अर्थव्यवस्था पर अब कांग्रेस को दोष नहीं दे पाएंगे मोदी

  • 17 जून 2019
इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिंदुस्तान टाइम्स के संपादकीय में सत्रहवीं लोकसभा के पहले सत्र को लेकर लिखा है कि ये लोकसभा कई वजहों से ख़ास है. इस बार दोनों सदनों में सत्ताधारी पार्टी के स्पीकर और डिप्टी स्पीकर होंगे. एक बार फिर नेता विपक्ष नहीं होंगे. लेकिन फिर भी आम सहमति बनाना एक चुनौती होगी.

इतने बड़े जनमत को सरकार दो तरह से इस्तेमाल कर सकती है. या तो वो विपक्ष को साइडलाइन कर अपना एजेंडा लागू करे या जहां सहमति नहीं है वहां जनता को मनाने की कोशिश करे. महिला आरक्षण बिल और प्रदूषण ऐसे मुद्दे हैं. इस बार मोदी सरकार से प्रदूषण पर कोई नीति-कानून लाने की अपेक्षा है.

साथ ही इस बार अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी के पास कांग्रेस को दोषी ठहराने की गुंजाइश नहीं होगी.

ऐसे बहुत से मुद्दे होंगे जहां सरकार को विरोध झेलना पड़ेगा जैसे एनआरसी बिल, आर्टिकल 370 और 35ए को हटाने की कोशिश. इस बार अयोध्या पर जो सुप्रीम कोर्ट का जो फैसला आएगा, उसके नतीजे को भी सरकार को झेलना होगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंडियन एक्सप्रेस ने छापा है कि शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने रविवार को दोबारा अपने 18 सांसदों के साथ रामलला के दर्शन किए. उन्होंने कहा, "सरकार को कानून लाना चाहिए और मंदिर बनाना चाहिए. सभी को पता है कि शिव सेना और बीजेपी दोनों हिंदूत्ववादी हैं. ये सरकार हिंदुओं को और मज़बूत करेगी."

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में लोगों की इच्छा का सम्मान करना चाहिए और देश के लोग यहां मंदिर चाहते हैं तो यहां मंदिर ज़रूर बनेगा.

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक अयोध्या के संत समाज की प्रतिक्रिया है कि अगर उद्धव दर्शन के लिए आए हैं तो ठीक है, मगर इसे राजनीतिक अखाड़ा न बनाएं. वहीं, मुस्लिम समाज ने इसे क़ानून का 'मजाक उड़ाना' बताया है.

पति को पेड़ से बांधकर महिला से गैंगरेप

Image caption सांकेतिक तस्वीर

उत्तर प्रदेश के रामपुर में पति के साथ जा रही एक महिला से गैंगरेप का मामला सामने आया है. 11 जून की इस घटना का वीडियो भी वायरल हो गया है. अमर उजाला की एक रिपोर्ट के मुताबिक अभियुक्तों ने पति को पेड़ से बांध दिया और उसके सामने ही पत्नी से गैंगरेप किया.

सहमे हुए दंपती ने घटना की जानकारी पुलिस को नहीं दी. इसी बीच वीडियो वायरल होने के बाद वो पुलिस अधीक्षक से मिले और मामला दर्ज कराया. अभी तक इस मामले में कोई अभियुक्त गिरफ़्तार नहीं हो सका है. हालांकि पुलिस का कहना है कि गैंगरेप की पुष्टि नहीं हुई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमर उजाला की ख़बर के मुताबिक़ कालेधन के खिलाफ कार्रवाई की दिशा में स्विस बैंक खाताधारकों पर शिकंजा कसना शुरू हो गया है.

स्विस बैंक ने 50 भारतीय के नाम सार्वजनिक किए हैं जिनका धन वहां जमा है. स्विस अधिकारियों ने कहा कि कुछ सालों से वह कालेधन की पनाहगाह वाली छवि को सुधारने के लिए काम कर रहे हैं.

स्विस सरकार ने कुछ लोगों के पूरे नाम की जगह केवल शुरुआती अक्षर बताए हैं, साथ ही कुछ लोगों के पूरे नाम भी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए