नरेंद्र मोदी ने झारखंड में तबरेज़ अंसारी की हत्या पर क्या कहा

  • 26 जून 2019
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट RSTV

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर राज्यसभा में धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन संबोधित किया. अपने भाषण में नरेंद्र मोदी ने झारखंड में तबरेज़ अंसारी नाम के युवक की हत्या के वाक़ये का भी ज़िक्र किया.

इससे पहले राज्यसभा में विपक्ष के नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए इस हत्या का हवाला दिया था. मोदी ने कहा कि विपक्ष झारखंड के बारे में कह रहा है कि यह प्रदेश मॉब लिंचिंग का अड्डा बन गया है.

प्रधानमंत्री ने कहा, ''विपक्ष कह रहा है कि झारखंड मॉब लिंचिंग का अड्डा बन गया है. हमें युवक की मौत का दुख है. दोषियों को कड़ी से कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए. लेकिन क्या इसके लिए पूरे झारखंड को बदनाम करना ठीक है? इससे किसी का भला नहीं होगा. अपराध होने पर उचित क़ानून और संविधान के दायरे में कार्रवाई करनी चाहिए.''

मोदी ने कहा, ''दुनिया में आतंकवाद को गुड और बैड के नज़रिए से नहीं देखना होगा. हिंसा को हम अलग-अलग चश्मे से नहीं देख सकते हैं. मानवता के प्रति हमारी संवेदनशीलता रहनी चाहिए. हम केरल और पश्चिम बंगाल की हिंसा को अलग-अलग नज़रिए से नहीं देख सकते. जिसने यह काम किया है उसे कड़ी से कड़ी सज़ा मिले.''

प्रधानमंत्री ने कहा, ''मैं समझता हूं कि राजनीतिक चश्मे उतारकर देखना चाहिए. अगर ऐसा करेंगे तो उज्ज्वल भविष्य नज़र आएगा. जिन लोगों ने दिल्ली की सड़कों पर गले में टायर लटका कर सिखों को जला दिया था और उनमें संदिग्ध रहे कई लोग संवैधानिक पदों पर बैठे हैं.''

मोदी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए ग़ालिब का एक शेर कहा-

ताउम्र ग़ालिब यह भूल करता रहा

धूल चेहरे पर थी आईना साफ़ करता रहा

मोदी ने बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में चमकी बुखार का भी ज़िक्र किया. पीएम ने कहा कि यह हमारे लिए यह शर्मिंदगी की बात है. प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके लिए सबको मिलकर काम करना होगा. उन्होंने कहा कि आज बिहार में है कल किसी और राज्य में हो सकता है. मोदी ने कहा कि इस बीमारी पर काबू पाने के लिए पोषण और टीकाकरण पर ध्यान देना होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे