातों में पैसे डाल दिये जाएं.

वहीं, श्रीधरन की इस सलाह पर आम आदमी पार्टी ने प्रतिक्रिया दी है. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और पार्टी प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने 'मेट्रो मैन' से अपने नज़रिये पर पुनर्विचार की अपील की है.

सौरभ भारद्वाज ने कहा है कि मुफ़्त यात्रा की सुविधा से मेट्रो को एक रुपये का भी नुकसान नहीं होगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मनमोहन सिंह की राज्यसभा से विदाई

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह का राज्यसभा का कार्यकाल शुक्रवार को ख़त्म हो गया. राज्यसभा सत्र नहीं चलने के कारण उन्हें उनकी विदाई खामोशी से हुई.

उन्हें सदन में अपने अनुभव तक साझा करने का मौका नहीं मिला. डॉ. सिंह 1991 से लगातार असम से राज्यसभा सांसद रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बिहारः दिमागी बुखार से 15 और बच्चों की मौत

बिहार में दिमागी बुखार का कहर जारी है. शुक्रवार को मुज़फ़्फ़रपुर में 13 और समस्तीपुर में दो और बच्चों की जान चली गई है. वहीं 41 नए मरीजों का पता चला है.

इस तरह इस साल इस बीमारी से मौत होने वाले बच्चों की संख्या अब तक कम से कम 85 हो गई है.

मुज़फ़्फ़रपुर पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि हर बच्चे की ज़िंदगी अनमोल है और उनकी जान बचाने के लिए सरकार गंभीर है.

यह भी पढ़ें | पीएम मोदी ने SCO सम्मेलन में क्या कहा

इमेज कॉपीरइट AFP

भेदभाव के ख़िलाफ़ स्विटज़रलैंड की महिलाएं सड़कों पर उतरीं

स्विटज़रलैंड की महिलाएं देश भर में प्रदर्शन और हड़ताल कर रही हैं. उनका कहना है कि वो ये अपने साथ लगातार होने वाले भेदभाव के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने के लिए ये प्रदर्शन कर रही हैं.

प्रदर्शनकारियों का मक़सद पुरुषों और महिलाओं को मिलने वाले वेतन में अंतर, यौन उत्पीड़न पर उचित कार्रवाई के अभाव और महत्वपूर्ण पदों पर महिलाओं की नगण्य संख्या जैसे मुद्दों को सामने लाना है.

स्विस फ़ेडरल काउंसिल की सदस्य सिमनेट्टा सोम्मारूगा ने कहा कि तमाम सुधारों के बावजूद आज भी औरतों और मर्दों के बीच असमानता की खाई है जो समाज पर नकारात्मक असर डाल रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार