कौन हैं फ़रार सांसद अतुल राय, शपथ लेने नहीं पहुंचे पर फ़ेसबुक पर सक्रिय

  • 18 जून 2019
अतुल राय इमेज कॉपीरइट Facebook/Atul Rai

संसद के मानसून सत्र के पहले दिन सोमवार को 17वीं लोकसभा के निर्वाचित सांसदों ने संसद भवन में शपथ ली लेकिन उत्तर प्रदेश की घोसी लोकसभा सीट से बसपा सांसद अतुल राय शपथ लेने नहीं पहुंचे.

अतुल राय बलात्कार के एक मामले में अभियुक्त हैं और महीने भर से फ़रार हैं. उत्तर प्रदेश पुलिस अब तक उन्हें खोज नहीं सकी है लेकिन वह फ़ेसबुक पर अपने वीडियोज़ पोस्ट करते रहे हैं.

उन्होंने अब तक सरेंडर नहीं किया है हालांकि अग्रिम ज़मानत की उनकी याचिका सुप्रीम कोर्ट भी ख़ारिज़ कर चुका है. मई में उनके ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया गया था. इसलिए वह ठीक से चुनाव प्रचार भी नहीं कर सके, न ही मतदान और नतीजों के दिन दिखाई दिए. इसके बावजूद उन्हें बड़े अंतर से जीत मिली है. उन्होंने भाजपा उम्मीदवार हरिनारायण राजभर को एक लाख 22 हज़ार मतों से हराया.

इमेज कॉपीरइट Facebook/Atul Rai

इस बीच पुलिस प्रशासन भी उन्हें खोज नहीं पाया है लेकिन चुनाव जीतने के बाद 24 मई को अपने फ़ेसबुक अकाउंट पर जीत के लिए मतदाताओं को शुक्रिया कहना वह नहीं भूले.

उन्होंने फ़ेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट किया. इसमें वह कहते नज़र आ रहे हैं, "जनता की अदालत से बड़ी कोई अदालत नहीं होती और जनता की अदालत ने अपने इस बेटे को, अपने इस भाई को निर्दोष साबित किया, इसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद मैं आपका अदा करता हूं."

उन्होंने मतदाताओं से वादा किया कि वे जल्द उनके सामने हाज़िर होंगे.

अतुल राय अपना प्रचार नहीं कर सके थे लेकिन 15 मई को सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती ने घोसी में रैली करके उनके लिए वोट मांगे थे. मायावती ने कहा था कि उनके उम्मीदवारों को बदनाम करने के लिए भाजपा साज़िश रच रही है.

इमेज कॉपीरइट Facebook/Atul Rai

बलिया की एक महिला ने अतुल राय पर अपने घर में उनसे बलात्कार करने का आरोप लगाया है. इसके बाद न्यायिक मजिस्ट्रेट ने उनकी गिरफ्तारी के आदेश दिए. ज़मानत के लिए वह हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक गए लेकिन ज़मानत नहीं मिली. अतुल राय के ख़िलाफ़ लुक आउट नोटिस जारी हुआ है और देश भर के हवाई अड्डों पर इस संबंध में अलर्ट जारी किया गया है.

इससे पहले 20 मई को उन्होंने फ़ेसबुक पर एक और वीडियो पोस्ट किया था. इसमें अतुल राय ने कहा था, "जांच में वो युवती मेरा घर तक नहीं दिखा पाई. वो यह तक नहीं दिखा पाई कि किस अपार्टमेंट में मेरा फ्लैट है."

उत्तर प्रदेश के 2017 विधानसभा चुनाव से पहले अतुल राय बसपा में शामिल हो गए थे. उन्हें जमानियां विधानसभा से टिकट दिया गया लेकिन वह भाजपा उम्मीदवार से हार गए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे