लोकसभा में सांसदों के बीच नारों का मुक़ाबला- प्रेस रिव्यू

  • 19 जून 2019
असदुद्दीन ओवैसी

सत्रहवीं लोकसभा के पहले सत्र के दूसरे दिन मंगलवार को नवनिर्वाचित सासंदों के साथ हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी शपथ ली. इस दौरान कुछ सांसदों ने जय श्रीराम और वंदे मातरम के नारे लगाए.

जनसत्ता की ख़बर के मुताबिक़ ओवैसी ने हाथ से इशारा करते हुए और तेज नारे लगाने को कहा.

उन्होंने शपथ से पहले कहा कि उम्मीद है सांसद संविधान और मुज़फ़्फ़रपुर में बच्चों की मौत को भी याद रखेंगे. शपथ पूरी होने के बाद ओवैसी ने जय भीम-जय मीम, अल्लाह हू अकबर और जय हिंद का नारा लगाया.

उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज ने मंगलवार को संस्कृत में शपथ ली. शपथ के बाद उन्होंने भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारे लगाए. इसी दौरान संसद में मौजूद कुछ सांसदों ने मंदिर वहीं बनाएंगे के नारे भी लगाए.

तृणमूल कांग्रेस के नेता जब शपथ लेने आए तो उन्होंने 'जय श्रीराम' के नारों का जवाब जय काली और जय दुर्गा से दिया.

मथुरा से बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने भी शपथ लेने के बाद 'राधे-राधे' और श्रीकृष्ण की तारीफ़ में श्लोक सुनाया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आर्थिक आरक्षण पर शिक्षकों की भर्तियों में असमंजस

हिंदुस्तान अख़बार की रिपोर्ट के मुताबिक़ आर्थिक आरक्षण पर जारी एक आदेश से देशभर के उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों की भर्ती को लेकर फिर पेंच फंस गया है.

संस्थान इस असमंजस में हैं कि नई आरक्षण व्यवस्था सभी नियुक्तियों पर लागू होगी या सिर्फ असिस्टेंट प्रोफ़ेसर की भर्ती इसके अनुसार की जाएगी.

अब तक आरक्षण सिर्फ असिस्टेंट प्रोफ़ेसर स्तर पर लागू होता था लेकिन दो साल पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने संस्थानों में विभागवार आरक्षण लागू करने का फैसला दिया था.

इसके बाद केंद्र सरकार ने अध्यादेश लाकर उसमें बदलाव किया और सात मार्च को मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने नियुक्तियों के लिए नया आदेश जारी कर दिया.

आदेश के मुताबिक 'शिक्षकों के स्वीकृत पदों की संख्या' के अनुसार आरक्षण का उल्लेख कर दिया गया. असिस्टेंट प्रोफ़ेसर, एसोसिएट प्रोफ़ेसर और प्रोफ़ेसर तीनों ही इस श्रेणी में आते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बिहार में बच्चों की मौत का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

बिहार में एंसिफलाइटिस से हो रही बच्चों की मौत का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल हुई जिसमें राज्य और केन्द्र सरकार को इलाज के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिये जाने की मांग की गई है.

दैनिक जागरण के अनुसार इस याचिका पर बुधवार को कोर्ट से शीघ्र सुनवाई की मांग भी हो सकती है.

याचिका मे कहा गया है कि बिहार सरकार बीमारी को फैलने से रोकने में नाकाम रही है इसलिए कोर्ट और केन्द्र सरकार मामले में दखल दे. बिहार सरकार और केन्द्र सरकार को निर्देश दिया जाए कि वह प्रभावितों के इलाज के लिए बिहार मे करीब 500 आईसीयू और मोबाइल आइसीयू की व्यवस्था करे.

इसमें ये भी मांग की गई है कि बिहार सरकार को निर्देश दिया जाए कि वह आदेश जारी करे जिसमें निजी अस्पतालों को बीमार बच्चों का मुफ्त में इलाज करने को कहा जाए.

इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीका में बढ़ रहे हैं गैर-कानूनी रूप से रहने वाले भारतीय

नवभारत टाइम्स में ख़बर है कि अमरीका में भारतीय मूल के लोगों की आबादी 2010 से 2017 के बीच 38 फीसदी बढ़ी है.

अमरीका में गैरकानूनी ढंग से रहने वाले भारतीयों की आबादी 2010 से 72 प्रतिशत बढ़कर 6 लाख 30 हज़ार हो गई है.

वीज़ा खत्म होने के बावजूद बड़ी संख्या में प्रवासी भारतीयों के रहने से ऐसे लोगों की संख्या बढ़ी है.

साउथ एशियन अमेरिकन लीडिंग टुगेदर (SAALT) नाम के ग्रुप ने हालिया रिपोर्ट में यह दावा किया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ममता बनर्जी : भाजपा में शामिल होने वाले नेता तृणमूल का कचरा

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के भाजपा में शामिल होने को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को भाजपा पर निशाना साधा.

ममता ने कहा कि "तृणमूल कमजोर पार्टी नहीं है, 15-20 पार्षद पैसा लेकर पार्टी छोड़ देते हैं तो मुझे परवाह नहीं".

उन्होंने कहा कि भ्रष्ट और लालची भाजपा तृणमूल के कचरे को इकट्ठा कर रही है.

मंगलवार को बनगांव से तृणमूल विधायक विश्वजीत दास, 12 पार्षद और कांग्रेस के प्रवक्ता प्रसन्नजीत घोष मंगलवार को भाजपा में शामिल हुए.

इससे पहले सोमवार को तृणमूल के नौपारा से विधायक सुनील सिंह की अगुआई में 12 पार्षदों ने दिल्ली में भाजपा की सदस्यता ली थी.

लोकसभा चुनाव के बाद तृणमूल के 5 विधायक और 50 से ज़्यादा पार्षद भाजपा में शामिल हो चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए