क्या ये ‘लव-जिहाद’ का शिकार हुई लड़की की तस्वीर है? फ़ैक्ट चेक

  • 23 जुलाई 2019
सोशल मीडिया इमेज कॉपीरइट SM Viral Photo

दक्षिणपंथी रुझान वाले कई बड़े फ़ेसबुक ग्रुप्स में तीन लड़कियों की एक तस्वीर बेहद भ्रामक दावे के साथ शेयर की जा रही है.

फ़ेसबुक और ट्विटर पर 50 हज़ार से ज़्यादा बार शेयर की गई इस तस्वीर के साथ ये दावा किया जा रहा है कि 'जो लड़की कुछ दिन पहले गंगा-जमुनी तहज़ीब का हवाला देकर रोज़ा रख रही थी, उसके मुस्लिम पति ने अब उसकी पिटाई कर दी.'

हमने पाया कि सोशल मीडिया पर इस तस्वीर को पोस्ट करते हुए लोगों ने '#Love_जिहाद_का_मज़ा' हैशटैग का इस्तेमाल किया है और साथ में एक लंबा संदेश लिखा है.

'नमो भक्त' नाम के एक फ़ेसबुक ग्रुप में इस तस्वीर के साथ लिखा गया है, "आपको याद होगा रमज़ान महीने में ये ख़बर ख़ूब चली थी कि शिवानी और रिया नामक हिन्दू बेटियों ने हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल दी. अरे क्यों दी, ये भी तो बताते? जिस शिवानी ने पहले रोज़ा रखा, आज उसके मज़हबी पति ने उसकी पिटाई कर दी. लव-जिहाद हुआ था मज़हबी से शिवानी का, अब भुगत रही है. उम्मीद है जल्दी ही रिया का भी ऐसा कोई फ़ोटो आए तो अचरज मत करना."

इमेज कॉपीरइट SM Viral Post
Image caption बीबीसी के सौ से ज़्यादा पाठकों ने वॉट्सऐप के ज़रिए यही फ़ोटो हमें भेजी है और इसकी सच्चाई जाननी चाही है

इस तस्वीर की पड़ताल के बाद हमने सोशल मीडिया पर किए जा रहे सभी दावों को ग़लत पाया है.

जाँच में हमें पता चला कि पोस्ट में दिख रही 'अख़बार की कटिंग' यानी ऊपर वाली तस्वीर भारत की है, जबकि वायरल पोस्ट में नींचे वाली तस्वीर पाकिस्तान की है.

'शिवानी और रिया का रोज़ा'

मध्य प्रदेश से प्रकाशित होने वाले 'दैनिक भास्कर' अख़बार में यह ख़बर 4 जून 2019 को छपी थी.

अख़बार के अनुसार यह ख़बर मध्य प्रदेश के मालवा मंडल में पड़ने वाले शाजापुर कस्बे की है जहाँ हिन्दू समुदाय की दो लड़कियों ने रमज़ान के आख़िरी दिन रोज़ा रखकर हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल पेश की थी.

इमेज कॉपीरइट Dainik Bhaskar

कुछ स्थानीय टीवी चैनलों ने भी यह रिपोर्ट दिखाई थी. इनमें दोनों लड़कियों को कहते सुना जा सकता है कि उन्होंने मन की शांति के लिए और दोनों धर्मों में एकता का संदेश देने के लिए रोज़ा रखा था.

इन मीडिया रिपोर्ट्स में दोनों लड़कियों की उम्र 16 वर्ष बताई गई थी. इन रिपोर्ट्स में दोनों लड़कियों में से किसी के भी शादीशुदा होने का ज़िक्र हमें नहीं मिला.

लेकिन हिंसा की शिकार जिस महिला की तस्वीर इनमें से एक शिवानी की बताई जा रही है, उनका चेहरा आपस में मेल नहीं खाता.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Post

दूसरी तस्वीर का सच

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि ये शिवानी नाम की एक लड़की की तस्वीर है जो कथित लव-जिहाद का शिकार हो गई हैं.

इन दावों के अनुसार इन्होंने ही कुछ दिन पहले हिन्दू-मुस्लिम एकता के लिए रोज़ा रखा था और अब इनके पति ने इनकी पिटाई कर दी है.

लेकिन यह पूरी तरह झूठ है क्योंकि तस्वीर में दिख रहीं घायल महिला पाकिस्तान के लाहौर शहर में रहने वाली हाजरा बीबी हैं.

उनकी यह तस्वीर मार्च 2019 में पाकिस्तान के सोशल मीडिया में वायरल हो गई थी.

इमेज कॉपीरइट Twitter

सबा आलम नाम की एक ट्विटर यूज़र ने लिखा था, "पाकिस्तान के लाहौर में घरेलू हिंसा का एक और मामला. पुलिस ने पत्नी पर ज़ुल्म करने वाले शख़्स को दहेज की मांग करने और घरेलू हिंसा करने के जुर्म में गिरफ़्तार कर लिया है. पीड़ित महिला के वायरल वीडियो में दिखता है कि उनके मुँह से कितना ख़ून निकल रहा है."

मार्च 2019 में घरेलू हिंसा के कई अन्य मामले भी सामने आए थे और पाकिस्तान के सोशल मीडिया में इनकी काफ़ी चर्चा हुई थी. उस वक़्त हाजरा बीबी की ये तस्वीर भी सोशल मीडिया पर काफ़ी शेयर की गई थी.

उस वक़्त की मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हाजरा बीबी ने पुलिस को दी तहरीर में ये दावा किया था कि उनके पति उमर नूरानी और ससुराल के अन्य लोगों ने मिलकर दहेज के लिए उनकी पिटाई की है.

23 मार्च 2019 को इस मामले में लाहौर पुलिस ने एफ़आईआर दर्ज की थी. पुलिस के अनुसार 13 मार्च 2019 को हाजरा बीबी के साथ घरेलू हिंसा की ये घटना हुई थी.

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार